MPSEB News: राजधानी में बिजली विभाग की दबंगई

Share

MPSEB News: मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के चार कर्मचारियों ने आकर बिना पूर्व सूचना घर का बिजली कनेक्शन काटा, अत्यधिक बिजली और खपत दर्शाकर ईडब्ल्यूएस मकान को थमाया था तीन हजार रूपए का बिल, सीएम हेल्पलाइन में हुई शिकायत, कर्मचारियों ने आठ हजार रूपए महीना वेतन दूसरी जगह मिलने का बोलकर उपभोक्ता के साथ की अभद्रता, श्री हरि और हनुमान चालीसा से चलने वाली सरकार को पीड़ित परिवार उन्हीं के अनुसार करेगा घर पर विरोध प्रदर्शन

MPSEB News
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान— फाइल फोटो

भोपाल। मध्यप्रदेश में मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (MPSEB News) की मनमानी से आम नागरिक काफी परेशान है। इस बात की शिकायत करने के लिए सीएम हेल्प लाइन में फोन भी लगाया गया। यहां पांच बार कॉल करने पर एक शिकायत दर्ज की जा रही है। दरअसल, कंपनी की तरफ से ईडब्ल्यूएस मकान में भारी खपत दिखाकर एक महीने का तीन हजार रूपए का बिल बना दिया गया था। जिसका विरोध करने पर कंपनी के अधिकारियों ने समस्या का निराकरण नहीं किया। वहीं रविवार जिस दिन कार्यालयों में अवकाश रहता है उस दिन चार कर्मचारी भेजकर घर का बिजली कनेक्शन काट दिया गया। कार्रवाई का विरोध करने पर कर्मचारियों ने उपभोक्ता के साथ अभद्रता भी की।

सीएम हेल्प लाइन में जाने की लग गई थी भनक

जानकारी के अनुसार यह पूरा मामला राजधानी के भोपाल स्थित वल्लभ नगर जोन का है। यहां अवधपुरी में स्थित भोपाल विकास प्राधिकरण के एक नंबर सेक्टर में सुनीता पांडे (Sunita Pandey) का परिवार रहता है। पति—पत्नी असं​गठित क्षेत्र में काम करते हैं। इस क्षेत्र में कोरोना काल से किसी तरह के आय के कोई साधन नहीं है। ऐसी स्थिति लगभग हर परिवार में बनी हुई है। इसके अलावा परिवार मध्यमवर्गीय और सामान्य श्रेणी से होने के चलते सरकार की किसी योजना के हितग्राही भी नहीं हैं। इसलिए परिवार समन्वय करने के बाद घर चला रहा है। इसी घर में तीन महीने तक 2100 रूपए का बिल आया था। जिसका भुगतान त्यौहार के कारण नहीं किया जा सका। परिवार किस्त में भुगतान करता उससे पहले चौथे महीने बिजली कंपनी ने एक ही महीने का बिल तीन हजार रूपए का काट दिया। इसकी शिकायत वल्लभ नगर जोन (Vallabh Nagar Zone) में करने का प्रयास किया गया। लेकिन, अधिकारियों ने आवेदन स्वीकार नहीं किया। परिवार सीएम हेल्प लाइन में शिकायत करता उससे पहले बिजली कंपनी ने चार कर्मचारियों को अवकाश वाले दिन बिजली काटने भेज दिया। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) भांजियों का मामा बताकर प्रचारित करते हैं। पीड़ित परिवार के यहां दो बेटियां और एक मासूम बेटा है। यह भांजे और भांजियां अब अंधेरे में अपनी शिक्षा हासिल करेंगे।

यह भी पढ़ें:   BDA Property Encroachment: बीडीए के अतिक्रमण अधिकारी को अपने अधिकारों की नहीं है जानकारी

यह भी पढ़िएः तीन सौ रूपए का बिल जमा नहीं करने पर बिजली काटने के लिए आने वाला अमला, लेकिन करोड़ों रूपए के लोन पर खामोश सिस्टम और सरकार का कड़वा सच

यह बोलकर अभद्रता करते रहे कर्मचारी

MPSEB News
शिवराज सिंह चौहान, CM MP— फाइल फोटो

रविवार को चार कर्मचारी कंपनी की सरकारी जीप पर सवार होकर आए। परिवार को तुरंत एक घंटे में बिल जमा करने के लिए बोला गया। जब परिवार ने भारी बिल को लेकर आपत्ति जताई तो उन्होंने कहा हमसे विरोध जताने की बजाय आप भुगतान करें। नहीं तो बिजली कनेक्शन काट दिया जाएगा। कर्मचारी कह रहे थे कि हमें आठ हजार रूपए महीने का सरकार वेतन देती है। यह वेतन दूसरी निजी संस्थाओं से भी मिल जाएगा। अभद्रता करते हुए कर्मचारी बिजली के पोल पर चढ़े और कनेक्शन काट दिया। इस दौरान कर्मचारियों ने पोल पर बिजली के तार को बेहद लापरवाही से भी काटा। जिसका कॉलोनी के रहवासियों ने विरोध किया तो वे कहने लगे कि हम ऐसा ही कार्य करते हैं। पीड़ित परिवार की मांग है कि जब तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पूरे प्रकरण की निष्पक्ष जांच कराकर दोषी कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश नहीं देंगे वे अपना बिजली कनेक्शन बहाल नहीं करेंगे। इसके अलावा परिवार शांतिपूर्वक तरीके से अपना विरोध भी जताएगा। इतना ही नहीं रहवासियों की मदद से प्रतिदिन एक घंटा अंधेरे में भजन के जरिए विरोध जताने की योजना बना रहा है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MPSEB News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide Case: लॉक डाउन में पत्नी छोड़कर गई तो फंदे पर झूला पति
Don`t copy text!