Bhopal Suicide Case: गरीबी से जूझ रहे परिवार पर आया ऐसा दोहरा संकट

Share

Bhopal Suicide Case: मानसिक रूप से विक्षिप्त युवती ने लगाई फांसी, कफन—दफन के लिए भी नहीं थे पैसे

Bhopal Suicide case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। गरीबी से जूझ रहे एक परिवार पर दोहरा संकट आ गया। परिवार बेटी की बीमारी से परेशान चल रहा था। बेटी की मानसिक हालत खराब थी। उसके इलाज के लिए पैसे नहीं थे। इसी बीच वह फंदे पर झूल (Bhopal Suicide Case) गई। घटना मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल की है। बच्ची के परिजन उसके इलाज के लिए पैसे जमा कर रहे थे। परिवार की माली हालत इतनी खराब है कि अंत्येष्टि भी पुलिस की मदद से की जा सकी। इधर, एक और युवक फंदे पर झूल गया। दोनों मामलों में पुलिस को कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। शव पीएम के लिए हमीदिया अस्पताल भेज दिया गया है।

बचपन में छीना पिता का साया

कोलार थाना पुलिस ने बताया रीना अहिरवार पिता स्वर्गीय कन्हई अहिरवार 18 साल उम्र थी। परिजनों ने बताया वह मूलत: सागर की रहने वाली थी। वह पांच बहन—भाई है। रीना (Reena Ahirwar Suicide Case) चौथे नंबर की थी। इससे छोटा एक भाई और है। पिता काफी समय पहले गुजर गए थे। दोनों बड़ी बहनों की शादी हो चुकी है। घर में मां और दो भाईयों के साथ वह रहती थी। मां और रीना घरों में साफ—सफाई का काम करते थे। बड़ा भाई भी मजदूरी करता है। कुछ समय पहले रीना का मानसिक संतुलन बिगड़ गया था।

यह भी पढ़ें: हुस्न के जाल में ऐसा फंसा सलमान, लुटेरी दुल्हन उसे धमकाकर पैसा छीनती रही

कफन—दफन के नहीं है पैसे

जांच करता एएसआई विनोद द्धिवेदी (ASI Vinod Diwedi) ने बताया रीना अहिरवार मां के साथ घरों में काम करने जाया करती थी। परिजन आर्थिक तंगी की वजह से उसका इलाज नहीं करा पा रहे थे। आज स्थिति यह है कि उसके पास कफन—दफन के पैसे भी नहीं है। मंगलवार रीना काम पर नहीं गई थी। शाम छह बजे परिजनों ने आकर देखा जो वह पंखे में दुपट्टा बांधकर लटकी हुई थी। उन्होंने उसे फंदे से नीचे उतारा। जब तक उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस का कहना है कि अभी परिजनों के विस्तृत बयान लेना बाकी है।

यह भी पढ़ें:   MP Lokayukta Trap : बीआरसी का बाबू रिश्वत लेते दबोचा

एक साल पहले हुई थी शादी

Bhopal Suicide case
सुसाइड करने वाला विक्की मीना

कोलार थाना पुलिस ने बताया एक अन्य जगह फांसी (Bhopal Hanging Case) लगाने का मामला सामने आया है। खुदकुशी करने वाला व्यक्ति विक्की मीना पिता राजू मीना 24 साल है। पिता बस कंडक्टर का काम किया करते थे। तबीयत खराब होने की वजह से उन्होंने काम छोड़ दिया था। वह छोटा मोटा काम काज कर लिया करते है। विक्की भी ड्रायवरी का काम करता है। विक्की (Vicky Meena Suicide Case) इकलौता बेटा था। एक साल पहले परिजनों ने उसकी शादी कराई थी। बुधवार सुबह 6:30 बजे परिजनों ने उसे फंदे पर लटका देखा था। परिजन बंसल अस्पताल (Bansal Hospital) लेकर पहुंचे तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!