Bhopal Cyber Crime: कस्टमर केयर बनकर किया फर्जीवाड़ा

Share

Bhopal Cyber Crime: अवधपुरी में जेपी अस्पताल में तैनात कर्मचारी की बेटी समेत दो व्यक्तियों को ठगा

Bhopal Cyber Crime
अवधपुरी थाना, भोपाल -फाइल फोटो

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की ताजा न्यूज सायबर फ्रॉड (Bhopal Cyber Crime) से संबंधित है। दरअसल, शहर के सात थानों में जालसाजी के चौदह मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इनमें से दो सायबर चीटिंग के केस अवधपुरी थाना पुलिस ने दर्ज किए है। इन दोनों मामलों की जांच पहले सायबर क्राइम ने की थी। इसमें एक मुकदमे में पीएनबी का कस्टमर केयर बनकर तो दूसरे में अमेजन शॉपिंग साइट का अधिकारी बनकर धोखाधड़ी की गई है।

पिता जेपी अस्पताल में तैनात

अवधपुरी थाना पुलिस के अनुसार 31 मई की रात लगभग साढ़े नौ बजे सायबर फ्रॉड का केस दर्ज किया गया है। शिकायत टैगोर नगर फेज—3 निवासी आयुषी सिंह पिता जयप्रकाश सिंह उम्र 18 साल ने दर्ज कराई है। आरोपियों ने उसको एक लिंक भेजी थी। जिसके बाद आयुषी सिंह (Ayushi Singh) के खाते से 39589 रुपए कट गए। जांच एएसआई सोबरल लाल कुमरे (ASI Sobral Lal Kumare) कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि उसका यूपीआई नहीं चल रहा था। इसलिए उसने गुगल पर पीएनबी कस्टमर केयर को सर्च किया था। फिर आरोपियों ने पीएनबी के कस्टमर केयर बनकर उससे रकम ठग ली। पीड़िता होटल मैनेजर का कोर्स कर रही है। पिता सरकारी अस्पताल में नौकरी करते हैं। शिकायत सायबर क्राइम से एफआईआर दर्ज करने के लिए आई थी।

यह भी पढ़ें: यदि आपने दोस्त बनाने के लिए इस डेटिंग एप्प को डाउनलोड किया है तो उन चेहरों के बारे में जान लीजिए जो आपके लिए मुश्किलें खड़ी करेंगी

यह भी पढ़ें:   International Woman Day: मध्य प्रदेश में महिला जांच अफसरों की कमी

अमेजन में किया था कैरी बैग बुक

Bhopal Cyber Crime
सांकेतिक चित्र

इसी तरह दूसरा मामला वर्धमान ग्रीन वैली निवासी बबलू कुमार मंडल पिता शक्तिषद मंडल उम्र 39 साल ने दर्ज कराया है। उसने कैरी बैग अमेजन से बुक कराया था। अगले दिन उसको यह बोलकर फोन आया कि उसकी बुकिंग कैंसिल ​की जा रही है। बबलू कुमार मंडल (Bablu Kumar Mandal) ने अपना एडवांस अमाउंट वापस मांगा तो उसको एक लिंक भेजी गई। जिसको क्लिक करते ही उसके एसबीआई अकाउंट के खाते से साढ़े तीन हजार रुपए कट गए। उसके पास ओटीपी भी आया था। यह ओटीपी उसने जालसाज को नहीं बताया था। इसके बावजूद खाते से रकम निकल गई थी। मामले की जांच एएसआई प्रेम सिंह ठाकुर (ASI Prem Singh Thakur) कर रहे है।

Don`t copy text!