MP Society Scam : Rohit Housing के खिलाफ जालसाजी का मामला दर्ज

Share

तत्कालीन CM शिवराज सरकार के इस चर्चित घोटाले में फंसे है भाजपा के कई नेता

MP Fraud Case
भोपाल स्थित आर्थिक प्रकोष्ठ विंग मुख्यालय

भोपाल। मध्यप्रदेश (#MP Housing Scam) की राजधानी भोपाल (#Bhopal Housing Scam) में गुरुवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamalnath) ने ऐलान किया था कि इंदौर (#Indore Crime) के जीतू सोनी (Jitu Soni) की तरह प्रदेश में फलफूल रहे दूसरे माफियाओं (Organised Crime) की सरकार कमर तोड़कर रख देगी। इस घोषणा के बाद आर्थिक प्रकोष्ठ विंग (Economic Offense Wing) ने मध्यप्रदेश (#Madhya Pradesh Society Scam) की कई सोसायटी को लेकर लंबित जांच के मामलों में से चर्चित रोहित गृह निर्माण सोसायटी (Rohit Frih Nirmaan Samiti) के प्रकरण में मुकदमा दर्ज कर लिया है। ईओडब्ल्यू (EOW) ने इस मामले में जालसाजी, अमानत में खयानत समेत अन्य धारा में प्रकरण दर्ज किया है।

ईओडब्ल्यू से जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार रोहित गृह निर्माण सोसायटी (Rohit Housing Society) का घोटाला (MP Society Scam) करीब 22 करोड़ 70 लाख रुपए का हैं। राजधानी में इस सोसायटी को शाहपुरा इलाके में कई एकड़ जमीन सरकार की तरफ से आवंटित की गई थी। यह इलाका बेहद पॉश कहा जाता है। इस इलाके में प्लॉट बांटने के लिए सोसायटी के अधिकारियों ने जमकर बंदरबाट की थी। जिसकी शिकायत ईओडब्ल्यू में 2009 में की गई थी। इस सोसायटी ने अपात्रों को प्लॉट बांट दिए थे। बताया जाता है कि इसमें तत्कालीन शिवराज सरकार में मंत्री, विधायक और भाजपा सांसदों के रिश्तेदारों को प्लॉट बांट दिए गए थे।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस की सरकार पर पुलिस अफसर को मालूम था कि मामला आरएसएस से जुड़ा है तो खामोश हो गए वह भी कैसे जानिए

यह भी पढ़ें:   #rapist_jalao का असर एमपी में भी दिखने लगा

ईओडब्ल्यू ने इस सोसायटी के दस्तावेजों का परीक्षण 2005 से किया था। सोसायटी के पदाधिकारियों ने प्लॉट के बदले में रकम ड्राफ्ट से ली। फिर उसको अपने निजी काम में इस्तेमाल किया था। इन गड़बड़ियों को छुपाने के लिए सीए, वकील की भी मदद ली गई। सोसायटी के अफसरों ने गृह निर्माण सोसायटी से जुड़े दस्तावेज भी रिकॉर्ड से गायब कर दिए थे। ईओडब्ल्यू ने इस मामले में तुलसीराम चंद्राकर, मोहम्मद आयूब खान, घनश्याम सिंह राजपूत, श्रीकात सिंह (Srikant Singh), केएस ठाकुर, एलएस राजपूत, बसंत जोशी, सुरेन्द्रा, ज्योति तारण, अमरनाथ मिश्रा (Amarnath Mishra), अनिल कुमार, रेवत सहारे, अमित ठाकुर, एमडी सालोडकर, गिरीशचंद्र कांडपाल, अरूण भागोलीवाल, बालकिशन निवावे, सीएस वर्मा, सविता जोशी, सुशीला पुरोहित, रामबहादुर, सीमा सिंह, सुनील चौबे, राकेश प्रताप समेत अन्य को आरोपी बनाया है। आरोपियों में शामिल श्रीकांत सिंह माखनलाल के प्रोफेसर हैं जबकि अमरनाथ मिश्रा विश्वविद्यालय में प्रशासनिक अधिकारी थे। ईओडब्ल्यू ने फिलहाल राजनीतिक चेहरों से जुड़े नाम को अभी उजागर नहीं किया है।

Don`t copy text!