‘शिवराज सरकार, शराब प्रेमी सरकार है, राशन नहीं मिलेगा लेकिन शराब मिलेगी’

Share

कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ का तीखा वार, गृह मंत्री का पलटवार

Kamalnath
कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री

भोपाल। मध्यप्रदेश में अवैध शराब के खिलाफ चल रही कार्रवाई के बीच नई चर्चा छिड़ गई है। खबर है कि शिवराज सरकार प्रदेश में शराब की दुकानों की संख्या बढ़ाने की तैयारी कर रही है। इसकी पैरवी खुद गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा (Narottam Mishra) कर रहे है। आज भी उन्होंने कहा कि ग्रामीण इलाकों में दुकानें बढ़ाने का सुझाव इसलिए बेहतर है क्योंकि आबादी के अनुपात में पड़ोसी राज्यों के मुकाबले मप्र में इनकी संख्या बहुत कम है। इस वजह से भी प्रदेश में पड़ोसी राज्यों से अवैध शराब के परिवहन की संभावना बढ़ जाती है।

अब इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (Kamalnath) ने शिवराज सरकार पर तीखा वार किया है। कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा कि- ‘कितना शर्मनाक है कि जो भाजपा चुनाव के पूर्व शराबबंदी की बात करती थी वो आज मध्य प्रदेश को शराब के दलदल में झोंकने की तैयारी कर रही हैं। अब जहरीली शराब के नाम पर शराब दुकानो को बढ़ाने की तैयारी की जा रही हैं।’

‘मैं तो शुरू से ही कहता आया हूं कि मध्यप्रदेश में भले लोगों को राशन नहीं मिले लेकिन सरकार शराब जरूर उपलब्ध करा रही है। कोरोना महामारी में भी भले धार्मिक स्थल ,आयोजन ,वैवाहिक कार्यक्रम बंद रहे ,कर्फ्यू लगा रहा लेकिन शराब की दुकाने देर रात तक चालू रही।’

‘प्रदेश की शिवराज सरकार शराब प्रेमी सरकार है और शराब की दुकानें व शराब के व्यवसाय को बढ़ाने के लिए नित नए निर्णय लेने का काम करती रहती है। यदि प्रदेश में शराब की दुकाने बढ़ायी गयी तो कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी , हम सदन से लेकर सड़क तक इस जनविरोधी निर्णय का खुलकर विरोध करेंगे।’

यह भी पढ़ें:   शिवराज सरकार ने किसानों से वापस मांगी सम्मान निधि

कमलनाथ को नरोत्तम मिश्रा का जवाब

कमलनाथ के तीखे हमले पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि शराब दुकानों के बारे में मध्यप्रदेश कांग्रेस दोमुंही बातें कर रही है। कमलनाथ सरकार ने हर 5 किमी की दूरी पर एक दुकान खोलने और ऑनलाइन शराब बेचने का निर्णय लिया था। व्यक्तिगत लाभ के लिए शराब इतनी महंगी कर दी कि अवैध शराब की बिक्री बढ़ गई। यदि यह गलत है तो कांग्रेस इसका खंडन करे।

यह भी पढ़ेंः वन अधिकारी को जिंदा जलाने की कोशिश

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!