मध्यप्रदेश : दलित नवविवाहिता से 7 दरिंदों ने किया गैंगरेप, पुलिस ने 10 दिन बाद दर्ज की FIR

Share

पिपरिया की नवविवाहिता से सिलवानी के जंगल में सामूहिक बलात्कार

Pipariya Gang Rape
पिपरिया थाना

पिपरिया। (Pipariya) होशंगाबाद जिले के पिपरिया से गैंगरेप (Gang Rape) का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां 7 दरिंदों ने नवविवाहिता को हवस (Pipariya Gang Rape) का शिकार बनाया। गांव के दबंगों ने वारदात को अंजाम दिया है। नवविवाहिता को आरोपी घर से उठाकर ले गए थे। जिसके बाद बंधक बनाकर उसके साथ बारी-बारी से बलात्कार किया। 19 वर्षीय पीड़िता पिपरिया के मंगलवारा थाना इलाके के पुनोर गांव की रहने वाली है। जानकारी के मुताबिक दरिंदों ने 20 सितंबर को पीड़िता का अपहरण किया था। घटना सोमवार को सामने आई है। मामले में पुलिस पर गंभीर आरोप लगे है।

रायसेन जिले में हुआ रेप

Pipariya Gang Rape
सांकेतिक तस्वीर

गांव के ही दबंगों ने वारदात को अंजाम दिया है। जानकारी के मुताबिक 7 लोगों ने 20 सितंबर को पीड़िता को घर से उठा लिया था। उसे गाड़ी में बैठाकर रायसेन जिले के सिलवानी ले गए थे। जहां जंगल में पीड़िता को हवस का शिकार बनाया। मामले में मंगलवारा थाना पुलिस ने 7 आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पीड़िता ने 4 नामजद और 3 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया है।

4 नामजद आरोपी गिरफ्तार

Pipariya Gang Rape
सांकेतिक फोटो

एसडीओपी शिवेंदु जोशी ने द क्राइम इन्फो को बताया कि 4 नामजद आरोपी राजेंद्र किरार, धर्मेंद्र किरार, वीरेंद्र किरार, विक्रम किरार को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनमें से वीरेंद्र किरार रायसेन के सिलवानी गांव का रहने वाला है। बाकि सभी आरोपी पुनोर गांव के ही रहने वाले है। एसडीओपी ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ अपहरण की धारा 365 और सामूहिक बलात्कार की धारा 376 डी के तहत मामला दर्ज किया गया है। पीड़िता की मेडिकल जांच कराने के बाद मजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज कराए गए है।

यह भी पढ़ें:   Operation Prahar : आयल के ड्रम को रिडिजाइन करके हो रही थी गांजे की तस्करी

पुलिस पर गंभीर आरोप

मामले में पिपरिया की मंगलवारा थाना पुलिस पर गंभीर आरोप लगे है। पीड़िता के परिजन का कहना है कि 24 सितंबर को वो थाने आए थे। लेकिन पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की। एक तरफ आरोपी पक्ष उन्हें धमका रहा था। तो दूसरी तरफ पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। लिहाजा वो भोपाल गए। राजधानी भोपाल के अजाक थाने में आपबीती सुनाई। जब पिपरिया थाना पुलिस को भोपाल से फोन पहुंचा तो आनन-फानन में पीड़ित पक्ष को बुलाया गया। रविवार शाम को आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।

कांग्रेस ने दिया धरना

Pipariya Gang Rape
थाने के सामने धरना देते कांग्रेस नेता

वहीं घटना के खिलाफ लोगों में आक्रोश है। स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने शहर के मुख्य चौराहे पर धरना प्रदर्शन भी किया। थाने के सामने धरना दे रहे कांग्रेस नेताओं ने आरोपियों को फांसी दिए जाने की मांग की है। विधानसभा प्रत्याशी रहे हरीश बेमन, धर्मेंद्र नागवंशी, कांग्रेस नेत्री नीलम पचौरी समेत कार्यकर्ता धरने में शामिल हुए।

यह भी पढ़ेंः मध्यप्रदेश- पुलिस ने दर्ज नहीं की सामूहिक बलात्कार की एफआईआर, दलित महिला ने की आत्महत्या

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!