ATM Loot: अलवर में 3 मिनट के भीतर 13 लाख रुपए की रॉबरी

Share

भरे बाजार लगे यूनाइटेड बैंक के एटीएम को काटकर रकम लूटी, वारदात से पहले कैमरे में लगाया स्प्रे, नाकेबंदी के बावजूद बदमाशों का नहीं लगा सुराग

ATM Loot
सांकेतिक चित्र

अलवर। बिहार (Bihar) में गोल्ड लूटने (Gold Robbery) की घटना को अभी दो दिन नहीं बीता था कि इधर, राजस्थान (Rajsthan) के अलवर (Alwar) में एटीएम लूट (ATM Loot) की सबसे बड़ी वारदात हो गई। लुटेरों ने महज तीन मिनट के भीतर एटीएम से 13 लाख रुपए लूट लिए थे। वारदात करने से पहले बदमाशों ने एटीएम के कैमरों पर स्प्रे लगा दिया था। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है लेकिन, आरोपियों का कोई सुराग नहीं लग सका है।

घटना अलवर के नीमराना कस्बे की है। यहां मुख्य बाजार में स्थित मॉल में यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के एटीएम को बदमाशों ने निशाना बनाया था। बदमाश पूरा एटीएम ही उखाड़ ले गए थे। जिसमें डीवीआर इनबिल्ड था। इस कारण उसकी फुटेज पुलिस को नहीं मिल सकी है। पुलिस ने मौके पर फिंगर प्रिंट विशेषज्ञों को बुलाकर जांच कराई है। पुलिस को शक है कि वारदात करने वाला गिरोह अंतरराज्यीय हो सकता है। इसलिए आस—पास जिलों से एटीएम लूटने वाले गिरोह की जानकारियां जुटाई जा रही है। पुलिस को प्राथमिक जांच में पता चला है कि एटीएम के बाहर लगा कैमरा खराब था। जिस कारण उसके फुटेज पुलिस को नहीं मिल सके। बदमाश पिकअप पर सवार होकर आए थे। वारदात रात साढ़े तीन बजे अंजाम दी गई। पिकअप महज तीन मिनट ही वहां रूकी थी।

सर्जरी के बावजूद लापरवाही
एटीएम लूट की इस घटना से पुलिस के अफसरों की कलई खुल गई है। दरअसल, नीमराना इलाका कुछ महीने पहले ही सुर्खियों में आया था। यहां का पूरा स्टाफ डीजीपी ने बदल दिया था। यह कार्रवाई बहरोड़ थाने से विक्रम उर्फ पपला गुर्जर को छुड़ा ले जाने के बाद की गई थी। विक्रम को छुड़ाने के लिए उसके साथ एके—47 की गोलियां बरसाकर ले गए थे।

यह भी पढ़ें:   Neemuch Jail Brake : जेल ब्रैक में चार नहीं चौदह लोग थे शामिल जिनमें दो जेल प्रहरी भी
Don`t copy text!