रेप के आरोपी को बचाने के लिए महिला थाना प्रभारी ने ली 20 लाख रुपए रिश्वत

Share

Ahmedabad Bribe Case : 35 लाख रुपए में की थी डील, बाकि 15 लाख रुपए के लिए बना रही थी दवाब

Ahmedabad Bribe Case
श्वेता जड़ेजा, गिरफ्तार पीएसआई

अहमदाबाद। (Ahmedabad Bribe Case) गुजरात से भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी (Bribe Case) का बड़ा मामला सामने आया है। यहां एक दुष्कर्म के आरोपी (Rape Accused) को बचाने के लिए महिला सब इंस्पेक्टर (Woman Sub Inspector) ने 20 लाख रुपए की रिश्वत ली थी। रेप के आरोपी को एक केस से बचाने का सौदा 35 लाख रुपए में तय हुआ था। आरोपी का भाई 20 लाख रुपए दे चुका था। बाकि बचे 15 लाख रुपए के लिए महिला थाना प्रभारी दवाब बना रही थी। आरोपी के भाई ने तंग आकर महिला पीएसआई (PSI Shweta Jadeja) के खिलाफ शिकायत कर दी। जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

पासा एक्ट से बचाने मांगी थी रिश्वत

पीएसआई श्वेता जड़ेजा ने आरोपी के खिलाफ एंटी सोशल एक्टिविटी एक्ट (PASA) के तहत मामला न दर्ज करने का वादा किया था। श्वेता जड़ेजा अहमदाबाद पश्चिम के महिला पुलिस थाने की प्रभारी थी। श्वेता ने आरोपी केनाल शाह (Kenal Shah के भाई से 35 लाख रुपए मांगे थे।

बलात्कार के मामले की जांच कर रही थी

2019 में केनाल शाह के खिलाफ बलात्कार का केस दर्ज हुआ था। श्वेता जड़ेजा मामले की जांच कर रही थी। फरियादी ने बताया कि श्वेता जड़ेजा ने वादा किया था कि वो उसके भाई के खिलाफ पासा एक्ट के तहत कार्रवाई नहीं करेगी। पासा एक्ट लगने पर आरोपी को जिले से बाहर की जेल में रखा जाता है।

सिटी क्राइम ब्रांच के द्वारा दर्ज एफआईआर के मुताबिक श्वेता जड़ेजा ने 20 लाख रुपए की रिश्वत लेने की बात कबूल की है। उसने मिडिलमेन की मदद से ये रकम ली थी। जिसके बाद वो 15 लाख रुपए की भी मांग कर रही थी।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Cyber Crime: दो राज्यों से चल रहा था सेक्सटोर्शन गिरोह

शिकायत के मुताबिक फरवरी में जड़ेजा को रिश्वत के 20 लाख रुपए दिए गए थे। जिसके बाद से ही वो फरियादी पर बाकि बची रकम के लिए दवाब बना रही थी।

3 दिन का रिमांड मिला

क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार को श्वेता जड़ेजा को गिरफ्तार किया। पुलिस ने उसके खिलाफ भ्रष्टाचार की धाराओं में मामला दर्ज किया है। श्वेता को शनिवार को कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने 7 दिन की रिमांड मांगी। जिस पर विचार करते हुए कोर्ट ने तीन दिन की रिमांड पर श्वेता को पुलिस के हवाले कर दिया।

पब्लिक प्रोसिक्यूटर सुधीर ब्रह्मभट्ट ने कहा कि पुलिस का मुख्य काम रिश्वत के रूप में ली गई रकम बरामद करना है। ये रकम बिचौलिए की मदद से ली गई थी। बता दें कि रेप का आरोपी शाह एक क्रॉप सॉल्यूशन कंपनी का मालिक है। उसके खिलाफ दुष्कर्म के दो मामले चल रहे है। इनमें से एक की जांच श्वेता जड़ेजा कर रही थी।

यह भी पढ़ेंः चार दिन में नहीं टिकी लव मैरिज, जोड़े ने दी जान

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Delhi Riots : 4 इलाकों में कर्फ्यू जैसे हालात, दंगाईयों को देखते ही गोली मारने का आदेश
Don`t copy text!