JK Hospital Update News: आकाश दुबे पुलिस के लिए अवसर या आफत

Share

JK Hospital Update News: रेमडेसिविर इंजेक्शन काला बाजारी करने के मामले में चल रहा है एक सप्ताह से फरार

JK Hospital Update News
जेके अस्पताल का आईटी मैनेजर आकाश दुबे जो अभी भी फरार चल रहा है

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की ताजा न्यूज पुलिस विभाग से मिल रही है। वह विभाग जो लॉक डाउन तोड़ने वालों से उठक—बैठक लगवा रहा है। वहीं कई जगहों पर लाठी बरसाकर सख्ती बरतने का दावा कर रहा है। उस पुलिस महकमे के लिए आकाश दुबे अवसर है या आफत इसको लेकर चर्चा चल पड़ी है। दरअसल, आकाश दुबे जेके अस्पताल (JK Hospital Update News) का आईटी मैनेजर है। वह अस्पताल को सरकारी कोटे में मिले रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के मामले में आरोपी है। आरोपी को पुलिस एक सप्ताह बाद भी पकड़ नहीं पाई है। हालांकि उसका दावा है कि वह दिन—रात उसको दबाचने के लिए दबिश दे रही है।

राजनीति करने का दिया है अवसर

जेके अस्पताल में आकाश दुबे का काफी रसूख है। उसके पिता उमाशंकर दुबे (EX DSP Umashankar Dubey) रिटायर्ड डीएसपी है। आकाश दुबे कोलार स्थित शालीमार पार्क कॉलोनी में रहता है। वह 13 मई से पुलिस के रिकॉर्ड में फरार चल रहा है। उसने प्रदेश में विपक्ष के नेताओं को भी राजनीति करने का अवसर दिया है। दरअसल, पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Former CM Digvijay Singh) ने आकाश दुबे के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तस्वीर भी ट्वीट की थी। जिसके बाद ही पुलिस की सरगर्मी हवा होने लगी। इस बीच आरोपी ने अदालत में जमानत लेने के लिए अग्रिम याचिका भी लगाई है। पुलिस सूत्रों के अनुसार यदि आकाश दुबे हत्थे लगा तो जेके अस्पताल के कई राज उजागर हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case: पाउच खाकर पिता को बताया, अस्पताल में मौत

यह भी पढ़ें: बलात्कार का एक मामला जिसको दबाने के लिए दी गई थी रिश्वत, लेकिन इस कांड के कारण खुल गया मामला

दो टीमें एक सप्ताह से मजाक बना रहा

JK Hospital Update News
पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का ट्वीट

इसलिए एक लॉबी उसको बचाने के लिए हर तरह का दांव पेंच अपना रही है। उसके समर्थन में अस्पताल के कई रसूखदार व्यक्ति पहुंच का इस्तेमाल कर रहे है।आकाश दुबे कोई पेशेवर अपराधी नहीं है। उसने फरारी के दौरान ही अपना सोशल अकाउंट भी बंद किया है। इसके अलावा उसके एक ठिकाने की जानकारी पुलिस को लग गई थी। लेकिन, वहां से वह पुलिस के पहुंचने से पहले ही गायब हो गया था। आकाश दुबे के केस की निगरानी भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी और एएसपी अंकित जायसवाल (IPS Ankit Jaisawal) देख रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार उनका दावा है कि दो टीमें उसकी गिरफ्तारी के लिए लगी हुई है। इसके बावजूद एक सप्ताह से आकाश दुबे पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सका है। पुलिस के अफसर उसकी गिरफ्तारी के संबंध में इनाम के ऐलान से लेकर दूसरे अन्य काम भी नहीं कर सके हैं।

यह भी पढ़ें: नेहरु को कोसते—कोसते सांस उखड़ आती थी, आज उन्हीं की विरासत से बच रही है नाक

क्यों है तलाश

JK Hospital Update News
यह है वह इंजेक्शन जिसको आकाश दुबे ने दिए थे

आकाश दुबे का नाम 13 मई को गिरफ्तार आकर्ष सक्सेना, दिलप्रीत सलूजा (Dilprit Saluja) और अंकित सलूजा (Ankit Saluja) की गिरफ्तारी के बाद सामने आया था। आरोपियों के कब्जे से रेमडेसिविर के पांच इंजेक्शन बरामद हुए थे। अंकित सलूजा ने बताया था कि एक महीने में उससे करीब 15 इंजेक्शन खरीदे गए थे। इससे पहले कोलार थाना पुलिस ने ही जेके अस्पताल की नर्स शालिनी वर्मा और वहां काम करने वाले कर्मचारी झलकन सिंह मीणा को भी रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया था। आरोपियों ने कबूला था कि वे मरीजों को आवंटित इंजेक्शन की जगह उन्हें स्लाइन लगाकर उसको कालाबाजारी के जरिए बेचने का काम कर रहे थे।

Don`t copy text!