MP Honey Trap Case: हवाला कारोबारियों ने अपनी दुकानें समेटी, बाजार में दिखने लगा असर

Share

आयकर इंटेलीजेंस यूनिट भी हुआ सक्रिय, कर चोरों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी में आयकर विभाग

MP Honey Trap Case
दाएं—बाएं श्वेता जैन के बीच में बैठी हुई बरखा सोनी भटनागर, जिन्हें ब्लैकमेलिंग के आरोप में पलासिया थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh)का बहुचर्चित हनी ट्रैप केस (MP Honey Trap Case) कई लोगों के लिए गले की हड्डी बन गया है। खासतौर पर वे जो इस गिरोह (Blackmailing Racket)के शिकार हुए। इन लोगों ने भारी भरकम रकम अपनी सामाजिक प्रतिष्ठा बचाने के लिए दी थी। यह रकम हवाला कारोबारियों (Hawala Traders) की मदद से दी थी। इसके चलते हवाला कारोबारी भी अपनी दुकानें समेटकर भाग गए हैं। इस कारण दशहरा और दीपावली के बाजार में असर दिखना लाजिमी हैं।
दशहरा और दीपावली पर बाजार गुलजार होता है। आधा माल बिल पर तो आधा माल दो नंबर के रास्ते लाया जाता है। इस कारोबार में हवाला कारोबारी (Hawala Traders) बहुत बड़ा रोल अदा करते हैं। लेकिन, यह कारोबारी पिछले एक महीने से गायब हैं। दरअसल, यह वह लोग है ​जो हनी ट्रैप रैकेट (MP Honey Trap Case) से जुड़े थे। इन्हीं लोगों की मदद से हनी ट्रैप रैकेट को भुगतान भी किया गया। इस बात का जिक्र श्वेता जैन के लैटर में भी मिला है। उसने लिखा है कि हवाला के जरिए उसे भोपाल में एक करोड़ रुपए मिले थे। मतलब साफ है कि वह हवाला कारोबारियों (Hawala Traders) के नेटवर्क को भी पहचानती थी। यही वजह उनके लिए भी गले की हड्डी बन गया है। शहर से गायब रहने की वजह से कई कारोबारी दो नंबर में माल भोपाल में उतार नहीं सके।

आयकर विभाग की यह है तैयारी
इधर, आयकर विभाग (Income Tax Department) के सूत्रों से मिली खबर है कि वह ऐसे लोगों की सूची बना रही है जिन्होंने हनी ट्रैप रैकेट (MP Honey Trap Case) को भुगतान किया। इसके लिए वह स्टेट लेवल इंटेलीजेंस यूनिट से संवाद बनाए हुए हैं। मतलब साफ है कि आयकर विभाग आने वाले वक्त में उन रसूखदारों पर लगाम कसेगा जिन्होंने मोटी रकम भुगतान की है। आयकर उन लोगों से उस राशि का जरिया मांग सकता है जो उन्होंने हवाला कारोबारियों के जरिए हनी ट्रैप रैकेट तक पहुंचाई।
क्या है मामला
इंदौर के पलासिया थाने में 17 सितंबर को हरभजन ने शिकायत की थी। उसका कहना था कि उसकी क्लीप बनाकर उसे ब्लैकमेल किया जा रहा है। उससे तीन करोड़ रुपए मांगे जा रहे हैं। पुलिस ने मामला दर्ज करके (MP Honey Trap Case) आरोपी श्वेता स्वप्निल जैन, श्वेता विजय जैन, आरती यादव, मोनिका यादव, बरखा भटनागर और ओम प्रकाश कोरी को गिरफ्तार किया था। आरोपियों की जांच एसआईटी (Special Investigation Team) कर रही है।
यह भी पढ़ें:   MP Honey Trap Case: नेताओं, अफसरों के बाद अब व्यापारी भी फंसे
Don`t copy text!