Bhopal Suicide Case: मेडिकल स्टोर के कर्मचारी ने लगाई फांसी

Share

Bhopal Suicide Case: मौत की वजह से पुलिस अंजान, पीएम के बाद शव परिजनों को सौंपा

Bhopal Suicide News
सांकेतिक चित्र

भोपाल। पिता से मिलकर लौटने के बाद बेटा फंदे पर झूल (Bhopal Suicide Case) गया। घटना मध्यप्रदेश (MP Crime News) की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) की है। जिस युवक ने यह कदम उठाया वह मेडिकल स्टोर में काम भी कर रहा था। वह कॉलेज में प्रवेश की तैयारियों में भी जुटा था। वह पढ़ाई के लिए मोबाइल खरीदना चाहता था। घटना स्थल से कोई सुसाइड नोट पुलिस को बरामद नहीं हुआ है। इस कारण मौत (Bhopal Hanging Case) की सही वजह पुलिस को पता नहीं चली है। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

बहन के साथ रहता था

निशातपुरा थाना पुसिल ने बताया बंटी राजपूत (Bunty Rajput) पिता हरी सिंह राजपूत उम्र 20 साल मूलत: कुरावर (Kuravar) थाना क्षेत्र का रहने वाला था। वह बड़ी बहन के साथ भोपाल में गोया कॉलोनी (Nishatpura Suicide Case) में किराए के मकान में रहता था। वह 12वीं पास छात्र था। उसे आगे की पढ़ाई के लिए कॉलेज में एडमिशन लेना था। लेकिन लॉकडाउन की वजह से एडमिशन नहीं हो सका। बहन एमपी नगर में प्राईवेट जॉब करती है। उसने बैठने की बजाय करोद पर जीवन अस्पताल के मेडिकल स्टोर (Jeevan Hospital Medical Store) पर काम करना शुरु कर दिया था। आत्महत्या से पहले वह 25 जुलाई को पिता से मिलने गांव गया था।

दो गमछों से बनाया फंदा

उसने गांव में पिता से मोबाइल खरीदने की बात बोली थी। पिता का बोलना था वह भोपाल आकर उसे दिला देंगे। बंटी गांव से 27 को वापस लौट आया था। मंगलवार बंटी की बहन सुबह खाना बनाकर निकल गई थी। शाम पांच बजे वह लौटी तो दरवाजा अंदर से बंद था। शक होने पर बहन ने 108 को कॉल करके बुलाया था। पुलिस दरवाजा तोड़कर दाखिल हुई तो बंटी पंखे पर दो गमछों का फंदा बनाकर लटका (Bunty Rajput Suicide Case) था। पुलिस को कमरे में टूटे पुराने मोबाईल फोन बरामद हुए हैं। पुलिस का बोलना है कि वह मोबाइल नहीं रखता था। परिवार में शोकाकुल माहौल होने के कारण बयान नहीं हो सके है।

यह भी पढ़ें:   MP Fake Currency : पैरोल पर बाहर आते ही छापने लगा नकली नोट

यह भी पढ़ें: बाली उम्र के इन नादान दीवानों ने माता—पिता को ताउम्र के लिए दे दिया इतना खतरनाक दंश

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!