MP Horse Trading: राजनीतिक भूचाल में गई डीजीपी की कुर्सी, तत्काल प्रभाव से हटाया

Share

विवेक जौहरी होंगे अगले डीजीपी, गुप्तचर सूचनाओं के फेल होने पर फूटा ठीकरा, जौहरी के पद संभालने तक राजेन्द्र सिंह होंगे प्रभारी डीजीपी

MP Police Disputed Order
पदच्युत डीजीपी वीके सिंह

भोपाल। (Bhopal Hindi News) मध्य प्रदेश में आए राजनीतिक भूचाल (Madhya Pradesh Horse Trading) में पुलिस महकमे के मुखिया विजय कुमार सिंह (DGP Vijay Kumar Singh) की कुर्सी चली गई। हालांकि उनकी कुर्सी जाने की खबरें एक पखवाड़े से चल रही थी। जब यह खबर चली थी तब मुख्यमंत्री कमल नाथ (CM Kamal Nath) से बंद कमरे में डीजीपी की मुलाकात हुई थी। उसके बाद हटाने की खबरों पर हल्का विराम लगा था। लेकिन, प्रदेश में उपजे ताजा घटनाक्रम के बाद मुख्यमंत्री ने यह कदम उठा लिया है। बताया जा रहा है इंटेलीजेंस नेटवर्क में पिछड़ने की इसको वजह माना जा रहा है। अगले डीजीपी विवेक जौहरी (Vivek Johri) होंगे। मध्य प्रदेश के डीजीपी विजय कुमार सिंह हटाकर खेल संचालक बना दिया गया है।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के चार विधायक लापता, सरकार रहने या जाने पर सस्पेंस बरकरार

सरकार ने डीजीपी रहे विजय कुमार सिंह को तत्काल प्रभाव से हटा दिया। सरकार ने उन्हें कुर्सी छोड़ने का भी मौका नहीं दिया। सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि जौहरी जब तक कुर्सी नहीं संभालते हैं तब तक राजेन्द्र कुमार प्रभार देखेंगे। राजेन्द्र कुमार एमपी हनी ट्रेप एसआईटी मुखिया भी है। वे फिलहाल सायबर सेल में स्पेशल डीजी है। जानकारी के अनुसार विजय कुमार सिंह 1984 बैच के आईपीएस अफसर हैं। उन्हें जनवरी, 2019 में कांग्रेस सरकार ने ही डीजीपी बनाया था। सिंह विधानसभा चुनाव के दौरान प्रभारी डीजीपी भी रहे थे। सिंह को ऋषि शुक्ला को हटाकर डीजीपी बनाया गया था। हालांकि बाद में ऋषि शुक्ला सीबीआई निदेशक बनाए गए। उसके बाद से डीजीपी विजय कुमार सिंह कुर्सी संभाले हुए थे। डीजीपी राजनीतिक कारणों से कुछ अरसे से विवादों में चल रहे थे। राजगढ़ में कलेक्ट​र निधि निवेदिता की एएसआई पिटाई मामले में हटाने को लेकर किए गए पत्राचार के बाद उन्हें हटाने का हल्ला मचा हुआ था। इधर, पिछले पांच दिनों से चले राजनीतिक घटनाक्रम में डीजीपी विजय कुमार सिंह की मौजूदगी को लेकर सवाल खड़े हो रहे थे। दरअसल, इस सारे घटनाक्रम की खबर मध्य प्रदेश पुलिस के इंटेलीजेंस यूनिट ने मुख्यमंत्री को नहीं दी थी। प्रदेश से 7 विधायक एक साथ दिल्ली चले गए और वे सरकार गिराने और बनाने को लेकर मंथन कर रहे थे। खबर न करने को लेकर यह सवाल खड़े हो रहे थे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

अब नए डीजीपी विवेक जौहरी को बनाया जा रहा है। 1984 बैच के आईपीएस जौहरी इस वक्त बीएसएफ में डीजी हैं। वे प्रतिनियुक्ति पर चल रहे हैं। हालांकि जौहरी सितंबर, 2020 में रिटायर हो जाएंगे। कानूनी जानकारों का कहना है कि रिटायर होने के बाद सरकार उन्हें 6 महीने का एक्सटेंशन दे सकती है। इन सभी बातचीत के बाद जौहरी के नाम पर सहमति बनी हैं। इधर, खबर है कि इस घटनाक्रम के बाद इंटेलीजेंस विंग के कई अफसर लूप लाइन में डाले जाने की भी तैयारी है।

यह भी पढ़ें: सरकार के लिए सिरदर्द बन सकती है कभी भी भोपाल की सेंट्रल जेल, जानिए क्या है वजह

अपील
www.thecrimeinfo.com विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है। हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज www.thecrimeinfo.com के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!