Bhopal Minor Rape Case: भाई—बहन ने पोर्न मूवी देखकर सेक्स को खेल समझ लिया

Share

तेरह साल की नाबालिग हुई गर्भवती तो खुला दिल दहला देने वाला राज

Bhopal Minor Rape Case
सांकेतिक चित्र

भोपाल। (Bhopal Crime News In Hindi) एंड्रायड फोन ने भारतीय संस्कृति में कुप्रभाव डालना शुरु कर दिया है। इस खतरे को भांपकर ट्राई समेत अन्य संस्था आवश्यक दिशा—निर्देश देते भी रहे हैं। ताजा मामला मध्य प्रदेश की (Bhopal Minor Rape Case)  राजधानी भोपाल का है। यह कहानी दो नाबालिग भाई—बहन के बीच की है। दोनों के बीच शारीरिक संबंध बन गए थे। इन संबंधों के चलते नाबालिग गर्भवती हो गई थी। परिवार इस बात से बेखबर था और नाबालिग (Madhya Pradesh Minor Rape Case) की पेट दर्द की पीड़ा को वह पहली माहवरी का रोग समझता रहा। लेकिन, जब डॉक्टरों ने उसकी पड़ताल की तो माता—पिता के पैरों तले जमीन खिसक गई। इस मामले में पुलिस ने नाबालिग की शिकायत पर उसके नाबालिग भाई के खिलाफ बलात्कार, पॉक्सो एक्ट समेत अन्य धारा में प्रकरण दर्ज कर लिया है।

घटना भोपाल के चूना भट्टी थाना (Chuna Bhatti Rape Case) क्षेत्र की है। पीड़ित परिवार सामान्य वर्ग का है। इसलिए माता—पिता दोनों मिलकर अपने बच्चों की परवरिश के लिए पैसा कमाने निकल जाते थे। घर पर 13 साल की बेटी और 16 साल का बेटा रहते थे। बच्चों (Brother- Sister Rape Case) से बात होती रहे इसलिए दोनों के पास एक एंड्रायड मोबाइल रहता था। इसी मोबाइल में गैम खेलते वक्त एक ऐसी लिंक आ गई। जिसको क्लिक करते ही नाबालिग उसे भी खेल समझ बैठे। यह लिंक सामान्य नहीं थी। वह पोर्न वेबसाइट की लिंक थी। उसमें जैसा दिखाया जाता था दोनों नाबालिग घर पर वैसा करने लगे। पुलिस का दावा है कि इस घटना में कई छुपे तथ्यों का अभी पता लगाया जाना बाकी है। यह प्रकरण मेडिकल साइंस के लिए भी चुनौती से कम नहीं है।

यह भी पढ़ें:   Fake Officer : गरीबों के लिए बने नौ मकानों के बीडीए के जाली ऑर्डर बनाकर ऐंठ ली रकम

यह भी पढ़ेंः 18 साल की लड़की से 7 दरिेंदों ने किया बलात्कार, भाई को कुएं में फेंका

सेक्स को समझ लिया था खेल

पीड़ित नाबालिग ने बताया कि यह खेल जून, 2019 से उन दोनों के बीच चल रहा था। उसी लिंक में जाकर कई बार वह सब किया गया जो उसमें दिख रहा था। इस दौरान सेक्स की वजह से उसके प्रायवेट पार्ट से रक्तस्त्राव हुआ था। जिसके बारे में मां को बताया तो उसे लगा उसको माहवारी शुरु हो गई है। यह माहवारी कुछ महीने बाद आना बंद हो गई। मां को शक हुआ तो वह डॉक्टर के पास इलाज के लिए गई। डॉक्टरों ने सलाह दी कि कई बार हार्मोन कम—ज्यादा होने के कारण माहवारी रुक भी जाती है। डॉक्टर की बात पर परिवार ने यकीन कर लिया। यह मामला एक महीने के लिए फिर लटक गया। लेकिन, नाबालिग बच्चे पहले की ही तरह वह सब करते रहे।

सीमा विवाद में लटका मामला

कुछ दिनों बाद नाबालिग का पेट दर्द होने लगा। वह कक्षा नौंवी में पढ़ती है। पेट दर्द का इलाज कराने के लिए परिवार कस्तूरबा अस्पताल पहुंचा। यहां डॉक्टरों ने उसकी मां को बताया कि वह गर्भवती है। यह सुनकर उसके हाथ—पैर फूल गए। उसको नाबालिग ने पोर्न मूवी वाली सारी कहानी बता दी। इस बीच कस्तूरबा अस्पताल ने घटना की सूचना तलैया थाना पुलिस को दी। लेकिन, पुलिस ने प्रकरण दूसरे थाने का बताकर कार्रवाई नहीं की। नतीजतन, चूना भट्टी थाना पुलिस को दूसरे माध्यमों से घटना की जानकारी मिली। पुलिस ने इस मामले में बाल अपचारी को हिरासत में ले लिया है। दोनों नाबालिगों का मेडिकल कराया गया है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Theft Case: नगर निगम ड्रायवर सोता रहा, सामान बटोर ले गए बदमाश

सौतेला बेटा

पुलिस को जांच में पता चला है कि बाल अपचारी के जन्म देने के बाद उसकी मां चल बसी थी। इस कारण बच्चे की परवरिश के लिए उसके पिता ने दूसरी शादी की थी। दूसरी शादी से उसको लड़की हुई थी। लड़की का डील—डोल ज्यादा नहीं है। इसलिए गर्भ ठहरने और पेट बाहर नहीं निकलने की वजह से मामला सामने नहीं आ सका। पुलिस का कहना है कि इस मामले में कानूनी जानकारों से सलाह ली जाएगी। दरअसल, इस प्रकरण में फरियादी और आरोपी एक ही परिवार के हैं। दोनों नाबालिग भी है जिनके मन मस्तिष्क में इन सारे घटनाओं का असर न हो इसलिए काउंसलर की भी मदद ली जा रही है।

अपील

क्या आप द क्राइम इंफो से जुड़ना चाहते हैं! अब द क्राइम इंफो एप्प की शक्ल में आपके साथ रहेगा। यह संदेश पढ़ने तक एक मैसेज आपके पास आएगा। आप उसको अलाउ करें, फिर आपके और हमारे बीच की दूरियां कम होगी। यह एप्प आपके मोबाइल पर दिखाई देने लगेगा। बस क्लिक कीजिए और अपने आस—पास चल रही खबरों को तुरंत जानिए। www.thecrimeinfo.com विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है।

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज www.thecrimeinfo.com के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!