Fisheries Company Scam: फिश फॉरच्यून कंपनी ने लगाई 23 लाख रुपए की चपत

Share

Fisheries Company Scam: गुरुग्राम की इस कंपनी ने मध्य प्रदेश के सैंकड़ों किसानों के साथ की धोखाधड़ी, ​भोपाल में चौथा मुकदमा दर्ज

Fisheries Company Scam
कंपनी की वेबसाइट से लिया गया चित्र

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की ताजा न्यूज फिश फॉरच्यून कंपनी के घोटाले (Fisheries Company Scam) से जुड़ी है। कंपनी के खिलाफ कोहेफिजा थाने में प्रकरण दर्ज हुआ है। हालांकि यह कंपनी के खिलाफ चौथा मुकदमा दर्ज हुआ है। जिसमें अब तक किसी भी मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई है। जबकि इस माफिया के खिलाफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) से लेकर कई अफसरों से शिकायत की जा चुकी है। फर्जीवाड़े की शिकार भाजपा की विधायक भी हुई है। द क्राइम इंफो ने इस कंपनी के खिलाफ मुहिम भी चलाई थी।

पहले भी दर्ज है मुकदमा

कोहेफिजा थाना पुलिस के अनुसार 3 सितंबर की रात लगभग नौ बजे धारा 420/409/34 (जालसाजी, गबन और एक से अधिक आरोपी) का केस दर्ज किया गया है। घटना की शुरुआत दिसंबर, 2020 से शुरु हुई थी। मामला फिश फार्मिंग के नाम पर फर्जीवाड़े का है। जिसका दफ्तर हलालपुरा स्थित सिटी बाग में था। शिकायत गीतांजली काम्पलेक्स निवासी निधि चौरसिया (Nidhi Chaurasia) ने दर्ज कराई है। इस मामले में आरोपी प्रहलाद शर्मा, राजेन्द्र सिंह राजपूत, विजेन्द्र कश्यप और विनय शर्मा (Vinay Sharma) हैं। आरोपियों ने किस्त में मछली पालन के नाम पर अनुबंध करके 23 लाख 36 हजार रुपए ऐंठ लिए। मामले की जांच एसआई आरपी सिंह (SI RP Singh) ने की है। जिन्होंने बताया कि अभी आरोपी फरार चल रहे हैं। जिनकी धरपकड़ के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: कार टकराने के बाद दो गुटों में हाथापाई

दर्जनों हैं पीड़ित

Fisheries Company Scam
कंपनी की वेबसाइट से लिया गया चित्र

जांच अधिकारी के अनुसार फिश फॉरच्यून नाम से कंपनी कारोबार करती थी। इसका सीएमडी विजेन्द्र कश्यप (Vijendra Kashyap) है जो गुरुग्राम का रहने वाला है। कंपनी के सीईओ विनय शर्मा हैं। एमपी का मुख्यालय यहां मॉल में खोला गया था। जिसके प्रभारी प्रहलाद शर्मा (Prahlad Sharma) थे। कंपनी के ग्रुप लीडर राजेन्द्र सिंह राजपूत (Rajendra Singh Rajput) थे। वे एजेंटों से रकम लेने का काम करते थे। कंपनी अलग—अलग योजना बताकर मछली उत्पादन में निवेश करने पर दुगना फायदा दिलाने का झांसा देते थे। एक प्लॉन में साढ़े पांच लाख तो दूसरे प्लॉन में 11 लाख रुपए वे ग्रामीणों से जमा कराते थे। पुलिस के पास अब तक तीन पीड़ित पहुंचे हैं। इनकी संख्या बढ़ने की संभावना पुलिस ने जताई है।

पुलिस पर राजनीतिक दबाव का आरोप

Fisheries Company Scam
कोहेफिजा थाना, जिला भोपाल—फाइल फोटो

इस मामले में दो अन्य पीड़ित जिंसी जहांगीराबाद निवासी फुरकान खान (Furkan Khan) और कोहेफिजा निवासी दानिश उल्ला फारुखी (Danish Ullah Faruqi) भी है। तीनों पीड़ितों से आरोपियों ने 23 लाख रुपए से अधिक का फर्जीवाड़ा किया है। फिश फॉरच्यून कंपनी ने विदिशा (Vidisha) से भाजपा की विधायक राजश्री सिंह (MLA Rajshri Singh) के साथ भी फर्जीवाड़ा किया था। जिसको लेकर कई जगहों पर शिकायत हुई थी। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलकर एक ज्ञापन भी सौंपा गया था। फिश फॉरच्यून कंपनी के इस घोटाले में पीड़ितों का आरोप है कि उन्हें राजनीतिक संरक्षण मिल रहा है। अगर ऐसा न होता तो आधा दर्जन से अधिक दर्ज किसी एक मुकदमे में आरोपी की गिरफ्तारी हो जाती।

पत्रकारिता हम पूछकर नहीं करते

Fisheries Company Scam
क्राइम ब्रांच थाना— फाइल फोटो

द क्राइम इंफो को इस संबंध में फरवरी, 2021 को सूचना मिली थी। जिसके बाद चार किस्त में मुहिम चलाकर इस फर्जीवाड़े (Fisheries Company Scam) का खुलासा किया गया था। फिश फॉरच्यून की तर्ज पर भोपाल में भी कई कंपनी खुल गई थी। फिश फॉरच्यून कंपनी के खिलाफ यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले क्राइम ब्रांच में प्रकरण दर्ज हुआ था। यह प्रकरण जुलाई, 2021 में दर्ज हुआ था। यह प्रकरण अभी भी ठंडे बस्ते में पड़ा हुआ है। इसमें नौ लोगों ने शिकायत की थी। एमपी नगर थाने में भी मछली पालन के नाम पर हुए फर्जीवाड़ा करने वाली कंपनी एडीसी के खिलाफ हमारी मुहिम के बाद दर्ज किया गया। अभी ऐसे कई पीड़ित न्याय के लिए अभी भी भटक रहे हैं।

यह भी पढ़ें:   Rajgarh Accident : तेज रफ्तार बस ने मारी बाइक को टक्कर, तीन की मौत एक घायल

यह भी पढ़िए: भोपाल के ‘विजय माल्या’ की कहानी, सिस्टम और सरकार उसके आगे नतमस्तक हैं, नहीं तो इतना सबकुछ होने पर भी वह नहीं बचता

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Fisheries Company Scam
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!