MP Martyr News: शहीद की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

Share

MP Martyr News: राजगढ़ के लाल को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दी श्रद्धांजलि, एक करोड़ रुपए की सम्मान राशि और एक सदस्य को नौकरी देने ऐलान

MP Martyr News
आतंकियों के साथ मुुठभेड़ में शहीद मनीष के पार्थिव शरीर को नमन करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

भोपाल/राजगढ़। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने 3 ईएमई सेंटर में राजगढ़ के शहीद मनीष कारपेंटर (Martyr Manish) को श्रद्धांजलि दी गई। इस अवसर पर शहीद के परिवार को एक करोड़ रुपए की सहायता राशि और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया गया। इधर, शहीद मनीष कारपेंटर का पार्थिव शरीर भोपाल से चलकर उनके गृह निवास खुजनेर पहुंच गया। हजारों लोग उनको अंतिम विदाई देने के लिए उनके गृह निवास खुजनेर (MP Martyr News) में सैंकड़ों लोग पहुंचे थे।

प्रतिमा स्थापित की जाएगी

सीएम शिवराज सिंह ने कहा शहीद मनीष की प्रतिमा स्थापित की जाएगी। राजगढ़ जिले के खुजनेर के मनीष कारपेंटर कश्मीर के बारामुला घाटी (Baramula Sector Encounter) में हुए आतंकी हमले में शहीद हो गए थे। मनीष सुदर्शन चक्र कोर में थे और इस समय बारामुला में पदस्थ थे।

शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट में कहा

हमारे शहीद साथी को तो हम वापस नहीं ला सकते लेकिन उनके परिवार को सम्मान स्वरूप एक करोड़ रुपये की सहायता राशि मध्यप्रदेश सरकार (CM Shivraj Singh Chouhan Announcement) की तरफ से दी जाएगी। इसके अलावा उनके परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी।

बारामूला में हुई थी मुठभेड़

मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले के खुजनेर निवासी मनीष कारपेंटर कश्मीर के बारामूला घाटी में पदस्थ थे। बारामूला स्थित सलोसा इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई थी। बारामूला के सलोसा इलाके में कुछ आतंकियों के छुपे होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने संयुक्त टीम बनाकर इलाके की घेराबंदी की। सर्च ऑपरेशन के दौरान सालोसा इलाके में सुरक्षाबलों पर आतंकियों के बीच गोलीबारी शुरू हो गई। सेना ने भी जवाबी कार्रवाई की।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: आईओसीएल तकनीशियन की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत

घायल हो गए थे मनीष

बताया जाता है कि सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुए मुठभेड़ में मनीष कारपेंटर घायल हो गए थे। जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान ही मनीष ने दम तोड़ दिया। गांव वालों ने बताया कि मनीष का भाई हरीश (Harish) भी फौज में है। मनीष 2016 में सेना में भर्ती हुआ था।

यह भी पढ़ें: कम उम्र की सच्ची प्रेम कहानी का ऐसे हुआ करुण अंत

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!