Bhopal Suicide Case: इंजीनियरिंग छात्र फंदे पर झूला

Share

Bhopal Suicide Case: छात्र समेत दो व्यक्यिों की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत

Bhopal Suicide News
सांकेतिक चित्र

भोपाल। सागर कॉलेज के एक इंजीनियरिंग छात्र ने आत्महत्या (Bhopal Student Suicide Case) कर ली। दूसरी तरफ सीने में दर्द की शिकायत के बाद एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया। दोनों घटनाएं मध्यप्रदेश (MP Crime News) की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) की है। घटना स्थल से किसी तरह का कोई सुसाइड नोट (Bhopal Suicide Case) नहीं मिला है। जिस व्यक्ति को सीने में दर्द से परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे थे। वहां डॉक्टरों की जांच में उसे कोराना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। छात्र का शव पीएम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। वहीं दूसरे मामले में पीएम नहीं हुआ।

इंजीनियरिंग का छात्र

बिलखिरिया थाना पुलिस ने बताया जयराम अहिरवार पिता संतोष उम्र 18 साल का था। परिजनों ने बताया जय नवीन बस्ती कोकता का रहने वाला था। पिता भेल में सिक्यूरिटी गार्ड की नौकरी करते हैं। वहीं बेटा इस साल सागर कॉलेज से सेकंड ईयर कर रहा था। घटना वाले दिन परिजन घर पर मौजूद नहीं थे। शाम चार बजे भाई गुलशन जब घर पहुंचा तो देखा जयराम अहिरवार फांसी (Jairam Ahirawar Suicide Case) के फंदे पर लटका हुआ है। भाई फंदे से उतारकर हमीदिया अस्पताल पहुंचा था। जहां शाम साढ़े सात बजे डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने मर्ग कायम कर शाम पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

सीने में हुआ था दर्द

अयोध्या नगर थाना पुलिस ने बताया राकेश पिता केसी पुरूषोत्तम उम्र 40 साल निवासी अहिंसा विहार कॉलोनी का रहने वाला था। परिजनों ने बताया राकेश लॉड्री की दुकान चलाता था। गुरूवार सुबह उठकर नहाने के बाद वह दुकान जाने के लिए तैयार हुआ था। जब वह नीचे उतरा तो बड़े भाई (Rakesh) से बोला मुझे सीने में दर्द हो रहा है। वह खुद ही दुकान से जाकर ईनो लाया और पी लिया। इसके बाद भी उसे आराम नहीं मिला तो भाई उसे अस्पताल ले जाने के लिए कपड़े पहनने लगा। लेकिन, वह पलंग पर पड़ा हुआ था। वह बोल नहीं पा रहा था।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Road Mishap: पीडब्ल्यूडी कर्मचारी की सड़क हादसे में मौत

इसलिए नहीं हुआ पीएम

बेटे ने आवाज लगाई और बोला चाचा उठ नहीं रहे। परिजन भागकर कमरे में पहुंचे और उसे एम्स अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने उसे सुबह ग्यारह बजे मृत घोषित कर दिया था। जब डॉक्टरों ने पीएम से पहले उसकी कोरोना जांच की तो वह पॉजिटिव आई। इसी कारण उसके शव का पीएम नहीं किया गया। नियम अनुसार शव को अंत्येष्टि के लिए नगर निगम को सौंपा गया।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!