Private Hospital Negligence: पीएम रिपोर्ट की अस्पष्टता से मामला सस्पेंस की तरफ

Share

Private Hospital Negligence: मेडविन अस्पताल में 16 दिन पहले हुई थी महिला की मौत, हैनिमन चिकित्सक चढ़ा रहे थे खून

Private Hospital Negligence
यह है वह अस्पताल जहां महिला की मौत हुई थी। इसी अस्पताल की बोर्ड के नीचे फेब्रीकेशन दुकान का भी बोर्ड लगा है। अब आप सोच लीजिए इन्हें अस्पताल खोलने का लायसेंस कैसे मिल गया होगा।

भोपाल। निजी अस्पतालों की मनमानी (Private Hospital Negligence) के किस्से आप अक्सर सुनते होंगे। यह मामले कोरोना की दोनों लहर में कई वीडियो के जरिए सामने भी आ चुकी है। ताजा मामला भोपाल सिटी के निशातपुरा इलाके का है। यहां 17 दिन पहले मेडविन अस्पताल में एक महिला की मौत हो गई थी। अस्पताल के संचालक और महिला का इलाज कर रहे चिकित्सक हैनिमन चिकित्सक हैं। इस मामले में पीएम रिपोर्ट आ गई है। जिसमें मौत की वजह स्पष्ट नहीं की गई है। मतलब साफ है कि चिकित्सा के क्षेत्र से जुड़ा यह मामला सस्पेंस की तरफ जाता नजर आ रहा है।

पुलिस अफसरों ने लिया यह फैसला

निशातपुरा एसीपी अनिल त्रिपाठी (ACP Anil Tripathi) ने बताया कि अंकिता मालवीय की मौत के मामले में बिसरा जांच के लिए सुरक्षित रखा गया है। इसके अलावा हार्ट और कपड़े भी एफएसएल जांच के लिए सुरक्षित रखे गए हैं। इन्हें लैब में भेजकर रिपोर्ट बुलाई जा रही है। इससे पहले जीएमसी ने पीएम रिपोर्ट में स्पष्ट राय नहीं दी थी। यह रिपोर्ट 30 जनवरी को निशातपुरा थाना पुलिस को मिली थी। निशातपुरा थाना प्रभारी महेन्द्र सिंह चौहान (TI Mahendra Singh Chouhan) इस मामले में शुरु से ही बचते रहे हैं। जब घटना हुई थी तब वे बेटे की बीमारी के चलते अवकाश पर गए थे। अब इस प्रकरण में बातचीत के लिए वे उपलब्ध नहीं हो सके। इधर, मेडविन अस्पताल के मालिक डॉक्टर दिलशाद अहमद (Dr Dilshad Ahmed) नियमित थाने के चक्कर काट रहे हैं। इसकी वजह वे ही ज्यादा बेहतर तरीके से बता सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: आटो डीलर ने किया विधवा महिला से बलात्कार

यह बोलकर बच रहे अस्पताल मालिक

Private Hospital Negligence
अंकिता मालवीय जिसकी खून चढ़ाते वक्त मेडविन अस्पताल में मौत हुई थी।

मेडविन अस्पताल (Medwin Hospital) को फरवरी, 2021 में लायसेंस मिला था। जिन्होंने यह लायसेंस जारी किया उस अफसर को सस्पेंड कर देना चाहिए। दरअसल, जहां अस्पताल है उसके बाजू में ही फे​ब्रीकेशन का काम होता है। जबकि गाइड लाइन के अनुसार अस्पताल सायलेंस जोन में होना चाहिए। इसके अलावा अस्पताल में एक भी एमबीबीएस डॉक्टर की नियुक्ति ही नहीं हैं। अस्पताल केएन मिश्रा के नाम पर हैं। जिनसे हमने संपर्क करने का प्रयास किया था। इधर, मेडविन अस्पताल के संचालक डॉक्टर दिलशाद अहमद का दावा है कि अंकिता मालवीय (Ankita Malviya) 18 जनवरी को जब लाई गई थी तब डिप्रेशन का शिकार थी। उसको हार्ट अटैक आया था। जबकि पिता गरीब दास मालवीय (Garib Das Malviya) का कहना है कि हम दूसरे अस्पताल शिफ्ट करने के लिए मिन्नते करते रहे। हमें एम्बुलेंस ही मुहैया नहीं कराई गई।

यह भी पढ़ें: पुलिस कमिश्नर प्रणाली में क्या इन रसूखदार बिल्डर के खिलाफ जिनकी दर्जनों शिकायतें थाने में धूल खा रही है उसमें कार्रवाई होगी।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Private Hospital Negligence
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Fraud Case: ऑफर की आड़ में थमा रहे थे नकली माल
Don`t copy text!