NEET के गलत रिजल्ट ने ली छात्रा की जान, OMR शीट में हुआ ये खुलासा

Share

इतनी बड़ी लापरवाही का जिम्मेदार कौन ?

सांकेतिक चित्र

छिंदवाड़ा। मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा (Chhindwara) जिले एक छात्रा ने बीते दिनों आत्महत्या कर ली थी। छात्रा को NEET यानि नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट के परिणाम में महज 6 अंक मिले थे। जिससे दुखी होकर छात्रा ने आत्मघाती कदम उठा लिया था। छात्रा मेधावी थी लिहाजा इतने कम अंक मिलने पर उसे बड़ा आघात लगा था। बिटिया को कम अंक मिलने की वजह से परिजन भी दुखी थे। लेकिन उसके इस कदम से परिजन सदमे में आ गए। जिसके बाद उन्होंने नीट की परीक्षा की ओएमआर शीट की जांच कराई। जिसमें चौकाने वाला खुलासा हुआ ।

विधि को मिले थे 590 अंक

ओएमआर शीट की दोबारा जांच में पता चला की छात्रा को नीट की परीक्षा में 590 अंक मिले थे। बता दें कि नीट की परीक्षा में कुल अंक 720 होते हैं इनमें से विधि सूर्यवंशी को 590 अंक मिले थे। इन अंको के सहारे उसे मध्य प्रदेश के सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की सीट भी मिल सकती थी। लेकिन विधि अपनी इस कामयाबी को देख ना सके। लापरवाही की वजह से मिले त्रुटिपूर्ण परिणाम ने उसकी जान ले ली। अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि इस लापरवाही के जिम्मेदार कौन है। नीट का रिजल्ट आने के बाद 20 अक्टूबर को विधि ने अपने घर पर फांसी लगाकर जान दे दी थी।

सांसद नकुल नाथ ने उठाए सवाल

लापरवाही से भरे इस मामले को छिंदवाड़ा के सांसद नकुल नाथ ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने फेसबुक पोस्ट करते हुए सवाल उठाए हैं। उन्होंने लिखा कि

यह भी पढ़ें:   मध्यप्रदेश : 15 साल की लड़की से तीन दरिंदों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

आज मेरे संसदीय क्षेत्र छिन्दवाड़ा के परासिया मैग्जीन लाइन निवासी 18 वर्ष बिटिया के खुदकुशी का मामला सामने आया है परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं।
मुझे जानकारी प्राप्त हुई, की बालिका ने NEET की परीक्षा दी थी जिसके त्रुटिपूर्ण परिणाम में उन्हें 6 अंक प्राप्त हुए उसके सपने टूट गए क्योकी उन्होंने दिन रात कड़ी मेहनत की थी।
जब परिजनो ने OMR शीट ओपन करवाई तो बिटिया को 590 अंक हासिल करने की जानकारी प्राप्त हुई आख़िर इसका जबाबदार कौन???
कैसे परीक्षाओं और परिणामों में इतनी बड़ी लापरवाही हो सकती है???
मैं सभी छात्रों से निवेदन करता हूँ विपरीत परिणाम आने पर भावावेश में ऐसे ग़लत कदम ना उठाए। जीवन में बहुत बार हार ही जीत का मार्ग प्रशस्त करती है। परिजनो से मेरी अपील है की अपने बच्चों को साहस दे जिससे उन्हें सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त हो।

मैं सरकार से अपील करता हूँ मामला संज्ञान में लेकर लापरवाही करने वाले दोषियों पर त्वरित कार्यवाही करे।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!