Hamidia Hospital Mishap: विधायक की धमकी…एफआईआर के लिए अभी थाने आया हूं, अब पीएम के सामने करूंगा प्रदर्शन

Share

Hamidia Hospital Mishap: हमीदिया हादसे को लेकर मुखर हुए​ विधायक आरिफ मसूद ने किया थाने का घेराव, एफआईआर दर्ज करने की मांग

Hamidia Hospital Mishap
कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद, फाइल फोटो

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के मध्य विधानसभा से कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने चेतावनी दी है। उन्होंने कहा है कि हमीदिया हादसे (Hamidia Hospital Mishap) के मामले में पुलिस एफआईआर दर्ज करें। ऐसा नहीं किया तो वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की यात्रा के दौरान प्रदर्शन करके विरोध जताएंगे। इससे पहले वे गुरुवार सुबह दर्जनों कार्यकर्ता के साथ कोहेफिजा थाने पहुंचे थे। यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग समेत हमीदिया अस्पताल के खिलाफ जमकर कांग्रेसी नेताओं ने नारेबाजी की।

एक तरफ सीएम तो दूसरी तरफ विधायक

जानकारी के अनुसार आरिफ मसूद अपने दर्जनों कार्यकर्ताओं के साथ दोपहर लगभग 12 बजे कोहेफिजा थाने पहुंचे थे। उस वक्त सीएम का काफिला दिल्ली जाने के लिए निकल रहा था। इस कारण करबला के पास ट्रैफिक रोका जा रहा था। उधर, मसूद समर्थक की भीड़ को देखने जमा मजमा के चलते वहां जाम जैसे हालत बन गए। तभी वहां सीएसपी नागेन्द्र पटैरिया पहुंचे। उन्होंने विधायक के साथ बातचीत करने के लिए उन्हें थाने बुलाया। इस दौरान कार्यकर्ता बाहर नारेबाजी करते रहे। विधायक दोषियों के खिलाफ एफआईआर की मांग कर रहे थे। विधायक का आरोप था कि प्रशासन ने सरकार के दबाव में आंकड़े छुपाए। उन्होंने कहा कि अगर एफआईआर नहीं हुई तो वे पीएम के सामने प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि नैतिकता के आधार पर इस मामले में कार्रवाई की जानी चाहिए।

मां अपने बच्चे की मौत से थी बेखबर

Hamidia Hospital Mishap
हमीदिया अस्पताल में तैनात सुरक्षा बल- File Photo

इधर, मामले को दबाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे है। मीडिया को भ्रम में डालने निलंबन और अफसरों को हटाने की कार्रवाई को प्रमुखता से बताया जा रहा है। जबकि इस पूरे मामले में दो अफसरों की भूमिका को नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है। सुल्तानिया अस्पताल में भर्ती कई मां अपनी कोख उजड़ने की जानकारी अभी नहीं जानती है। ऐसे ही एक मां सोनल मसाने है। उसने 8 नवंबर को बच्चे को जन्म दिया था। तबीयत बिगड़ने पर उसे कमला नेहरु अस्पताल भेजा गया था। उसी रात कमला नेहरु अस्पताल में हादसा हुआ था। हादसे के बाद बच्चे की मौत हुई थी। वह अपने बच्चे की मौत होने की बात को नहीं स्वीकार रही है। इसलिए मां और बच्चे का डीएनए टेस्ट किया जा रहा है। हमीदिया अस्पताल में हुए हादसे में 13 बच्चों के मौत की खबर है। जिसको सरकार अभी तक मना कर रही है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Woman Harassment Case: दहेज प्रताड़ना से जुड़े तीन मामले दर्ज

बच्चा गायब होने का लगाया आरोप

Bhopal News
हमीदिया हॉस्पीटल- File Photo

हमीदिया अस्पताल में स्थित एसएनसीयू वार्ड में 8 नवंबर को हुई आगजनी की घटना के बाद यह बात निकलकर आई थी कि अस्पताल में फायर सैफ्टी के इंतजाम ही नहीं थे। ऐसे में अब भोपाल सीएमएचओ ने सभी प्रायवेट अस्पतालों को इस संबंध में आदेश जारी किया है। सीएमएचओ कार्यालय से जारी आदेश में सभी अस्पतालों को एक सप्ताह में जवाब देने के लिए कहा गया है। ऐसा न करने पर रजिस्ट्रेशन निरस्त करने की चेतावनी दी गई है। इधर, खबर है कि एक बच्चा हमीदिया अस्पताल (Hamidia Hospital Mishap) से गायब है। जिसके संबंध में पुलिस से भी शिकायत की गई है। पुलिस ने अस्पताल प्रबंधन से तीन दिन में स्थिति साफ करने के लिए कहा है। जिस परिवार ने आरोप लगाया है वह बड़वई गांधी नगर में रहता है। पुलिस का कहना है कि रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई के संबंध में निर्णय लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: भोपाल के इस बिल्डर पर सिस्टम का ‘रियायती सैल्यूट’, परेशान हो रहे 100 से अधिक परिवार

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Hamidia Hospital Mishap
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: मंत्री ने अपने विधानसभा की सड़कों—नालियों पर खर्च करने भेजा प्रस्ताव
Don`t copy text!