मध्यप्रदेश : पुलिस ने दर्ज नहीं की गैंगरेप पीड़िता कि रिपोर्ट, फांसी लगाकर दी जान

Share

FIR दर्ज करने की बजाए पीड़िता के परिजन को किया था प्रताड़ित

कमलनाथ ने उठाए सवाल, सीएम शिवराज ने लिया सख्त एक्शन

चीचली थाने की फोटो


नरसिंहपुर। हाथरस से बलरामपुर सहित मध्यप्रदेश के सतना-खरगोन व जबलपुर के बाद नरसिंहपुर (Narsinghpur) जिले में एक दलित महिला के साथ सामुहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है, पीड़िता और उसका परिवार अपनी फरियाद सुनाने पुलिस के चक्कर लगाते रहे पर किसी ने उनकी फरियाद नहीं सुनी। शिकायत दर्ज न होने और पुलिस पर अपना विश्वास खो देने के बाद पीड़िता ने खुद ही आत्महत्या कर ली। मामला नरसिंहपुर के चीचली (Chichli) थाना अंतर्गत एक गांव का है। पीड़िता की आत्महत्या के बाद पुलिस हरकत में आयी और 3 दुष्कर्मियों सहित 2 अन्य पर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला भी पंजीबद्ध कर लिया है। पुलिस के मुताबिक इस मामले में 2 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है तो वहीं पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है

नरसिंहपुर जिले में भी दलित महिला ने सामूहिक दुष्कर्म की शिकायत दर्ज न होने से आहत होकर मौत का रास्ता चुन लिया। घटनाक्रम चीचली थानातंर्गत एक गांव का है। जहां दलित महिला ने शुक्रवार सुबह घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतका के पति का आरोप है कि उसकी पत्नी के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ था। इसकी रिपोर्ट लिखाने वे तीन दिन से चौकी-थाने के चक्कर लगा रहे थे। आरोपियों के गिरफ्तार करने के बजाय पीड़िता के परिजनों को ही पुलिसवालों ने सलाखों के पीछे कर दिया।


शुक्रवार को महिला द्वारा आत्महत्या किए जाने की जानकारी जैसे ही सार्वजनिक हुई, पुलिस अधिकारियों के होश उड़ गए। आनन-फानन में गाडरवारा के एसडीओपी सीताराम यादव घटनास्थल पर पहुंचे। यहां उन्होंने शव का पंचनामा बनवाकर पोस्टमार्टम के लिए गाडरवारा सिविल अस्पताल भेजा। पीड़िता के पति, जेठ, सास व ननद के बयान दर्ज किए। मृतका के पति ने एसडीओपी गाडरवारा सीताराम यादव को बताया कि उसकी पत्नी 28 सितंबर को गांव स्थित खेत में चारा काटने गई थी। जहां पर परसू, गुड्डा व अनिल नाम के तीन लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया। शाम को घर आने पर पीड़िता ने ये बात परिजनों को बताई। इसके बाद सभी रात को ही गोटिटोरिया पुलिस चौकी पहुंचे, जहां उनसे आवेदन लेकर सुबह मेडिकल कराने की बात कही गई।

यह भी पढ़ें:   मध्यप्रेदश : पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के खिलाफ सड़क पर उतरेगी कांग्रेस

पीड़ित परिवार का आरोप है कि जब दूसरे दिन 29 सितंबर को वे चौकी पहुंचे तो उनकी रिपोर्ट नहीं लिखी गई। 30 सितंबर को वे चीचली थाना पहुंचे, जहां उनकी फरियाद सुनने के बजाय पुलिसकर्मियों ने महिला के पति, जेठ को ही लॉकअप में बंद कर दिया। पीड़िता के साथ गालीगलौच की गई। आरोप है कि महिला के परिजन को छोड़ने के एवज में पुलिस ने उनसे धन उगाही भी की। इससे व्यथित महिला ने 2 अक्टूबर की सुबह घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पीड़ितों का कहना था कि यदि समय पर रिपोर्ट लिख जाती तो उनकी बहू-पत्नी की जान न जाती। वहीं इस मामले में एसडीओपी सीताराम यादव का कहना था कि पीड़ितों ने उनके घर की महिला के साथ तीन लोगों द्वारा दुष्कर्म की शिकायत की है। मामले की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दे दी गई है। जांच जारी है, पीड़ितों के बयान ले लिए गए हैं, जो दोषी होगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी।

कमलनाथ ने उठाए सवाल

भाजपा शासित राज्यों में बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ नारो की ये है वास्तविकता ?
यूपी के साथ- साथ मध्यप्रदेश में भी बहन- बेटियों के साथ दरिंदगी-दुष्कर्म की घटनाएँ निरंतर घटित हो रही है।
खरगोन , सतना , जबलपुर के बाद अब नरसिंहपुर के चिचली थाना के अंतर्गत एक गाँव में एक दलित महिला से गैंगरेप की घटना होने पर पीड़िता की कोई सुनवाई नहीं हुई , उल्टा पीड़िता के परिजनो को ही प्रताड़ित करने की बात सामने आयी है।मजबूरीवश पीड़िता ने अपनी जान दे दी।
ये कैसी क़ानून व्यवस्था ? दोषियों पर कार्यवाही क्यों नहीं ?
ज़िम्मेदार इन घटनाओं पर मौन क्यों ?
विपक्ष में ऐसी घटनाओं पर धरने देने वाले आज कहाँ ग़ायब है ?

यह भी पढ़ें:   Madhya Pradesh Rape: ब्यूटी पार्लर संचालिका से ज्यादती, शादी का झांसा देता था आरोपी

सीएम शिवराज ने कि कार्रवाई

जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री ने मामले को गंभीरता से लेते हुए चीचली मामले का पूरी संवेदनशीलता के साथ मुख्यमंत्री ने लिया संज्ञान चौकी प्रभारी जिसने एफआईआर नहीं लिखी उसके खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर गिरफ्तार करने के निर्देश एडिशनल एसपी और एसडीओपी को हटाया गया। एसपी से स्पष्टीकण मांगा गया। एसपी फिलहाल छुट्टी पर है। दो आरोपियों को गिरफ्तार कर 376d और 306 धारा के अंतर्गत मामला दर्ज।

Don`t copy text!