World News : देश को बदनाम करने वाले तीन भारतीय मूल के डॉक्टर

Share

World News : चार दर्जन महिलाओं के साथ डॉक्टर ने बनाए शारीरिक संबंध, डेटिंग एप के जरिए मुलाकात के बहाने दिया वारदात को अंजाम

World News
सांकेतिक चित्र—साभार

वाशिंगटन/कैनबरा/स्कॉटलैंड। हाल ही में ब्रिटेन की एक अदालत ने भारतीय मूल के चिकित्सक को सजा सुनाई है। यह घटना (World News) चार साल पहले हुई थी। उस वक्त यह मीडिया में चर्चा में काफी आई थी। इस सजा के साथ भारतीय मूल के चिकित्सक को लेकर दुनियाभर की मीडिया में रिपोर्टिंग सामने आ रही हैं। हमारा मकसद पेशे को बदनाम करना नहीं हैं। यह केवल संयोग है कि यह तीनों घटनाएं इस क्षेत्र के व्यक्तियों से जुड़ी है। लेकिन, इन मामलों ने भारत की साख को जरुर बट्टा लगाने का काम किया है।

कंडोम और वियाग्रा लेकर डेट पर पहुंचा

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हाल ही में 39 साल के मनेश गिल (Manesh Gill) को सजा हुई है। वे एडिनबर्ग में डॉक्टर है। पहले से शादीशुदा मनेश के तीन बच्चों के पिता भी है। उन्होंने डेटिंग ऐप टिंडर के जरिए एक महिला से दोस्ती की थी। एप पर उन्होंने अपनी प्रोफाइल माइक नाम से बनाई थी। मनेश गिल ने महिला को एक होटल में मिलने बुलाया। डेट के दौरान वह अपने साथ कंडोम और वियाग्रा लेकर पहुंच गए थे। दोनों ने साथ बैठक पहले शराब पी थी। जब महिला को शराब का असर हुआ तो मनेश गिल ने उसके साथ ज्यादती की। पीडि़ता ने कोर्ट को बताया था कि वह आधी होश में थी। मनेश गिल उसके ऊपर था। धक्का देकर हटाना चाहती थी लेकिन ऐसा नहीं कर पाई।

मरीजों के साथ करता था ज्यादती

इससे पहले स्कॉटलैंड में कृष्ण सिंह (Krishna Singh) भी ज्यादती के मामले में सुर्खियों में आए थे। उन्होंने 48 महिलाओं से ज्यादती की थी। इसमें अधिकांश मरीज थी। महिला मरीजों ने जबरदस्ती चूमने, छूने और गलत तरीके से एग्जामिन करने के साथ ही भद्दी टिप्पणी करने का आरोप लगाया था। कृष्ण सिंह केखिलाफ 2018 में पहली बार एक महिला मरीज ने केस दर्ज कराया था। जिसके बाद (World News) उसके जैसी कई अन्य महिला मरीज सामने आने लगी। कृष्ण सिंह को 54 आरोपों में दोषी ठहराया गया था। इसमें अधिकांश यौन हिंसा से जुड़े आरोप थे। वे अपने बचाव में हाईकोर्ट भी गए थे। लेकिन, उन्हें किसी तरह की अदालत से राहत नहीं मिली थी।

एक रात में सात बार

ऑस्ट्रेलिया का यह चर्चित मामला 2006 का है। जिसमें आरोपी अरविंद शर्मा (Arvind Sharma) है। वह भी चिकित्सक के पेशे से जुड़ा था। उसके खिलाफ जिस महिला ने आरोप लगाया था उसका दावा था कि उसने एक ही रात में उसके साथ सात बार शारीरिक संबंध बनाए थे। पीडि़ता और आरोपी एक-दूसरे को पहचानते थे। कई बार शारीरिक संबंध पीडि़ता की मर्जी से बने थे। लेकिन, उसे सात बार ज्यादती करने के मामले में विरोध था। इस दौरान उसने वीडियो बनाने और फोटो खींचने का भी काम किया था। घटना वाले दिन दोनों बेंडिगो के नाइट क्लब से लौटकर आए थे। अरविंद शर्मा को इस मामले में अदालत ने सात साल की सजा सुनाई थी।

रोग का डर दिखाकर आधा दर्जन महिलाओं से ज्यादती

World News
सांकेतिक चित्र

इसी तरह ब्रिटेन में मनीष शाह (Manish Shah) का केस सुर्खियों में रहा था। वे भी चिकित्सक थे। उन्होंने आधा दर्जन महिलाओं से शारीरिक संबंध बनाए थे। इस मामले में उन्हें लंदन के ओल्ड बेली कोर्ट ने सजा सुनाई थी। मनीष शाह को 25 आरोपों में दोषी करार दिया था। पीडि़तों के वकील ने अदालत को बताया था कि वह महिला मरीजों के प्रायवेट पार्ट की जांच करता था। जबकि जिस रोग में परीक्षण होना था वहां प्रायवेट पार्ट आता ही नहीं था। अभियोजन के दौरान आरोप था कि वह ऐसा 17 अन्य महिलाओं से कर चुका था। लेकिन, सामने आधा दर्जन महिलाएं आई थी। यह सारी घटनाएं उसने 2009 से 2013 के दौरान अंजाम दी थी।

यह भी पढ़ें:   Boycott China : मोबाइल से चाइनीज एप हटाने की अपील, सरकारी आदेश जारी
Don`t copy text!