Bhopal Dowry Case: बहू हमारी राखी सावंत, बेटे को इसरो की वैज्ञानिक से प्यार

Share

Bhopal Dowry Case: मेड इजी कोचिंग का प्रोफेसर बताकर जीवन साथी डॉट कॉम में पोस्ट किया था बायोडाटा

Bhopal Dowry Case
The Display

भोपाल। शादी के बाद पहली रात से शुरु हुई घरेलू हिंसा आखिरकार एक साल में पुलिस थाने पहुंच गई। मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Dowry Case) के संभ्रात परिवार का है। रिश्ता जीवन साथी डॉट कॉम (Jeevan Sathi Matrimonial Site News) में पोस्ट बायोडाटा से हुआ था। जिसमें दूल्हे के बारे में बताया गया था कि वह दिल्ली के मेड इजी कोचिंग (Made Easy Coaching) में प्रोफेसर है। शादी के बाद मालूम हुआ कि वह तो वहां कंटेट डेव्हलपर का काम करता है। विरोध करने पर सास ने बहू को कोसने का काम शुरु कर दिया। वह उसको राखी सावंत (Rakhi Sawant) कहकर अपमानित करने लगी। इसी बीच पति के इसरो की एक वैज्ञानिक से अवैध रिश्ते सामने आ गए।

ससुर ने ब्यूरोक्रेसी की पहुंच दिखाई

पति—पत्नी के बीच शुरु हुआ यह विवाद मारपीट और हिंसा में उतर आया। महिला थाना पुलिस ने काउंसलिंग की मदद से परिवार को बचाना चाहा। लेकिन, आरोपी परिवार ने पुलिस को जांच में सहयोग नहीं किया। नतीजतन पुलिस को मुकदमा दर्ज करना पड़ा। पुलिस ने इस मामले में 498ए/506/34/3/4 (प्रताड़ना, धमकाना, एक से अधिक आरोपी और दहेज अधिनियम) के तहत प्रकरण दर्ज किया है। इस मामले में आरोपी पति गौरव तिवारी (Gaurav Tiwari), उसके पिता चंद्रकांत तिवारी, सास आशा तिवारी, देवर ईशान तिवारी (Ishan Tiwari) को बनाया है। पुलिस ने यह मुकदमा 4 जनवरी की रात लगभग सवा आठ बजे दर्ज किया है। पीड़िता ने बताया कि चंद्रकां​त तिवारी को—आपरेटिव सोसायटी में डिप्टी कमिश्नर (Bhopal Retired Deputy Commissioner) रहे हैं। वहां से रिटायर होने के बाद भी वे जन औषध केंद्र में सेवाएं देते हैं। वे परिवार को ब्यूरोक्रेसी में पहुंच की धौंस दिखाते थे।

यह भी पढ़ें:   'महाकौशल और विंध्य अब फड़फड़ा सकते हैं, उड़ नहीं सकते'

यह भी पढ़ें: कोरोना के बाद लॉक डाउन का भोपाल के इस व्यक्ति पर पड़ा असर, लेकिन फायदा कोई दूसरा ले गया

होटल में कराई थी शादी

Bhopal Dowry Case
सांकेति​क चित्र

पीड़िता की उम्र 27 साल है जिसकी शादी फरवरी, 2020 में हुई थी। मगनी होटल रेसीडेंसी में हुई थी। ससुराल भोपाल के इंद्रपुरी इलाके में हैं। पीड़िता के पिता निजी स्कूल चलाते हैं। पति गौरव तिवारी मेड इजी कोचिंग में कंटेट डेव्हलपर (Made Easy Content Devloper) था और मालवीय नगर के फ्लैट में रहता था। मगनी फिर शादी की तारीख में ज्यादा फर्क नहीं था। शादी अशोका लेक व्यू होटल में कराई गई। वहां ससुराल वालों के कहने पर लिफाफा बनाकर बारात में आए लोगों को बांटा गया। दहेज की अचानक 10 लाख रुपए मांग रखी गई। तीन लाख रुपए कम दिए गए तो पति नाराज (Bhopal Dowry Case) हो गया। शादी के बाद पति—पत्नी को बाली (इंडोनेशिया) जाना था। वहां जाने से इनकार करने लगा। जब समझाया गया तो वह जाने के लिए राजी हुआ। हालांकि वहां पहली रात ही पति ने पत्नी के साथ मारपीट कर दी।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के इस एसीपी की वर्दी वाली तस्वीर की कहानी जिसको भोपाल के लोग आसानी से भूल नहीं पाए

सरनैम नहीं बदलने पर बवाल

पीड़िता ने बताया कि बेटा दिल्ली में उसको रखना पसंद नहीं करता था। वजह पूछने पर पीड़िता ने दावा किया कि गौरव तिवारी के इसरो की एक वैज्ञानिक महिला से अवैध संबंध (Bhopal Extramarital Affair News) थे। उसकी कुछ तस्वीरें भी पकड़ ली थी। इसलिए उसको डर लगता था कि शादी के बाद उसके सारे राज उजागर हो जाएंगे। पति ने यहां ससुराल वालों को भी गलत जानकारी देकर उसके खिलाफ भड़का दिया। सास आशा तिवारी (Asha Tiwari) उसको राखी सावंत कहकर ससुराल में आने नहीं देती थी। पीड़िता का कहना है कि उसको अपना सरनैम बदलने में कोई रुचि नहीं थी। लेकिन, ससुराल वाले उसको ऐसा करने के लिए मजबूर करते थे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: तलाकशुदा व्यक्ति अवैध संबंधों का रिश्ता लेकर पहुंचा

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!