MP Cop Gossip: पूरे घर के बदलने वाले हैं

Share

MP Cop Gossip: पुलिस विभाग की राजनीति थाने तक पहुंची, सबसे बड़ी एजेंसी की साख दांव पर लगी

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश पुलिस विभाग काफी बड़ा होता है। इसमें भीतर ही भीतर बहुत कुछ चल रहा होता है। ऐसे ही बातों का हमारा साप्ताहिक कॉलम एमपी कॉप गॉसिप (MP Cop Gossip) है। हमारा मकसद इन समाचारों के जरिए दबी समझी जा रही बातों को बताना है। हम कतई पद, व्यक्ति अथवा संस्था को लेकर विद्वेष की भावना नहीं रखते हैं।

कई चेहरे किले के रास्ते मारेंगे एंट्री

राजधानी समेत पूरे प्रदेश में फिर बदलने वाले हैं चेहरे। इसकी कवायद शुरु कर दी गई है। इसमें कई पुराने चेहरे अपने किले में वापस लौटना चाहते है। जिसके लिए पॉवर सेंटर का पता लगाकर अपना नेटवर्क बिछाने का काम शुरु कर दिया है। शहर में लंबे अरसे तक जमे रहे एक अफसर इस काम में जुट गए हैं। वे शहर की एक ताकतवर कुर्सी के लिए लॉबिंग कर रहे हैं।

पुलिस लाइन के बाहर कतार लगी

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

इधर, भोपाल पुलिस लाइन में दर्जनों मैदानी कर्मचारियों की कतार लग गई। खबर है कि तीन साल पहले प्रमोशन पाने वाले कार्यवाहक सहायक उप निरीक्षकों (MP Cop Gossip) के तबादले दूसरे जिलों में किए जा रहे हैं। अब तक वे जुगाड़ से थाने में जमे थे। लेकिन, समय प्रतिकूल नहीं रहा तो रवानगी देकर उन्हें दूसरे जिले में भेजा जा रहा है। ऐसे कर्मचारियों की संख्या 200 से अधिक है। सबसे ज्यादा मुश्किलें उन महिला कर्मचारियों को हो रही है जो भोपाल में जमीं हुई थी।

साख की बात

पिछले दिनों पुलिस एजेंसी की एक शाखा में चोरी की वारदात हो गई। जहां यह वारदात हुई उसके ही नजदीक एक दूसरी भी एजेंसी है। जिसको इस घटना की भनक ही नहीं लगी। इधर, खबर है कि चोरी की इस वारदात के पीछे अपना भीतरी आदमी है। जिसका पता लगाकर आला अधिकारियों को खबर भेज दी गई है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Cyber Fraud: कौन बनेगा करोड़पति के नाम पर ठगी

यह भी पढ़िएः तीन सौ रूपए का बिल जमा नहीं करने पर बिजली काटने के लिए आने वाला अमला, लेकिन करोड़ों रूपए के लोन पर खामोश सिस्टम और सरकार का कड़वा सच

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Cop Gossip
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!