एमपी का ऑक्सीजन टैंकर यूपी पुलिस ने किया अगवा

Share

MP Oxygen Crisis: मीडिया में आई जानकारी तो सक्रिय हुई सरकार, एक घंटे बाद आरोपों का खंडन किया

MP Oxygen Crisis
भोपाल भेल गेट के बाहर लगभग आधा किलोमीटर तक लगी लंबी लाइन का नजारा। यह स्थिति आज भी बरकरार है। File Photo

भोपाल। पूरे देश में ऑक्सीजन को लेकर मारामारी की खबरें चल रही हैं। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार केंद्र पर असहयोग करने का आरोप लगा रही है। वहीं भाजपा के नेता मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर ऑक्सीजन के नाम पर गंदी राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं। इन सबके बीच ऑक्सीजन को लेकर रविवार को एमपी (MP Oxygen Crisis) और यूपी की सरकार आमने-सामने हो गई। दरअसल, बोकारो से निकले ऑक्सीजन के टैंकर को यूपी पुलिस के जवानों ने अगवा कर लिया। यह बात जब मीडिया में सामने आई तो सरकार सक्रिय हुई। इससे पहले इस विषय को लेकर अफसर कमरों के भीतर टैंकर वापस लाने के लिए जूझते रहे।

सागर आ रहा था ऑक्सीजन टैंकर

जानकारी के अनुसार ऑक्सीजन टैंकर क्रमांक यूपी-78-बीटी-5404 जो रिमझिम इस्पात लिमिटेड झांसी का था। इस टैंकर को बोकारो से वाराणासी, मिर्जापुर, हनुमना, रीवा, कटनी, दमोह होते हुए सागर आना था। यह टैंकर शनिवार शाम पांच बजे बोकारो से चला था। टैंकर का वाहन चालक अतीक अहमद था। उसे यूपी जीआरपी के पुलिस कर्मचारियों ने रोक लिया। ऑक्सीजन टैंकर में एक पुलिसकर्मी को बैठाकर उसको स्क्वायड करके वापस झांसी ले जाया जाने लगा। इस संबंध में जानकारी सागर कलेक्टर को भी मिल गई थी। जिसकी खबर उन्होंने आईएएस अधिकारी पी नरहरि को दे दी थी। यूपी पुलिस टैंकर छोड़ने को राजी नहीं थी। इस बीच देर रविवार शाम यह पूरा मामला मीडिया के सामने आ गया। जिसके बाद एमपी की सरकार सक्रिय हुई।

यह भी पढ़ें:   Viral Video: फरीदाबाद की घटना एमपी की पुलिस परेशान

यह भी पढ़ेः एमपी के सरकारी आयोजन में टीचर ने ऑक्सीजन को लेकर ऐसा दिया सुझाव, अफसरों को लगा नेशनल न्यूज न बन जाए इसलिए आगे बोलने से रोका

सागर में बिगड़े हैं हालात

MP Oxygen Crisis
अस्पताल का निरीक्षण करते मंत्री गोपाल भार्गव- File Photo

मंत्री गोपाल भार्गव ने पिछले दिनों एमपी सरकार की योजनाओं की पोल खोल दी थी। दरअसल, उन्होंने एक डॉक्टर को भर्ती करने के लिए विज्ञापन निकाला था। इस बीच यूपी पुलिस के टैंकर को अगवा करने के मामले की खबर ने एयरलिफ्ट करके लाए जा रहे टैंकर के अच्छे काम में पानी फेर दिया। रविवार रात एमपी के अफसर सक्रिय हुए। इस पूरे मामले में रविवार रात लगभग आठ बजे एसीएस गृह राजेश राजौरा मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया में वायरल ऑक्सीजन टैंकर की खबर निराधार है।

यह भी पढ़ेः गर्लफ्रेंड नर्स और ब्यॉयफ्रेंड की हरकतों की वजह से बेखबर कोविड संक्रमित मरीजों की मुश्किल में आ गई जान

इस चैनल ने ब्रैक की खबर

MP Oxygen Crisis
संवाददाता जिन्होंने सबसे पहले यह खबर दिखई तो हरकत में आई सरकार

झांसी कलेक्टर एमपी के बॉर्डर पर सोमवार सुबह ऑक्सीजन टैंकर को सागर संभाग के अफसरों को सौंपेगे। इस संबंध में खबर ब्रैक करने वाले आईबीसी24 चैनल के संवाददाता सत्येन्द्र सिंह भदौरिया (Satendra Singh Bhadouriya) ने ऑक्सीजन टैंकर की खबर से सत्यता से संबंधित जानकारी भी साझा की। उन्होंने बताया कि अफसर सुबह से कोई हरकत नहीं कर रहे थे। खबर दिखाने के बाद अफसर सक्रिय हुए।

Don`t copy text!