20 वीं युवती की हत्या के मामले में भी दोषी करार, जानिए कौन है साइनाइड मोहन

Share

‘Cyanide’ Mohan : सुहागरात मनाने के बाद युवतियों को ऐसे उतार देता था मौत के घाट

Cyanide Mohan
मोहन, सीरियल किलर

मेंगलूर। प्रेम जाल में फंसाकर बलात्कार करने के बाद युवतियों को मौत के घाट उतारने वाले मोहन को 20 वीं हत्या के मामले में भी दोषी करार दिया गया है। ये मामला उसके खिलाफ दर्ज आखिरी मामला था। साइनाइड मोहन (‘Cyanide’ Mohan) के नाम से पहचाने जाने वाला ये दरिंदा सीरियल किलर (Serial Killer) है। साइनाइड मोहन एक-दो नहीं, 20 युवतियों की हत्या का दोषी है। कर्नाटल के मंगलूर की एक कोर्ट ने हाल ही में सीरियल किलर मोहन को 20 वीं युवती की हत्या के मामले में दोषी करार दिया। ये युवती केरल के कसरागोद की रहने वाली थी। 24 जून को इस मामले में कोर्ट सजा सुनाएगी।

मंदिर जाने के बहाने घर से निकली थी युवती

कसरागोद में रहने वाली 25 वर्षीय युवती एक लेडीस हॉस्टल में कुक का काम करती थी। वो 2009 में मोहन के संपर्क में आई थी। मोहन उसके घर आया-जाया करता था। उसने युवती से शादी का वादा किया था। 8 जुलाई 2009 को युवती मंदिर जाने के बहाने से घर से गायब हो गई थी। मोहन उसे बैंगलूरू ले गया। फोन पर युवती ने परिजन को बताया था कि उसने शादी कर ली है। वो जल्द ही घर लौट आएगी।

लॉज में बिताई रात

मोहन युवती को बस स्टैंड के पास स्थित एक लॉज में ले गया था। जहां दोनों रात रुके। दोनों के बीच शारीरिक संबंध भी बने। सुबह मोहन ने युवती से कहा कि वो अपने जेवरात रूम में ही छोड़ दे और घूमने चले। युवती ने ठीक वैसा ही किया और जेवर छोड़कर वो मोहन के साथ लॉज से बाहर आ गई। दोनों बस स्टैंड के पास पहुंचे। जहां मोहन ने युवती को साइनाइड की टेबलेट दे दी।

यह भी पढ़ें:   सुप्रीम कोर्ट में बोले राहुल गांधी, चुनाव के आवेश में कह दिया 'चौकीदार चोर है'

गर्भनिरोधक गोली बताकर दिया साइनाइड

मोहन ने युवती को बताया कि ये गर्भनिरोधक गोली है। वो सार्वजनिक बाथरूम में जाकर इस गोली को खा ले। युवती ने उसकी बात मान ली और साइनाइड को गर्भनिरोधक गोली समझकर खा लिया। जिसके बाद वो बाथरूम में गिर गई। एक पुलिस कांस्टेबल ने युवती को अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस दौरान मोहन लॉज के कमरे से सामान उठाकर भाग चुका था। शुरुआत में पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरु की थी।

सीरियल किलिंग के आरोप में मोहन को अक्टूबर 2009 में गिरफ्तार किया गया था। तब मृतका की बहन ने उसकी तस्वीर देखकर मोहन को पहचान लिया। जिसके बाद मोहन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी।

पढ़िएः साइनाइड मोहन की ऐसी ही दूसरी कहानी

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!