जिला अस्पताल में लगी आग, 10 बच्चों की मौत

Share

एसएनसीयू वार्ड में थे 17 बच्चे, 7 को बचाया गया

Bhandara Hospital Burning News
यह है वह अस्पताल जहां आग लगी थी

भंडारा। पूर्व महाराष्ट्र के भंडारा (Bhandara Hospital Burning News) में बड़ा ही दर्दनाक हादसा हो गया। जिला अस्पताल में आग लगने से 10 नवजात बच्चों की मौत हो गई। एसएनसीयू वार्ड में 17 बच्चे भर्ती थे। घटना शुक्रवार शनिवार की दरमियानी रात करीब 2 बजे की बताई जा रही है। अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लगी थी। सूचना पर फायर ब्रिगेड का अमला मौके पर पहुंचा। 7 नवजातों को बचाया जा सका।

अस्पताल प्रबंधन की गंभीर लापरवाही

शॉर्ट सर्किट से लगी आग की वजह से एसएनसीयू वार्ड (SNCU Burn Case) में धुआ भर गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दम घुटने की वजह से बच्चों कि मौत हुई है। वार्ड में 1 से 3 महीने की उम्र के 17 बच्चे एडमिट थे। रात 2 बजे जब नर्सिंग स्टाफ में एसएनसीयू वार्ड का दरवाजा खोला तो उसमें धुआ भरा हुआ था। तुरंत इसकी सूचना वरिष्ठ डॉक्टर्स को दी गई। जिसके बाद दमकल का अमला मौके पर पहुंचा। मामले में अस्पताल प्रबंधन की गंभीर लापरवाही सामने आई है। घटना के वक़्त वार्ड में कोई भी मौजूद नहीं था। बच्चों को अकेला ही छोड़ दिया गया था।

सीएम ने दिए जांच के आदेश

जिला सिविल सर्जन प्रमोद खंदाते (Pramod Khandate) ने मीडिया को बताया कि वार्ड में 17 बच्चे भर्ती थे, 7 को बचाया गया है। घटना पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thakre) ने दुख जताते हुए जांच के आदेश दिए है। सीएम ने स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Minister Rajesh Tope), भंडारा कलेक्टर और एसपी से बात करते हुए जांच रिपोर्ट मांगी है। सीएम ने कहा कि घटना बेहद दुखद है। मामले की गहन जांच की जाएगी।

दुखद घटना के बाद होगा सेफ्टी ऑडिट

महाराष्ट्र सरकार ने नवजातों के परिजन को 5-5 लाख रुपए मुआवजा देने का आदेश दिया है। भंडारा कलेक्टर संदीप कदम (IAS Sandip Kadam) का कहना है कि घटना कि जांच के लिए तकनीकी दल का गठन कर दिया गया है। ये दल आग लगने की वजह की जांच करेगा। वहीं उप मुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy CM Ajit Pavar) ने प्रदेश के अस्पतालों के सेफ्टी ऑडिट के आदेश जारी किए है। ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो।

पीएम और गृह मंत्री ने जताया दुख

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस (Former CM Devendra Fadnavis) ने मामले की विस्तृत जांच और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) और गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट करते हुए घटना पर दुख जताया है। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने महाराष्ट्र सरकार को कहा है कि वो मृतकों के परिजन और घायलों की हर संभव मदद करे।
यह भी पढ़ें:   वरिष्ठ पत्रकार केजी सुरेश बनाए गए माखनलाल विश्वविद्यालय के कुलपति
Don`t copy text!