आतंकी संगठन Lashkar-e-Taiba के लिए धन जुटाने वाले को NIA ने किया गिरफ्तार

Share

एनआईए को 2017 से थी जावेद की तलाश, 5 आरोपी पहले हो चुके है गिरफ्तार

आतंकी संगठन का लोगो

नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) के लिए धन जुटाने (Raising Funds) वाले एक शख्स को गिरफ्तार किया है। आरोपी हवाला के जरिए आतंकी संगठन के लिए पैसा जुटाने का काम कर रहा था। आरोपी का नाम जावेद (40) है। जावेद (Jawed) को एनआईए ने लश्कर के सरगना शेख अब्दुल नईम उर्फ सोहेल खान की फंडिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के चलते गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि ये पैसा देश में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए इकट्ठा किया जा रहा था। जावेद को आपराधिक साजिश रचने के आरोपों के तहत गिरफ्तार किया गया है। जावेद 2017 से फरार था।

एनआईए अधिकारियों ने बताया कि मामले के पांच आरोपी- नईम, बेदार बख्त, तौसीफ अहमद मलिक, दिनेश गर्ग उर्फ ​​अंकित गर्ग और आदिश कुमार जैन को पहले गिरफ्तार किया गया था। एजेंसी ने कहा कि चार अन्य आरोपी जिनकी पहचान अमजद उर्फ ​​रेहान, हबीब-उर-रहमान, गुल नवाज, मोहम्मद इमरान के रूप में की गई है, उनकी तलाश की जा रही है। एनआईए की जांच से पता चला है कि जावेद उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के खामपुर गांव का रहने वाला है।

सऊदी अरब से मुजफ्फरनगर तक जुड़े थे तार

अधिकारी ने कहा कि वह आतंकवादी संगठन लश्कर से जुड़ा हुआ है और 2017 में सऊदी अरब से मुजफ्फरनगर तक हवाला चैनलों के माध्यम से धन की व्यवस्था करने में शामिल था। एनआईए की जांच में आगे पता चला है कि आतंकी फंड का इस्तेमाल देश के विभिन्न हिस्सों में लश्कर के लिए आतंकवादियों की भर्ती करने और विदेशी नागरिकों और पर्यटकों सहित साफ्ट टारगेट की पहचान करने के लिए किया जाता था। अधिकारी ने कहा कि जावेद के खिलाफ आपराधिक साजिश और देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए मामला दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें:   Fake Currency : गुजरात में फलफूल रहा नकली नोट का कारोबार, सूरत के बाद अब वडोदरा में मिले
Don`t copy text!