Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4: एमपी का रेवड़ी कल्चर, राजधानी में तीन करोड़ रूपए ऐसे बांट दिए 

Share

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4: कंपनी की कमाई कम होने के बावजूद संपत्ति को एनपीए करके हथियाने का बैंक ने रचा था खेल, बैंक अफसरों की भूमिका जांच में पाई गई संदिग्ध

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4
भोपाल में बैंक ऑफ महराष्ट्र का आंचलिक कार्यालय भवन- फाइल फोटो

भोपाल। दिल्ली में आम आदमी पार्टी को लेकर भाजपा काफी तीखा हमला कर रही है। यह हमला रेवड़ी कल्चर को लेकर किया जा रहा है। जिसमें मुफ्त योजनाओं को लेकर भाजपा आम आदमी पार्टी सरकार को घेर रही है। इधर, एमपी में रसूखदारों की रेवड़ी कल्चर पर पूरा सिस्टम मौन है। घटना भोपाल (Bhopal Bank Fraud) शहर के अरेरा काॅलोनी इलाके की है। यहां स्थित बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4 ) ने एक तीन करोड़ रूपए का लोन कई लापरवाहियों के साथ मंजूर कर दिया। अब यह लोन उलझ गया है और बैंक न्यायिक प्रक्रियाओं में उलझ गई है। जिस पार्टी को बैंक ने लोन दिया उसमें लगे दस्तावेज एक उद्योगपति के थे जिनके बैंक ऑफ महाराष्ट्र में ही तीन लोन एनपीए किए जाने की तैयारी चल रही थी। इतना ही नहीं जिस व्यक्ति ने लोन के लिए आवेदन किया वह बैंक वालों को घर पर नहीं मिला था। इसके बावजूद तीन करोड़ रूपए खाते में जमा करा दिए गए।

बैंक के अफसर अब भी चुप

भोपाल ईओडब्ल्यू ने 4 फरवरी, 2022 को 17/22 धारा 420/120-बी/7/13-1/13-2 (जालसाजी, साजिश, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, पद के दुरूपयोग का मामला) दर्ज किया है। जिसकी शिकायत ई-2/28, अरेरा काॅलोनी निवासी पारूल अग्रवाल पति रूपेश अग्रवाल ने की थी। इस मामले में आरोपी मलिका गर्ग, उनके पति अंकुर गर्ग और बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4) के तत्कालीन मैनेजर सहज पाठक को बनाया गया है। मलिका गर्ग गाजियाबाद की रहने वाली है। मामले की शिकायत करने वाली पारूल अग्रवाल (Parul Agrawal) उनकी ननद भी है। बैंक से लोन लेने के लिए उन्होंने एएम ट्रेड लिंक (AM Trade Link) के कारोबार के दस्तावेज लगाए थे। यह कंपनी उत्तर प्रदेश से संचालित थी जिसने विस्तार के लिए केश क्रेडिट लोन के लिए जुलाई, 2013 में आवेदन किया था। लोन के लिए अंकुर गर्ग (Ankur Garg) ने अपने दोस्त भोपाल स्थित गुलमोहर काॅलोनी में रहने वाले प्रेम चावला (Prem Chawla) से व्यापार करने का बोलकर उनकी फर्म के दस्तावेज भी लगाए थे। प्रेम चावला ने भी बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra) से ही चार अन्य लोन मलिका गर्ग (Malika Garg) से पहले लिए थे। कुछ दिनों बाद यह लोन एनपीए हुए तो विज्ञापन जारी हुए थे। हालांकि प्रेम चावला का दावा है कि अब वह सैटल हो गए हैं। वहीं बैंक इन दावों को लेकर स्थिति साफ अब तक नहीं कर सका है।

बैंक अफसरों को पता था रेवड़ी बंट रही है

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4
भोपाल में अरेरा हिल्स स्थित बैंक आफॅ महाराष्ट्र आंचालिक कार्यालय का भवन- फाइल फोटो

इसी मामले की एफआईआर से पहले ईओडब्ल्यू (Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4 ) ने जांच की थी। जिसमें पाया गया है कि तत्कालीन बैंक मैनेजर सहज पाठक (Sahaj Pathak) ने तीन करोड़ रूपए जारी करने से पहले अपनी रिपोर्ट बनाई थी। जिसमें कहा था कि मलिका गर्ग की कंपनी का कारोबार संतोषजनक नहीं है। लेकिन, ई-2/28 की संपत्ति की कीमत काफी अच्छी है। लोन के लिए मलिका गर्ग ने इसी पते पर रहना बताकर आवेदन किया था। लेकिन, तत्कालीन बैंक मैनेजर सहज पाठक की ही रिपोर्ट में बताया गया है कि वह उन्हें कभी भी घर पर नहीं मिली थी। यह जानने के बावजूद बैंक ऑफ महाराष्ट्र के रीजनल मुख्यालय ने आपत्ति और पड़ताल किए बिना इतनी बड़ी रकम जारी कर दी। इतना ही नहीं मलिका गर्ग ने उक्त संपत्ति पर चल रहे न्यायालयीन विवाद की जानकारी शपथ पत्र देकर झूठी दी थी। इस संपत्ति पर किसी तरह का उन्होंने विवाद नहीं दिखाया था। जबकि उनके भाई रूपेश अग्रवाल (Rupesh Agrawal) और मलिका गर्ग के बीच संपत्ति को लेकर न्यायालय में विवाद पहले से चल रहा था। इसी संपत्ति पर थिनर और पेंट के कारोबार की जानकारी बैंक को दी गई थी। जबकि रिहायशी इलाके में इस तरह के व्यवसायिक गतिविधियों को मंजूरी नहीं मिलती है। लोन के लिए इसी पते पर गुमाश्ता भी जारी हुआ था। जिसे चुनौती देने पर वह खारिज भी हो गया था।

यह भी पढ़ें:   तेरह दिन में दो बार पिटी भोपाल पुलिस

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bank Of Maharashtra Loan Scam Part-4
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!