Pipariya Murder Case : 6 महीने से साजिश रच रहे थे रेत माफिया, ऑडियो वायरल

Share

पुलिस जांच में मिट्टी में बदल गई रेत, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का बयान

Pipariya Murder
सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन करते ग्रामीण

पिपरिया। (Pipariya) एकतरफ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) मंच से माफियाओं को धमका रहे है। दूसरी तरफ रेत माफिया घर में घुसकर लोगों की हत्याएं कर रहे है। मामला होशंगाबाद जिले के पिपरिया (Pipariya) से आया है। जहां दिनदहाड़े रेत माफिया एक ग्रामीण के घर में घुस गए। लाठी-बल्लम लेकर घुसे माफियाओं ने परिवार के चार सदस्यों पर जानलेवा हमला किया। महिला और 12 साल के बच्चे को भी नहीं छोड़ा। प्राणघातक हमले के बाद इलाज के दौरान चंदन सिंह कटकवार नाम के शख्स की मौत हो गई। इस मामले में पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि पिपरिया की घटना साबित कर रही है कि मुख्यमंत्री खोखली बातें करते है।

सुनिए सज्जन सिंह वर्मा को

YouTube video

ये है मामला

Pipariya Murder
चंदन सिंह कटकवार का शव

घटना पिपरिया के राईखेड़ी गांव की है। जहां रहने वाले चंदन सिंह कटकवार (Chandan Singh Katakwar) के भतीजे महेंद्र कटकवार का रेत माफियाओं से विवाद हुआ था। चूंकि अवैध रेत का उत्खनन करती ट्रैक्टर-ट्रालियां की वजह से ग्रामीणों का जीना दूभर हो गया है। लिहाजा महेंद्र का कहना था कि उसके घर के सामने और जमीन से ट्रैक्टर ट्रॉली न निकाली जाए। माफियाओं से बहस के बाद महेंद्र घर लौट गया। जिसके बाद माफियाओं की टोली उसके घर पहुंच गई। माफियाओं ने महेंद्र कटकवार, उसके चाचा चंदन सिंह कटकवार, सूरज कटकवार, गंगाबाई और 12 साल के बच्चे हल्के पर जानलेवा हमला कर दिया।

4 आरोपी गिरफ्तार

हमले में घायल चारों लोगों को पिपरिया के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। गंभीर चोटें होने की वजह से उन्हें होशंगाबाद रैफर कर दिया गया। दूसरी तरफ चंदन सिंह का बेटा दशरथ पिपरिया के स्टेशन रोड थाने पहुंचा। जहां आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए मिन्नतें करनी पड़ी। भगवान सिंह पटेल, कमलेश पटेल, सूरज पटेल, जनपद पटेल (राशन दुकान संचालक), आनंद पटेल, भरतजी पटेल, नाती पटेल, हल्के पटेल, शेखर पटेल के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया।

टीआई अजय तिवारी ने द क्राइम इन्फो को बताया कि सूरज गुर्जर, उसका भाई कमलेश पिता मदनलाल, रामकृष्ण और भरतजी पिता भगवान सिंह को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी भगवान सिंह राजपूत अस्पताल में एडमिट है। बाकि चार आरोपी आनंद, नाती, हल्के और एक अन्य फरार है। उनकी तलाश की जा रही है। टीआई अजय तिवारी ने ये भी बताया कि काउंटर मुकदमा दर्ज किया गया है। भगवान सिंह गुर्जर फरियादी है।

सड़क पर शव रखकर दिया धरना

Pipariya Murder
चौराहे पर आक्रोशित ग्रामीण

हमला 24 दिसंबर सुबह 11 बजे हुआ था। जिसमें गंभीर रूप से घायल चंदन सिंह राजपूत को होशंगाबाद के निजी अस्पताल अपना नर्मदा में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान 25 दिसंबर को तड़के 3 बजे उनकी मौत हो गई। जैसे ही ये खबर राईखेड़ी पहुंचे गांव में मातम छा गया और ग्रामीण आक्रोशित हो उठे। पोस्टमार्टम के बाद चंदन सिहं के शव को पिपरिया लाया गया। नाराज ग्रामीण मंगलवारा चौराहे पर पहुंच गए और सड़क पर शव रखकर धरना शुरु कर दिया। आरोपियों की गिरफ्तारी और रेत माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर करीब 4 घंटे तक शहर के मुख्य चौराहे पर प्रदर्शन चला।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: Pesticides डालने के लिए मुंह से खोला ढक्कन, इलाज में गई जान

पिपरिया एसडीओपी शिवेंदु जोशी, तीनों थानों के टीआई, तहसीलदार ने ग्रामीणों को समझाने की तमाम कोशिशें की। रेत माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई का मौखिक आश्वासन भी दिया। घंटों चले आंदोलन के बाद देर शाम ग्रामीण मान गए। जिसके बाद चंदन सिहं के शव को गांव ले जाया गया। खबर है कि शनिवार सुबह उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

12 महीने होता है कि अवैध खनन

प्रदेश में रेत खदानों की नीलामी को लेकर बीते करीब ढ़ाई साल से तमाम कवायदे चल रही है। प्रदेश में कुछ जगहों पर वैध और कई जगहों पर अवैध खनन जारी है। इन्हीं जगहों में से एक है पिपरिया। जहां किसी भी रेत खदान का ठेका नहीं हुआ। रॉयल्टी किसी के पास नहीं है, लेकिन 12 महीने रेत खनन होता है। ताजा मामला कोरनी नदी से अवैध उत्खनन से जुड़ा हुआ है। मामले में जब एसडीएम नितिन टाले से बात की गई तो उन्होंने द क्राइम इन्फो को बताया कि वें लगातार कार्रवाई करते रहते है।

भाजपा नेताओं पर गंभीर आरोप

चंदन सिंह कटकवार की हत्या के मामले में भाजपा नेताओं पर गंभीर आरोप लगे है। विधायक प्रतिनिधि अर्जुन चौहान और मंडल अध्यक्ष बलराम ठाकुर के भाई सूरज ठाकुर का नाम सामने आया है। ग्रामीणों का कहना है कि भाजपा नेताओं की शह पर ही रेत माफिया फल-फूल रहे है। ट्रैक्टर-ट्रालियों की अवैध कमाई थाने में जमा कराई जाती है। जिसके बाद उसकी बंदरबांट कर ली जाती है। राईखेड़ी समेत चार गांव के लोग कई बार प्रदर्शन कर चुके है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। लोगों का कहना है कि रेत के इस खेल में नेता, प्रशासन और पुलिस बराबरी के हिस्सेदार है।

मिट्टी में बदल गई रेत

राईखेड़ी के ग्रामीणों का कहना है कि चंदन सिंह की हत्या के पीछे की वजह रेत का अवैध उत्खनन है। लेकिन पुलिस की कहानी में मामला मिट्टी का है। टीआई अजय तिवारी ने द क्राइम इन्फो को बताया कि चंदन सिंह और भगवान की जमीन आस-पास है। भगवान सिंह के पक्ष के लोग मिट्टी खोद रहे थे। इसी बात को लेकर चंदन सिंह के पक्ष के लोगों का उनसे विवाद हुआ था। जिसके बाद मारपीट हो गई। वहीं भाजपा नेताओं के नाम सामने आने पर टीआई तिवारी का कहना है कि अर्जुन और सूरज का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है।

सीएम की सभा में थे आरोपी

हत्या के इस मामले में जिन भाजपा नेताओं का नाम सामने आ रहा है वो सीएम की सभा में थे। विश्वसनीय सूत्रों का कहना है कि जिस वक्त पिपरिया के चौराहे पर शव रखकर धरना चल रहा था। उस वक्त आरोपी भाजपाई बाबई में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सभा को सुन रहे थे। उसी सभा में जिसमें सीएम ने कहा है कि माफियाओं को 10 फीट जमीन में गाड़ दूंगा।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Harrasement Case: पति की हरकतों से तंग तीन पत्नियां पहुंची थाने

6 महीने से रच रहे थे साजिश

ये घटना अचानक नहीं हुई है। इसकी साजिश बीते 6 महीनों से रची जा रही थी। जिसकी पुष्टि इस ऑडियो में हो रही है। ऑडियो में आप रेत माफियाओं के बीच हुई बातचीत को साफ तौर पर सुन सकते है। रेत माफिया मृतक चंदन सिंह के भतीजे को एट्रोसिटी एक्ट में फंसाने की साजिश रच रहे थे। एक-दूसरे को छुरी मारकर झूठा मुकदमा दर्ज कराने की प्लानिंग कर रहे थे।

सुनिए माफियाओं की बात (बीच-बीच में गाली-गलौच होने की वजह से आवाज म्यूट की गई है)

YouTube video

आरक्षक का ‘आतंक’

पिपरिया के स्टेशन रोड थाने में पदस्थ आरक्षक शुभम दुबे चर्चाओं में बने रहते है। लोगों का कहना है कि रेत माफियाओं और शुभम दुबे की साठगांठ है। वसूली का काम शुभम ही करता है। इस संबंध में एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। द क्राइम इन्फो ने ये वीडियो एसडीओपी शिवेंदु जोशी को भेज दिया है।

देखें वीडियो

YouTube video

पहले भी हो चुके हादसे

कोरनी नदी से हो रहे इस अवैध उत्खनन से राईखेड़ी, पाली, सर्रा, लांझी, नंदवाड़ा गांव के लोग परेशान है। रेत माफियाओं की ट्रैक्ट्रर ट्रालियों का कहर ग्रामीणों पर टूटता रहा है। 2 साल पहले नीलेश पटेल नाम के युवक को ट्रैक्टर ने टक्कर मार दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। 4 मार्च को धर्मेंद्र पटेल नाम का युवक घायल अवस्था में मिला था। दूध बेचने वाले धर्मेंद्र को ट्रैक्टर ने टक्कर मार दी थी। अस्पताल ले जाने की बजाए माफियाओं ने उसे उठाकर झाड़ियों में फेंक दिया था। सुबह ग्रामीणों ने उसे अस्पताल पहुंचाया था। इन घटनाओं की रिकॉर्डिंग के लिए ग्रामीणों ने सीसीटीवी कैमरे लगा दिए थे। लेकिन उन्हें भी उखाड़कर फेंक दिया गया।

यह भी पढ़ेंः पिपरिया में आरोपियों से अधिकारियों का ये रिश्ता क्या कहलाता है

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।
Don`t copy text!