Forest Guard Shot Dead: बाज के शिकार के वक्त सामने आ गया वन रक्षक

शिकारी ने गोली मारी, वन रक्षक की दर्दनाक मौत

Forest Guard Shot Dead
वनरक्षक दीपू राणा

ग्वालियर। (Gwalior Crime News In Hindi) लॉक डाउन के चलते वन्य प्राणियों का मूवमेंट बढ़ गया है। यह वक्त शिकारियों (MP Poachers News) के लिए मुफीद है। उन्हें शिकार आसानी से मिल रहे हैं। इसी तरह का एक मामला सामने आया है। घटना मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh Crime News) के ग्वालियर (Gwalior Crime News) जिले की है। शिकारी जंगल में बाज का शिकार करके लौट रहा था। तभी उसका सामना वन रक्षक (Gwalior Forest Guard Murder) से हो गया। शिकारी को अहसास हुआ कि वह फंस गया है तो उसने बचने के लिए वन रक्षक को गोली (Gwalior Forest Guard Shot Case) मार दी। इसके बाद वह मौके से फरार हो गया। इस मामले में एक व्यक्ति का नाम सामने आया है। जिसकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है।

जानकारी के अनुसार गोली मारने का यह मामला सनकुआं के जंगल की है। इस जंगल में विशिष्ट प्रकार के बाज (Gwalior Special Hawk) मिलते है। जिसकी विश्व बाजार में मांग रहती है। जंगल की निगरानी के लिए वन रक्षक दीपू राणा उम्र 24 साल (Deepu Rana) तैनात थे। उन्हें सोमवार को सूचना मिली थी कि जंगल में बांस की कटाई हो रही है। यह जानकारी मिलने पर वह दो मजदूर हरदास शर्मा (Hardas Sharma) और राजू आदिवासी (Raju Adivasi) के साथ मौके पर पहुंचे। लेकिन, वहां उन्हें कटाई करते हुए नहीं मिला। इसी बीच गोली चलने की आवाज सुनाई दी। जिसको सुनने के बाद दीपू राणा (Deepu Rana Murder Case) उस तरफ चलने लगे। कुछ देर बाद उनका सामना शिकारी से हो गया। वह बाज का शिकार कर चुका था। उसको दीपू राणा (Deepu Rana Shot Dead) के साथ मौजूद मजदूरों ने पहचान लिया था। शिकारी का नाम रामकिशन मोंगिया (Poachers Ramkishan Mongiya) है जो रामपुरा गांव का रहने वाला है। उसने वन रक्षक से घिरा देखकर दीपू राणा को गोली मार दी। उसके बाद रामकिशन मोंगिया वहां से फरार हो गया। जख्मी दीपू राणा को मजदूरों की मदद से अस्पताल ले जाया गया। वन रक्षक को अस्पताल में इलाज मिलता उससे पहले उसकी मौत हो गई। पुलिस ने वनरक्षक की हत्या के मामले में प्रकरण दर्ज कर लिया है। आरोपी रामकिशन मोंगिया फिलहाल फरार बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Cheating Case: जाहिर सूचना के बाद महिला पहुंची थाने

अपील

देश वैश्विक महामारी से गुजर रहा है। हम भी समाज हित में स्पॉट रिपोर्टिंग करने से बच रहे हैं। इसलिए समाज और लोगों से अपील करते हैं कि यदि उनके पास भ्रष्टाचार, कालाबाजारी या जिम्मेदार अफसरों की तरफ से लापरवाही की कोई जानकारी या सूचना हैं तो वह मुहैया कराए। www.thecrimeinfo.com विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है। हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज www.thecrimeinfo.com के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!