Stamp Duty Scam: टैक्स चोर चार बिल्डरों पर कानूनी शिकंजा

Share

Stamp Duty Scam: सरकार को बिना स्टांप ड्यूटी चुकाए अपने खजाने को भरते रहे यह चार रसूखदार कॉलोनाइजर, पांच साल से धक्के खा रही थी फाइल, अब ईओडब्ल्यू ने मुकदमा दर्ज करने का लिया फैसला

Stamp Duty Scam
भोपाल स्थित आर्थिक प्रकोष्ठ विंग मुख्यालय

जबलपुर/भोपाल। मध्यप्रदेश में घोटालों को लेकर सरकार कितनी सख्त है उसकी बानगी उजागर हुई है। मामला जबलपुर विकास प्राधिकरण की जमीन बिक्री के बाद स्टांप ड्यूटी चुकाने से जुड़ा है। जिसकी जांच करने में ही जबलपुर कलेक्टर तीन साल लग गए। उसके बाद प्रकरण की नस्ती स्टांप ड्यूटी पंजीयक (Stamp Duty Scam) के साथ—साथ कार्रवाई के लिए जबलपुर ईओडब्ल्यू को पांच साल भेजी गई थी। यह प्रकरण जबलपुर विकास प्राधिकरण की स्कीम में खरीदी गई संपत्ति में से करीब डेढ़ करोड़ रूपए की स्टांप ड्यूटी न चुकाने से जुड़ा है। जिसकी जांच जबलपुर ईओडब्ल्यू 2017 से कर रही थी।

एक व्यक्ति की हो चुकी है मौत

आर्थिक प्रकोष्ठ विंग के अनुसार इस मामले में आरोपी शंकर मच्छानी (Shankar Machchani) , अमित धवन, किशोर कुमार, मनोज कुमार और अन्य बनाए गए हैं। यह एफआईआर 99/22 धारा 420/120—बी (जालसाजी और साजिश का मामला) 6 दिसंबर को दर्ज किया गया है। नेपियर टाउन जबलपुर निवासी शंकर मच्छानी मैसर्स कृष्णा बिल्डर्स एंड डेव्हलपर्स (MS Krishna Builders And Developers) के डायरेक्टर है। इसी तरह उत्तर प्रदेश के फैजाबाद निवासी अमित धवन (Amit Dhawan) श्रीजी प्रमोटर्स एंड डेव्हलपर्स के डायरेक्टर है। इधर, नेपियर टाउन जबलपुर निवासी किशोर कुमार बुधवानी (Kishore Kumar Budhwani) श्रीजी प्रमोटर्स एंड डेव्हलपर्स के डायरेक्टर हैं। जबकि उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर निवासी मनोज कुमार (Manoj Kumar) ओएसिस बिल्टमार्ट प्रायवेट लिमिटेड के डायरेक्टर हैं। जबलपुर ईओडब्ल्यू इस मामले की जांच 2017 से कर रहा था। जिसकी रिपोर्ट सरकार ने बनाकर कार्रवाई के लिए भेजी थी। इसी जांच रिपोर्ट में एफआईआर दर्ज करने में पांच साल बीत गए। इन सभी आरोपियों ने जबलपुर विकास प्राधिकरण की शताब्दीपुरम एमआर फोर रोड स्कीम में प्लॉट खरीदे थे। इस मामले से जुड़े एक व्यक्ति कीर्ति कुमार तिवारी (Kirti Kumar Tiwari ) के मौत होने की भी जानकारी सामने आई है।

ऐसे किया गया था फर्जीवाड़ा

श्रीजी प्रमोटर एंड डेव्हलपर्स जिसके डायरेक्टर अमित धवन है उन्होंने 6,62,46000 में जेडीए स्कीम में 7 हजार स्क्वायर फीट से अधिक का प्लॉट लिया था। यह खरीददारी प्रकाशित विज्ञापन के बाद लगाई गई बोली से हुई थी। जिसमें अमित धवन ने स्टांप ड्यूटी (Stamp Duty Scam) नहीं चुकाई। आरोपी ने ही आवंटित भूखंड में से कुछ जगह कीर्ति कुमार तिवारी को करीब पौने छह करोड़ में बेची थी। उसकी भी स्टांप ड्यूटी नहीं चुकाई गई। अमित धवन से ही शंकर मच्छानी ने मुस्कान प्लॉजा (Muskan Plaza) के छठवे फ्लोर पर फ्लैट लिया। उसकी भी स्टांप ड्यूटी नहीं चुकाई गई। इसके अलावा यशपाल जैन (Yashpal Jain) के साथ दुकान बेचने को लेकर हुए अनुबंध में भी स्टांप ड्यूटी चोरी पाई गई। ओएसिस बिल्ट मार्ट प्रायवे​ट लिमिटेड के डायरेक्टर मनोज कुमार ने भी करीब 16 लाख रूपए की स्टांप ड्यूटी चोरी की है। इन्हीं आरोपियों ने मिलकर करीब डेढ़ करोड़ रूपए की स्टांप ड्यूटी चोरी की। जिसका आरोपी भुगतान भी नहीं कर रहे थे। इसलिए मामले में अब एफआईआर दर्ज की गई है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Stamp Duty Scam
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   धनानी की काली कमाई से कई नेताओं की सांसे ऊपर-नीचे
Don`t copy text!