Bhopal Suicide Case: 12वीं में मिले 93 प्रतिशत अंक, फिर भी कर लिया सुसाइड

Share

Bhopal Suicide Case:परिवार पर चार महीने के भीतर फूटा दुखों का यह दूसरा पहाड़

Bhopal Suicide Case
सांकेतिक फोटो

भोपाल। (Bhopal Crime News In Hindi) जीवन में नंबर को बड़ों के साथ—साथ बच्चों ने आदर्श बना लिया है। हालांकि ऐसा होना नहीं चाहिए। पूरे देश में काबिलियत के अनुसार सिस्टम तैयार है। इसमें नंबर का कोई पैमाना नहीं होता। लेकिन, इसी नंबर गेम के सदमे में एक युवक फंदे पर झूल (Bhopal Suicide Case) गया। घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की है। इसमें चौका देने वाली घटना यह है कि जिस घर को यह दुख आया है, उसी घर में चार महीने पहले एक अन्य की मौत (Bhopal Death Case) हुई थी।

भेल में अधिकारी हैं पिता

अयोध्या नगर थाना पुलिस ने बताया कि तुषार खरे (Tushar Khare Hanging Case) पिता अनूप खरे उम्र 18 साल निवासी दुर्गेश विहार कॉलोनी में रहता था। अनूप बीएचईएल के बड़े अधिकारी है। उनके दो बच्चे थे। बेटी को 4 महीने पहले निमोनिया हुआ था। उसका काफी इलाज कराया था। लेकिन डॉक्टर उसे बचा नहीं पाए थे। उसकी मौत के बाद पूरा परिवार शोकाकुल था। मुश्किल से परिजन उसकी मौत से उभरने की कोशिश कर रहे थे। इसी बीच बेटे तुषार ने फांसी (Bhopal Tushar Khare Suicide Case) लगा ली। उसके हाल ही में कक्षा 12वीं के परिणाम आए थे। तुषार पढ़ने में होशियार भी था।

आठ दिन पहले आया था रिजल्ट

परिजनों ने बताया कि तुषार चुपचाप रहना पसंद करता था। सोमवार 13 जुलाई कोे 12वीं का रिजल्ट आया था। जिसमें कुषार्द 93 प्रतिशत अंक लेकर आया था। सोमवार रात उसने परिजनों के साथ खाना खाया था। जिसके बाद वह सोने चला गया था। मंगलवार सुबह 8 बजे परिजनों ने उसे आवाज दी थी। जब वह कमरे से बाहर नहीं आया तो कमरे में जाकर देखा था तुषार का शव खिलाड़ी के बाहर र्पोच से निकले ऐंगल मेंं रस्सी से झूल रहा था। पुलिस को घटना स्थल से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। परिवार शोकाकुल होने की वजह से पुलिस बयान दर्ज नहीं कर पाई है।

यह भी पढ़ें:   DPS School Bus की टक्कर से मौत

मां और भाई की देखभाल की जिम्मेदारी थी

खुदकुशी का दूसरा मामला बजरिया थाना क्षेत्र का है। यहां रिंकी नामदेव पति राजू रामदेव उम्र 27 साल निवासी करारिया फार्म ने फांसी लगाई है। रिंकी की शादी राजू से साढ़े चार साल पहले हुई थी। दोनों की एक बेटी भी है। रिंकी की ससुराल भानपुर में है। रिंकी के पिता की मौत के बाद वह पति के साथ मायके में रहने लगी थी। मां और छोटे भाई की देखरेख वही करती थी। पति आटो चलाने का काम करता है।

मरने से पहले पति को फोन

सोमवार शाम 6 बजे रिंकी ने फोन पर राजू से खाने का पूछा था। उससे बातचीत के बाद राजू ने कहा था वह जो सोच रही है बना ले। घटना के वक्त मां घर के बाहर बैठी थी। भाई भी दोस्तों के साथ घर से बाहर खेलने चला गया था। अचानक मां ने अंदर पहुंची तो रिंकी फंदे पर झूल रही थी। पुलिस ने मर्ग कायम कर शव पीएम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। फिलहाल आत्महत्या की कोई ठोस वजह पुलिस को पता नहीं चली है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: राजधानी के धार्मिक स्थल चोरों के टारगेट पर
Don`t copy text!