Bhopal Suicide Case: परेशान गुमठी वाला ट्रेन के सामने कूदा

Share

Bhopal Suicide Case: आग से झुलसे व्यक्ति ने दो महीने बाद तोड़ा दम

Bhopal Suicide Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। परेशान गुमठी वाला ट्रेन के सामने कूद (Bhopal Suicide Case) गया। पुलिस मामला खुदकुशी का मान रही है। लेकिन, सुसाइड नोट नहीं है तो वह पसोपेश में हैं। इधर, दो अन्य व्यक्तियों की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत (Bhopal Suspension Death Case) हो गई। जिसमें आग से झुलसे व्यक्ति ने दो महीने बाद दम तोड़ दिया। यह सभी घटनाएं मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल की है। पुलिस ने मर्ग कायम कर शव पोस्टमार्ट के लिए भेज दिए हैं।

थाने में मिली मौत की खबर

गोविंदपुरा थाना पुलिस को बुधवार सुबह 8 बजे किसी व्यक्ति के ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या करने की सूचना मिली थी। यह सूचना ट्रेन ड्रायवर इब्राहिम ने पुलिस को दी थी। पुलिस उसकी पहचान नहीं कर सकी थी। शव को हमीदिया अस्पताल के मॉर्चुरी रूम में सुरक्षित रखा दिया गया। शहर के बाकी थानों में पुलिस ने व्यक्ति की पहचान से संबंधित जानकारी दर्ज करा दी थी। दूसरे दिन व्यक्ति के परिजन हबीबगंज थाना क्षेत्र में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचे थे। यहां थाने में उन्हें हमीदिया अस्पताल जाने की सलाह दी गई।

परेशान होकर की आत्महत्या

हमीदिया अस्पताल में शव की पहचान किशनकांत द्विवेदी (Shivkant Dwivedi Death Case) पिता महावीर प्रसाद द्विवेदी उम्र 48 साल निवासी तुलसी नगर के रुप में हुई। परिजनों ने बताया कि वह महावीर नाम से पान की गुमठी चलाता था। उसके दो लड़के है। छोटा बेटा ग्रेजुएशन और बड़ा बेटा बीसीए कर रहा है। वह कुछ दिनों से परेशान चल रहा था। कल सुबह अचानक किसी को बिना कुछ बताए घर से निकल गया था। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। पुलिस को मौत की ठोस वजह मालूम नहीं हुई है। पोस्टमार्टम के बाद आगे की कारवाई पुलिस करेगी।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Theft Case: चोर ने सिर्फ गुल्लक पर किया हाथ साफ

दो महीने पहले हुआ था हादसा

रातीबड़ थाना पुलिस ने बताया कि नर्मदा प्रसाद (Narmada Prasad Barn Death Case) पिता कालूराम उम्र 48 साल निवासी ग्राम बरखेड़ा नाथू का रहने वाला था। नर्मदा सब्जी बेचने का काम करता था। दो महीने पहले वह घर में काम कर रहा था। तभी उसकी धोती में आग लग गई थी। हादसे में नर्मदा के दोनों पैर झुलस गए थे। परिजनों ने उसे हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया था। करीब दो महीने इलाज के बाद वह 10 दिन के लिए घर लौट आए थे। तबीयत बिगड़ने पर नर्मदा को 22 जुलाई को दोबारा भर्ती कराया गया था। बुधवार सुबह 12 बजे डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनो को सौंप दिया है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!