MP Cop Gossip: थाने में बन गए वीडियो को डिलीट कराया, खतरा अब भी बरकरार

Share

MP Cop Gossip: गाड़ियों की गाडी कमाई अब गुडगुड़ाने लगा एक अफसर का पेट, एक ही शहर के दो कानून से हो रही किरकिरी

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश पुलिस विभाग में भीतर ही भीतर बहुत कुछ चल रहा होता है। उनमें से बहुत कम बातें सामने आ पाती है। दबी हुई बातें वह होती है जिनके सबूत नहीं होते। ऐसे ही बातों का हमारा नियमित काॅलम एमपी काॅप गाॅसिप (MP Cop Gossip) है। यह जिस व्यक्ति से जुड़ा होता है वह उसको पता रहता है। इसलिए हम उनका नाम सार्वजनिक नहीं करते हैं। बस यह अहसास कराते हैं कि बातें थाने में नहीं छुपती। हमारे इस साप्ताहिक काॅलम में किसी व्यवस्था, अफसर या व्यक्ति को छोटा-बड़ा दिखाना नहीं होता है। बल्कि इस बात का अहसास कराना होता है कि दीवारों के भी कान होते हैं।

नेता से भिड़ गए अफसर

पिछले दिनों पुराने शहर के एक अफसर दुकानों को बंद करा रहे थे। इस दौरान वे एक राष्ट्रीय दल के नेता के रिश्तेदार की दुकान बंद कराने पहुंच गए। इसको लेकर अफसर की नेता से हाॅट टाॅक हो गई। नेता जी कहना था कि जहां वे दुकान बंद करा रहे हैं उससे ही पांच सौ मीटर दूर पूरा बाजार खुला रहता है। नेता जी कहना था कि वहां की दुकान बंद होते ही वे अपनी दुकान उनके बिना आए समय पर बंद कर देंगे। काफी हंगामा मचा और अफसर को बैकफुट में आना पड़ा। क्योंकि जिन दुकानों को बंद कराने की बात नेता जी कर रहे थे वहां जाने का साहस पुलिस कभी नहीं करती है। इस बात को लेकर कई बार सोशल मीडिया में पुलिस की किरकिरी यह बोलकर हुई है कि एक शहर के दो कानून।

आंदोलनकारियों ने उड़ाई नींदें

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

पिछले दिनों एक बड़े मैदान में प्रमाण पत्र बांटे जा रहे थे। इस कार्यक्रम में काफी वीआईपी लोगों को पहुंचना था। पुलिस महकमे (MP Cop Gossip) को खबर मिली कि आयोजन में कुछ लोग पहुंचकर सरकार की नीतियों का विरोध करेंगे। जिन संगठनों ने यह जिम्मा उठाया था पुलिस ने उसकी जानकारी जुटाई। फिर रातों रात उन नेताओं और प्रदर्शनकारियों को उठाकर शहर के अलग-अलग सरहदी थानों में बैठा दिया गया। वे तब तक थाने में बैठे रहे जब तक सरकारी आयोजन समाप्त नहीं हो गया। आपको बता दें कि यह वही लोग है जिनका भर्ती में चयन कर लिया गया हैं लेकिन सेवाओं में मौका नहीं मिल पा रहा है। यह आवाज पिछले छह महीने से संगठन उठा रहे हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: दहेज प्रताड़ना के दो मुकदमे दर्ज

नोटशीट में मांग लिया जवाब

शहर के एक अधिकारी अपने सुपर विजन अफसर के आंखों की किरकिरी बने हुए हैं। दोनों के बीच टकराव का आलम यह है कि मातहत अफसरों को अपनी नौकरी बचाना मुश्किल हो गया है। क्योंकि दोनों अफसर एक-दूसरे की टांग खींचने के लिए कमजोरियों को तलाशकर उसे उजागर करने की मुहिम में जुटे हैं। हालांकि इसमें एक अफसर ने बाजी मार ली है। उन्होंने वाहनों की गड़बड़ी का बड़ा मामला पकड़ लिया है। जिसके बाद टक्कर ले रहे अफसर के माथे से पसीना टपक रहा है। उनकी जांच के लिए बकायदा नोटशीट लिखी गई है। जिसका जवाब गाडी देने वाले अफसर नहीं दे पा रहे हैं। यह मामला अभी का भी नहीं है परंपरा पुरानी है जिसका पालन मौजूदा अधिकारी कर रहे हैं। यदि आंच आई तो कई पुराने अफसर भी नपेंगे इसलिए सभी को डर सता रहा है।

वीडियो हो गया रिकवर

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

पिछले दिनों एक दवा प्रतिनिधि को एक होलसेल के कारोबारी ने बुरी तरह से पीट दिया। यह पूरी घटना (Mp Cop Gossip) कैमरे में भी कैद हुई। मामला थाने पहुंचा और मुकदमा दर्ज करने की तैयारी की जाने लगी। इसी बीच थाना प्रभारी के पास फोन आया। इस फोन के बाद दर्ज हो रहा मुकदमा फर्जी साबित किया जाने लगा। इस बात का पीड़ित पक्ष ने विरोध किया तो मामला देख रहे एक थानेदार ने पीड़ित के भाई की बेरहमी से पिटाई लगा दी। जब यह पिटाई की जा रही थी तब वह वीडियो बना रहा था। नाराजगी इसी बात को लेकर थानेदार को थी कि वह यह बातें रिकाॅर्ड क्यों कर रहा है। वीडियो भी डिलीट कराया गया। हालांकि पिटाई से क्षुब्ध युवक ने वह वीडियो तकनीकी मदद से रिकवर कर लिया। अब इस वीडियो के साथ आला अधिकारियों को शिकायत हो गई है। जिसको दबाने के लिए थाना प्रभारी युद्ध स्तर पर जुटे हुए हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Cyber Fraud: डेढ़ महीने बाद सायबर फ्रॉड का मामला दर्ज

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Cop Gossip
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!