ED Raid Chhatisgarh: छत्तीसगढ़ में आईएएस के घर मिली अकूत संपत्ति

Share

ED Raid Chhatisgarh: ईडी ने छापे के बाद बरामद किए चार किलो सोने, 20 कैरेट हीरे के जेवरात के अलावा नकदी 47 लाख बरामद किए, एक सप्ताह के लिए पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया गया

ED Raid Chhatisgarh
सांकेतिक ग्राफिक डिजाईन टीसीआई।

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कारोबारी और ब्यूराक्रेसी के सांठगाठ का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां ईडी की टीम ने छापेमार (ED Raid Chhattisgarh) कार्रवाई की थी। जिसके बाद चार किलो सोना, 20 कैरेट ​हीरा और 47 लाख रूपए नकद ईडी ने बरामद किए हैं। यह सामग्री छत्तीसगढ़ कैडर के आईएएस समीर विश्नोई (IAS Samir Vishnoi) के ठिकाने से मिली है। उन पर आरोप है कि वे तीन कोयला कारोबारियों को मदद पहुंचा रहे थे। बरामद सोने की कीमत दो करोड़ से अधिक की बताई जा रही है। पूछताछ के लिए ईडी ने आईएएस अधिकारी को एक सप्ताह के लिए पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। मतलब साफ है कि आईएएस के रास्ते एक बार फिर छत्तीसगढ़ सरकार में भूपेश बघेल की किरकिरी होना तय है। वह भी तब जब भारत जोड़ने के लिए राहुल गांधी यात्रा निकाल रहे हैं।

आईएएस की पत्नी ने मुख्यमंत्री से मांगी मदद

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार ईडी ने कोयला व्यापारियों में सूर्यकांत तिवारी (Suryakant Tiwari) के चाचा लक्ष्मीकांत तिवारी (Laxmikant Tiwari) और सुनील अग्रवाल को हिरासत में लिया है। वहीं सूर्यकातं तिवारी (Suryakant Tiwari) फरार बताया जा रहा है। तीनों को गिरफ्तारी मनी लॉन्ड्रिंग केस में की गई है। वहीं दूसरी ओर समीर विश्नोई की पत्नी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) से मुलाकात की है। उनकी पत्नी ने सीएम को दिए पत्र में ईडी पर गैरकानूनी ढंग से काम करने का आरोप लगाया है। कहा कि ईडी के अफसर जबरदस्ती घुस आए और पूछने पर डराने धमकाने लगे। दबाव बनाकर दस्तावेज में साइन कराए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि ईडी अफसरों ने उन्हें फंसाने की धमकी दी। प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने रायपुर के सयाजी होटल में अपना कैंप ऑफिस बना रखा है। यहीं पर अफसरों से पूछताछ की जा रही है। प्रदेश के अलग-अलग जिलों में चल रही कार्रवाई के बीच माइनिंग डायरेक्टर जेपी मौर्य और चिप्स के सीईओ समीर विश्नोई और उनकी पत्नी से कल से ही ईडी पूछताछ कर रही थी।

यह भी पढ़ें:   Chhattisgarh Murder Case: माइक्रो फायनेंस कंपनी एजेंट के सामने पत्नी की हत्या

यह भी पढ़िएः तीन सौ रूपए का बिल जमा नहीं करने पर बिजली काटने के लिए आने वाला अमला, लेकिन करोड़ों रूपए के लोन पर खामोश सिस्टम और सरकार का कड़वा सच

तख्तापलट की अटकलें लगना शुरू

दोनों अफसरों को बुधवार शाम को ही कैंप ऑफिस बुलाया गया था। अब रायगढ़ कलेक्टर को भी इस पूछताछ में शामिल कर लिया गया है। यह भी बताया जा रहा है कि रानू साहू (IAS Ranu Sahu) की मौजूदगी में आज कलेक्टर बंगले की जांच की जाएगी। करीब तीन माह पहले जुलाई में इनकम टैक्स की टीम ने कोयला खनन से जुड़े व्यापारियों के यहां छत्तीसगढ़ के कई जिलों में छापे मारे थे। इनमें कोल व्यापारी सूर्यकांत तिवारी भी शामिल हैं। उनके रायपुर और महासमुंद स्थित मकानों पर कार्रवाई की गई थी। कोरबा के भी कुछ कारोबारियों के ठिकानों पर रेड हुई। इसके बाद सूर्यकांत ने दावा किया था कि इनकम टैक्स अफसर बार-बार उन पर दबाव बना रहे थे कि वह सीएम हाउस से जुड़े अधिकारी का नाम लें तो वह छत्तीसगढ़ के एकनाथ शिंदे बन सकते हैं। यह जानकारी अमर उजाला न्यूज वेबसाइट ने दी है।

Don`t copy text!