‘भाजपा नेता के सौजन्य से हुआ विकास दुबे का सरेंडर’

Share

Vikas Dubey : विकास दुबे गिरफ्तार किया गया या सरेंडर (Surrender) किया ? उठ रहे सवाल

Vikas Dubey Surrender
पुलिस गिरफ्त में विकास दुबे

उज्जैन। मध्यप्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर से हुई मोस्ट वांटेड विकास दुबे की गिरफ्तारी (Vikas Dubey Arrest) पर सवाल उठने लगे है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के बाद अब राज्यसभा सांसद दिग्विवजय सिंह (Digvijaya Singh) ने सनसनीखेज सवाल उठाए है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने इस मामले को प्रायोजित सरेंडर (Surrender) बताया है। साथ ही किसी वरिष्ठ भाजपा नेता की तरफ भी इशारा किया है। वहीं कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने गंभीर आरोप लगाए है। पटवारी ने शिवराज सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि ‘मध्यप्रदेश को अपराधियों की शरणस्थली बना दिया गया है। जिसे पूरे देश की पुलिस ढूंढ़ रही हैं, वो मध्यप्रदेश में 2 दिन से रह रहा था। विकास को महाकाल मंदिर के गार्ड ने पकड़ा और वाहवाही सीएम शिवराज लूट रहे है।’ वहीं इस गिरफ्तारी के बाद ट्विटर पर ‘सरेंडर’ ट्रेंड कर रहा है।

दिग्विजय सिंह का सवाल

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया कि- ‘यह तो उत्तरप्रदेश पुलिस के एनकाउंटर से बचने के लिए प्रायोजित सरेण्डर लग रहा है। मेरी सूचना है कि मध्यप्रदेश भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के सौजन्य से यह संभव हुआ है। जय महाकाल।’

8 पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी विकास दुबे की गिरफ्तारी के साथ ही सवाल उठने शुरु हो गए है। सबसे पहले उसे महाकाल मंदिर के सिक्योरिटी गार्ड ने पहचाना। जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। लेकिन मध्यप्रदेश सरकार इसे पुलिस की बड़ी कामयाबी बता रही है। बताया जा रहा है कि इंटेलिजेंस के इनपुट के चलते विकास दुबे दबोचा गया है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी बताया कि पुलिस अलर्ट पर थी।

यह भी पढ़ें:   Volkswagen: इस कार कंपनी को मिली सुप्रीम कोर्ट से राहत, एनजीटी ने लगाया था 500 करोड़ जुर्माना

सुनिए जीतू पटवारी ने क्या कहा

अखिलेश यादव का ट्वीट

वहीं इस मामले में सोशल मीडिया पर बहस शुरु हो गई है। सपा नेता अखिलेश यादव ने भी गिरफ्तारी पर सवाल उठाए है। उन्होंने लिखा कि- ख़बर आ रही है कि ‘कानपुर-काण्ड’ का मुख्य अपराधी पुलिस की हिरासत में है. अगर ये सच है तो सरकार साफ़ करे कि ये आत्मसमर्पण है या गिरफ़्तारी. साथ ही उसके मोबाइल की CDR सार्वजनिक करे जिससे सच्ची मिलीभगत का भंडाफोड़ हो सके।

वहीं सोशल मीडिया पर विकास की गिरफ्तारी पर सवाल उठ रहे है। ट्विटर पर सरेंडर ट्रेंड कर रहा है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता दुर्गेश शर्मा ने लिखा कि- विकास दुबे ने महाकाल मंदिर में सरेंडर करते हुए गिरफ्तारी दी। मध्यप्रदेश अपराधियों की शरणस्थली बन गया है। बिना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के मंदिर में एंट्री नहीं है तो विकास दुबे मंदिर में कैसे पहुंचा।

कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह का ट्वीट

गैंगस्टर विकास दुबे उज्जैन में महाकाल मंदिर में एक घंटे पूजा करने के बाद स्वयं गिरफ्तार किया गया।इसके तार मप्र में किन नेताओं से किन महा “ज्ञानियों” से जुड़े हैं,जनता जानना चाहती है

कमलनाथ ने कहा- ये साजिश है

‘यूपी के कानपुर के कुख्यात गैंगस्टर , 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी विकास दुबे के उज्जैन में महाँकाल मंदिर में ख़ुद सरेंडर करने की घटना की उच्चस्तरीय जाँच होना चाहिये। इसमें किसी बड़ी सियाशी साज़िश की बू आ रही है।

इतने बड़े इनामी अपराधी के जिसको पुलिस रात- दिन खोज रही है,उसका कानपुर से सुरक्षित मध्यप्रदेश के उज्जैन तक आना और महाँकाल मंदिर में प्रवेश करना और ख़ुद चिल्ला- चिल्लाकर ख़ुद को गिरफ़्तार करवाना,कई संदेह को जन्म दे रहा है,किसी संरक्षण की और इशारा कर रहा है,इसकी जाँच होना चाहिये

यह भी पढ़ें:   कांग्रेस नेताओं ने गंगा जल से किया महाकाल मंदिर का शुद्धिकरण

हमने हमारी सरकार में माफ़ियाओ के ख़िलाफ़ सतत बड़ा अभियान चलाया , जिसके कारण माफिया प्रदेश छोड़कर चले गये और अब भाजपा सरकार आते ही माफिया वापस प्रदेश लौटने लगे है।प्रदेश माफियाओ की सुरक्षित शरणस्थली बनता जा रहा है।’

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!