Bhopal Cop Bribe Case: वीडियो वायरल करने वाली महिला रिश्वत देने की बात से मुकरी

Share

Bhopal Cop Bribe Case: सीएसपी से कहा कि भैंस वाले को पैसा देने के लिए ड्रायवर को दी थी रकम, फजीहत में आया नया ट्वीस्ट

Bhopal Cop Bribe Case
सोशल मीडिया में वायरल वीडियो में दिख रहे एसआई मेहताब सिंह- File Picture

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Cop Bribe Case) के बिलखिरिया थाने में दो दिन पहले पैसे लेने—देने के कथित वायरल वीडियो के मामले में नया ट्वीस्ट आया है। जिस महिला ने वीडियो बनाया था वह बयान से पलट गई है। उसका कहना है कि उसने रिश्वत नहीं बल्कि भैस चोरी की शिकायत करने वाले व्यक्ति के नुकसान की भरपाई के लिए रकम दी थी। मामला एक ही कुनबे में चल रहे रंजिश से भी जुड़ा हुआ है। मतलब साफ है कि विवादों में फंसे लाइन अटैच एसआई मेहताब सिंह (SI Mehtab Singh) को अब कभी भी क्लीन चिट मिल सकती है।

छेड़छाड़ की दर्ज है एफआईआर

पुलिस सूत्रों के अनुसार मामले की जांच सीएसपी अयोध्या नगर संभाग सुरेश दामले कर रहे हैं। उन्होंने सोमवार को बारी—बारी से आरोप लगाने वाली महिला के परिजनों के बयान दर्ज किए। जिसके बाद यह निकलकर सामने आया है कि एक ही कुनबे में विवाद चल रहा है। महिला ने कुछ समय पहले छेड़छाड़ का प्रकरण दर्ज कराया था। जिसमें रिश्तेदार को आरोपी बनाया गया है। उसी रिश्तेदार ने भैस चोरी की एफआईआर दर्ज कराई थी। सूत्रों के अनुसार छेड़छाड़ के मुकदमे में समझौते के लिए भैस चोरी के प्रकरण दर्ज कराने की बात अभी सामने आ रही है। हालांकि अभी यह प्रमाणित नहीं हो सका है। पुलिस की एक टीम चोरी गए भैस के बारे में भी पड़ताल कर रही है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case: मामा के साथ रह रही भांजी फंदे पर झूली

यह है मामला

Bhopal Cop Bribe Case
सोशल मीडिया में वायरल वीडियो में दिख रहे एसआई मेहताब सिंह_ File Picture

बिलखिरिया थाना प्रभारी रहे एसआई मेहताब सिंह के दो वीडियो वायरल हुए थे। एक वीडियो में वह थाने के भीतर दिखाई दे रहे है। जिसमें वह चोरी की एफआईआर होने का कहते हुए महिला के पति को छोड़ने की बात से इनकार कर रहे हैं। यह वीडियो 30 मार्च को सोशल मीडिया में यह बोलकर वायरल हुआ था कि भैस चोरी के संदेही से 10 हजार रुपए की रिश्वत ली गई। जांच में यह भी बात सामने आई है कि जिस व्यक्ति की मदद से यह रकम ली गई उसने ही भैस चोरी की एफआईआर दर्ज कराने वाले से समझौता कराने का बोल रहा था। हालांकि सीएसपी अयोध्या नगर सुरेश दामले (CSP Suresh Damle) का कहना है कि अभी जांच पूरी नहीं हुई है। कुछ अन्य लोगों के बयान दर्ज किया जाना अभी बाकी है।

Don`t copy text!