सावधान भोपाल : नरभक्षी हुआ कलियासोत डैम का मगरमच्छ, युवक को खींचकर ले गया

Share

घंटों चले रेस्क्यू आपरेशन के बाद डैम से बाहर निकाला गया शव

Crocodile Attack Bhopalभोपाल। राजधानी भोपाल (Bhopal) के कलियासोत डैम (Kaliyasout Dam) में मगरमच्छ (Crocodile) का आतंक बना हुआ है। इस मगरमच्छ ने एक सप्ताह के भीतर में दो व्यक्तियों को निशाना बनाया है (Crocodile Attack Bhopal)। ताजा मामला बुधवार—गुरुवार की दरमियानी रात का है। तालाब कि किनारे बैठे युवक को मगरमच्छ खींचकर पानी में ले गया। घटना के वक्त युवक अपने रिश्तेदार के साथ तालाब किनारे बैठकर मछली पकड़ रहा था। खबर मिलने के बाद पुलिस और एसडीआरएफ के गोताखोंरो ने शव को बाहर निकाला।

राजपरिवार का घरेलू कर्मचारी था

घटना चूना भट्टी थाना क्षेत्र की है। यहां वाल्मी के नजदीक 13 गेट हैं। इस गेट के नजदीक सरगुजा रियासत के राजा रहे अरुणेश्वर सिंहदेव (Aruneshwar Singhdev) का फार्म हाउस है। इस फार्म हाउस में प्रताप सिंह (Pratap Singh) पिता कृष्ण सिंह उम्र 28 साल चौकीदार है। वह उसी फॉर्म हाउस में रहता भी था। प्रताप सिंह चंदनपुरा गांव का रहने वाला था। वह मामा के लड़के संजय के साथ कलियासोत डैम में मछली पकड़ रहा था। तभी उसको मगरमच्छ डैम में खींच ले गया।

नशे की हालत में था

संजय ने जांच अधिकारी एसआई बाबूराम कनाडे (Baburam Kanade) को बताया कि दोनों ने डैम में बंशी डाल रखी थी। कोई भी हलचल नहीं थी। अचानक तेज आवाज के साथ डैम से मगरमच्छ बाहर आया और वह प्रताप सिंह को ले गया। कुछ देर तो उसे समझ ही नहीं आया कि हुआ क्या है। किसी तरह की आवाज या चीख पुकार भी सुनाई नहीं दी। इसके बाद उसने फोन करके घटना की जानकारी पुलिस को दी। काफी सरगर्मी से तलाश करने के बाद प्रताप का शव डैम से गुरुवार दोपहर बाहर निकाला जा सका।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Couple Suicide: फंदे से लटकते मिला प्रेमी जोड़ा

बड़ा नहीं हैं मगरमच्छ

मौके पर एसडीआरएफ के जवान भी पहुंचे थे। जब उन्हें पता चला कि डैम में मगरमच्छ है तो काफी वैज्ञानिक तरीके से प्रताप सिंह की तलाश की गई। लाश करीब 200 फीट दूर गहराई में मिली। मगरमच्छ ने उसको पत्थर की ओट में छुपा रखा था। मगरमच्छ बड़ा नहीं है। यह जानकारी मिलने पर वहां वन विभाग का भी अमला पहुंचा था। फिलहाल मगरमच्छ को पकड़ा नहीं गया है।

एक दिन पहले कलेक्टर ने जारी किया आदेश

इस घटना से कुछ घंटे पहले ही भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने डैम को लेकर आदेश जारी किया था। कलेक्टर ने आदेश में कहा था कि बारिश की वजह से कई लोग डैम और तालाब में जाने से बचे। यहां मगरमच्छ और दूसरे जल जीव का खतरा हो सकता है। इस संबंध में आदेश जारी होकर उस पर अमला होता उससे पहले प्रताप सिंह की दिल दहला देने वाली घटना हो गई।

इससे पहले युवक को दोस्त ने बचा लिया था

9 जून को भी कलियासोत डैम में एक युवक पर मगरमच्छ ने हमला किया था। दो युवक तालाब में नहा रहे थे। उसी दौरान एक युवक को मगरमच्छ ने पकड़ लिया था। वो उसे गहरे पानी में ले जा रहा था। लेकिन उसके दोस्त ने जान पर खेलकर उसे बचा लिया था। इस खबर को आगे पढ़ने और घटना का वीडियो देखने के लिए क्लिक करें। आगे पढ़ें…

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!