Sharp Shooter ने मंदसौर पुलिस पर बरसाई गोलियां

Share

गांधी सागर बांध और डैम किनारे घेराबंदी करके सरेंडर करने के लिए किया गया मजबूर, तीन पिस्टल और 101 जिंदा कारतूस भी बरामद

Punjab Sharp Shooter
एसपी हितेश चौधरी के पीछे पंजाब के शार्प शूटर जिन्होंने गुरुवार को मंदसौर में दहशत फैला दी थी

मंदसौर। पंजाब (Punjab) के दो शार्प शूटरों (Sharp Shooter) ने मंदसौर (Mandsour) पुलिस पर गोलियां बरसाईं। यह शार्प शूटर हरियाणा (Haryana) नंबर के वाहन पर घुम रहे थे। संदेह होने पर पूछताछ के लिए रोका गया तो बदमाशों ने पुलिस पर फायर कर दिया। उन्हें दबोचने के लिए गांधी सागर बांध (Gandhi Sagar Dam) में बोट लेकर पुलिस को उतरना पड़ा। चारों तरफ से घिरने के बाद कुख्यात शूटरों ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया।

यह जानकारी देते हुए एसपी मंदसौर हितेश चौधरी (SP Hitesh Choudhry) ने बताया कि यह शूटर पंजाब (Punjab) के देवेन्द्र ब्रम्हे  गैंग (Devendra Brahme Gang) के लिए काम करते हैं। इन्हें मंदसौर में गरोठ पुलिस की मदद से दबोचा गया। दोनों आरोपियों के कब्जे से 03 पिस्टल, 101 जिंदा कारतूस और 03 खाली कारतूस बरामद किए गए हैं। आरोपियों के कब्जे से स्वीफ्ट डिजायर कार जिसके भीतर पांच फर्जी नंबर प्लेट भी मिली हैं। एसपी ने बताया कि दोपहर साढ़े बारह बजे आरक्षक रोहित चाकरे (Constable Rohit Chakre) और गोपाल गुर्जर (Constable Gopal Gurjar) बर्डिया अमरा से निकल रहे थे। यहां हरियाणा पासिंग डिजायर कार संदिग्ध दिखाई दी। कार के पास जाकर उसमें बैठे व्यक्तियों से मंदसौर में आने का कारण पूछा जाने लगा। गाड़ी की तलाशी के लिए कहा गया तो वह आरक्षक पर कार चढ़ाकर भागने का प्रयास करने लगे।

चंबल नदी में घुसाया
बदमाश खुलेआम गोली चला रहे थे। इसलिए जनहानि न हो इसलिए सुनियोजित तरीके से कार को शहर से बाहर की तरफ जाने के लिए मजबूर किया गया। कार मेलखेडा की तरफ भागी जिसका आरक्षकों ने पीछा किया। पुलिस थाना शाामगढ और गरोठ पुलिस को वायरलेस सेट पर इस बात की जानकारी दी गई। सभी थानों पर नाकाबंदी करके कार को रोकने के निर्देश जारी किए गए। साठखेडा रोड पर कार धीरे हो गई। यहां आरक्षक पर फायर किया गया। बारामसी चौराहे पर नाकाबंदी और बैरीकेटिंग तोड़कर फायरिंग करते हुए बदमाश खडावदा की तरफ भाग गए। इलाके से अनजान बदमाश चंबल नदी के डूब इलाके में घुस गए।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime News: सूदखोर किन्नर ने पेट में छुरी मारी

बोट की मदद से घेरा
चंबल (Chabal River) के डूब इलाके में बदमाशों को जब कुछ नहीं सूझा तो गाडी छोड़कर एक काला बैग लेकर हथियार के साथ पानी की तरफ बदमाश भाग गए। सब इंस्पेक्टर मूलचन्द धाकड (SI Moolchandra Dhakad) ने दोनों बदमाशों को चेतावनी देकर रोकना चाहा। वह नहीं माने तो धाकड़ बदमाशों का पैदल पीछा करने लगे। इस बीच बदमाशों ने तीन फायर किए। बदमाशों की फायरिंग की सूचना मिलने पर उस इलाके पर भारी पुलिस बल भेज दिया गया। दोनों बदमाशों को पकड़ने के लिए गांधी सागर बांध (Gandhi Sagar Dam) पर स्पीड बोट पुलिस ने उतारी। डैम और जमीन में चारों तरफ से घिरे होने के बावजूद बदमाशों ने फायरिंग जारी रखी। उन्हें आखिरी चेतावनी दी गई और कहा गया कि सरेंडर नहीं किया गया तो गोली मारी जाएगी। दबाव के लिए पुलिस ने हवाई फायर भी किए। इसके बाद बदमाश टापू से बाहर निकले और सरेंडर करने का इशारा किया।

उतार दी थी छह गोलियां
एसपी ने बताया कि बदमाश अमरिक सिंह उर्फ शेरा (Amrik Singh @ Shera) पिता लेखराज सिंह है। बदमाशा पंजाब के मोंगा जिले में बाग पुराणा थाना क्षेत्र का रहने वाला है। उसका दूसरा साथी लखबिंदर सिंह उर्फ लक्खा (Lakhvinder Singh @ Lakkha) है। दोनों बदमाशों के खिलाफ गरोठ थाने में हत्या के प्रयास, पुलिस कर्मचारी से मारपीट और आमर्स एक्ट का मामला दर्ज किया गया। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि उनके खिलाफ पंजाब में चार-पांच हत्या व करोडों की फिरौती सहित कई गंभीर मामले दर्ज हैं। हाल ही में 7 नवंबर को फरीदकोट में दयाल सिंह की छाती पर 6 गोलियां आरोपियों ने उतार दी थी। इसी मामले में फरार होकर बदमाश अपने दोस्त पुष्कर के पास आये थे।

यह भी पढ़ें:   Corrupt Officer: घूस में मिली भैस तो खुली कलई, नायाब तहसीलदार पर गिरी गाज
Don`t copy text!