MP Police Gossip: गृह—नक्षत्र सुधारने थाने में हुआ सुंदरकांड

Share

MP Police Gossip: दो महीने में तीन हत्या से परेशान होकर थाना प्रभारी पहुंचे भगवान के चरणों में

MP Police Gossip
सांकेतिक चित्र

भोपाल। (MP Police Gossip) राजधानी भोपाल में अपराध को लेकर कई थाना प्रभारियों की खिंचाई होती है। हालांकि यह खिंचाई इशारों में होती है। लेकिन, प्रभारी इसको अपनी नाक का विषय बना लेते हैं। ऐसे ही एक थाना भोपाल का है जहां दो महीने में तीन मर्डर हो गए। खास बात यह थी कि दो पुलिस के परिवार में हत्या हुई थी। इसलिए किसी ने प्रभारी को सुझाव दिया कि वे थाने में अनुष्ठान कराएं। यह सुनकर प्रभारी महोदय तैयार हो गए। उन्होंने शनिवार के दिन थाने में सुंदरकांड का पाठ करा दिया। इस पाठ की आस—पास खबर न फैले इसलिए लाउड स्पीकर से परहेज किया गया। दरअसल, जहां थाना है वह घर पर है और बीच कॉलोनी के बीच में हैं।

सुनार से प्रमाण लेने की फीस

पिछले दिनों क्राइम ब्रांच ने एक गिरोह पकड़ा था। इस गिरोह से लाखों रुपए का माल बरामद हुआ था। यह माल जिन थानों का था उन्हें बुलाकर सौंपा गया। लेकिन, कुछ थाने में माल बिना फीस नहीं दिया जा रहा। पूछने पर बताया जा रहा है कि सुनार से बरामद माल असली है अथवा नकली का प्रमाण पत्र लिया जाना है। इस काम के लिए थाना पुलिस 800 रुपए की फीस मांग रही है। हालांकि इस काम के लिए कोई फीस नहीं ली जाती। लेकिन, पुलिस अपने तरीके से कमाई कर ही लेती है। वह चाहे दूसरे विंग ने ही माल बरामद करके क्यों न दिया हो।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Robbery Case: वकील के मकान में घुसकर हजारों रुपए का माल चोरी

पति से पॉवरफुल निकली पत्नी

पिछले दिनों स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा विवादों में आ गए। वजह उनकी पत्नी ही थी। दोनों के बीच जमकर हाथापाई हुई थी। जिसका वीडियो सोशल मीडिया में भी वायरल हुआ था। इस मारपीट के दौरान दो नौकर भी उसमें दिखाई दे रहे थे। वे दोनों ज्यादा कुछ कर नहीं पा रहे थे। उन्हें भी पता था मामला घरेलू हैं। हस्तक्षेप किया तो उनकी नौकरी पर बन आएगी। इस घटना के बाद स्पेशल डीजी निलंबित कर दिए गए। जिसके बाद उन्होंने विभाग से मिले सारे अर्दली वापस कर दिए। लेकिन, उनकी पत्नी ने अब तक अर्दली वापस नहीं किए। जबकि यह कर्मचारी पति के कारण ही उन्हें मिले थे।

डॉक्टर दीपक मरावी पर मेहरबानी

पिछले दिनों एक चैनल मालिक पर अड़ीबाजी का आरोप लगा। यह आरोपी हमीदिया अस्पताल के डॉक्टर दीपक मरावी ने लगाया था। हालांकि इससे पहले वह चैनल के स्टिंग में फंस गए थे। मरावी के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज हुआ और वे अब तक फरार है। लेकिन, इस पूरे एपिसोड में उनका स्टिंग किया गया वीडियो रह गया। जिसको लेकर विभाग में कानाफूसी चल रही है। यह दिखने से बच गया जिसके बदले में कुछ तो खेल हुआ ऐसी धारणाएं जताई जा रही है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!