JNU Protest : फीस बढ़ोतरी के खिलाफ सड़कों पर उतरे छात्र, पुलिस से हुई झूमाझटकी

Share

कई गुना बढ़ी हॉस्टल फीस, एचआरडी मिनिस्टर ने छात्रों को दिया आश्वासन

प्रदर्शन करते हुए जेएनयू के छात्र

नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के छात्रों का सोमवार को परिसर के बाहर पुलिस के साथ संघर्ष हो गया। जेएनयू छात्र प्रशासन की ‘‘छात्र विरोधी’’ नीति के खिलाफ प्रदर्शन (JNU Protest) कर रहे थे। प्रदर्शन कर रहे छात्र अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् (AICTE) की तरफ आगे बढ़ना चाहते थे लेकिन गेटों पर बेरिकेट्स लगा दिए गए थे। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू यहां पर दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। अधिकारियों ने बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ भी सुबह से ही एआईसीटीई ऑडिटोरियम में हैं। छात्रों के प्रदर्शन के मद्देनजर मंत्रालय में दो पूर्व निर्धारित कार्यक्रम रद्द करने पड़े हैं।

जेएनयू से लगभग तीन किलोमीटर दूर एआईसीटीई के द्वारों को बंद कर दिया गया और सुबह शुरू हुए विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर परिसरों के बाहर सुरक्षाकर्मियों को तैनात कर दिया गया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जेएनयू परिसर के उत्तरी और पश्चिमी दरवाजों के बाहर और बाबा बालकनाथ मार्ग पर एआईसीटीई ऑडिटोरियम और जेएनयू के बीच स्थित सड़क पर बैरिकेड लगाये गये हैं।

हाथों में तख्तियां लेकर छात्रों ने ‘‘दिल्ली पुलिस वापस जाओ’’ जैसे नारे लगाये। छात्रों ने कुलपति एम जगदीश कुमार के खिलाफ भी नारेबाजी की। छात्रों की मांग थी कि मसौदा छात्रावास मैनुअल को वापस लिया जाये जिसमें उनके अनुसार फीस वृद्धि, कर्फ्यू का वक्त और ड्रेस कोड जैसी पाबंदियों का प्रावधान है। छात्रों ने बताया कि सुबह शुरु हुआ यह प्रदर्शन छात्रावास के मैनुअल के विरोध के अलावा पार्थसारथी रॉक्स में प्रवेश पर प्रशासन की पाबंदी तथा छात्र संघ के कार्यालय को बंद करने के प्रयास के विरोध में हो रहे प्रदर्शनों का ही हिस्सा है।

यह भी पढ़ें:   JNU : प्रोफेसर को ई-मेल किया सुसाइड नोट और क्लासरूम में लगा ली फांसी

वहीं शाम को मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने छात्रों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की है। उन्होंने छात्रों से वादा किया कि जल्द ही उनकी समस्याओं का निदान कर दिया जाएगा। सरकार छात्रों की समस्या का समाधान ढूंढ़ रही है।

Don`t copy text!