Betul Nurse Death Case : आरोपी सीएमएचओ मीटिंग ले रहे, पुलिस कह रही फरार है

Share

गंभीर मामले में पुलिस की सांठगांठ उजागर

Nurse Sushmita Singh Goutam
मृतक नर्स सुष्मिता सिंह गौतम और सीएमएचओ प्रदीप धाकड़, फाइल फोटो

बैतूल। मध्यप्रदेश के बैतूल (Betul) में संदिग्ध परिस्थितियों में हुई नर्स की मौत के मामले में पुलिस की साठगांठ उजागर हो गई है। बैतूल पुलिस आरोपी सीएमएचओ डॉ. प्रदीप धाकड़ (Dr. Pradeep Dhakad) को गिरफ्तार करने से बच रही है। धारा 304 ए के तहत दर्ज हुए मामले में सीएमएचओ (CMHO Pradeep Dhakad) की गिरफ्तारी होनी चाहिए। लेकिन पुलिस की नजर में सीएमएचओ फरार है। जबकि डॉ. प्रदीप धाकड़ जिला अस्पताल में ड्यूटी कर रहे है। डॉक्टरों की मीटिंग ले रहे है। इतना ही नहीं एक मामले में तो धाकड़ ने अस्पताल के गार्ड के खिलाफ कार्रवाई भी कर दी।

ये है मामला

CMHO Pradeep Dhakad
सुष्मिता सिंह गौतम, मृतका

11 अक्टूबर की रात शाहपुर-बैतूल रोड़ पर उड़दन इलाके में सीएमएचओ की कार एक नाले में जा गिरी थी। इस हादसे में इलाज के दौरान नर्स सुष्मिता सिंह गौतम की मौत हो गई थी। मामले ने काफी तूल पकड़ा। सवाल उठे की आधी रात को नर्स सुष्मिता, सीएमएचओ प्रदीप धाकड़ की गाड़ी में क्या कर रही थी ? चलिए इन सवालों पर खबर के अगले पार्ट में बात करेंगे। अगली कड़ी में हम आधी रात के काले सच का खुलासा करेंगे। लेकिन इस कड़ी में पुलिस कार्रवाई पर सवाल उठ रहे है। जानकारी के मुताबिक गाड़ी सीएमएचओ प्रदीप धाकड़ चला रहे थे, लिहाजा उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 304 ए के तहत कार्रवाई होनी चाहिए थी।

पुलिस रिकॉर्ड में फरार है आरोपी

नर्स सुष्मिता सिंह को बाबई के मानेगांव से लेने सरकारी बोलेरो गाड़ी गई थी। शाम करीब साढ़ें 7 बजे वो घर से निकली थी। जिसके बाद रास्ते में ही सुष्मिता की गाड़ी बदल गई। वो सीएमएचओ प्रदीप धाकड़ की गाड़ी में सवार हो गई। आधी रात में उड़दन के पास हादसा हुआ। इस मामले में एसपी सिमाला प्रसाद ने जांच कराने की बात कहीं थी। जांच का क्या हुआ, पता नहीं लेकिन एफआईआर घटना के तीन दिन बाद दर्ज हुई। जिसके बाद तो बैतूल पुलिस ने हद ही कर दी। आरोपी को गिरफ्तार करने की बजाए फरार बताया जा रहा है।

यह भी पढ़ें:   Covid—19 Effect: आईपीएस एसोसिएशन ने सभी एसपी के लिए लिखा पत्र

टीआई साहब मीडिया से पूछ रहे राइट्स

इस मामले की जानकारी लेने के लिए द क्राइम इन्फो ने बैतूल थाना टीआई संतोष पेंद्राम को फोन लगाया। टीआई ने पहले तो जानकारी देने से ही इनका कर दिया। संतोष पेंद्राम ने पत्रकार से ही पूछ लिया कि तुम्हें सवाल पूछने का हक किसने दिया। जिसके बाद जब टीआई साहब को पत्रकारिता के कर्तव्य का ज्ञान कराया गया तब वे कुछ बताने को राजी हुए। टीआई संतोष ने बताया कि मामले में सीएमएचओ प्रदीप धाकड़ के खिलाफ धारा 304 ए के तहत एफआईआर दर्ज है। फिलहाल गिरफ्तारी नहीं की जा सकी, क्यों कि आरोपी फरार है।

अखबार भी नहीं पढ़ते टीआई !

अब सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या टीआई संतोष पेंद्राम अखबार भी नहीं पढ़ते ? आज प्रमुख अखबारों के बैतूल संस्करण में जिला अस्पताल प्रबंधन की गंभीर लापरवाही की खबर प्रकाशित हुई है। खबर है कि अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के चलते गेट पर भी प्रसव हो गया है। खास बात ये है कि आरोपी सीएमएचओ प्रदीप धाकड़ का वर्जन भी छपा है। क्या टीआई साहब बताएंगे कि जिस आरोपी को वो फरार बता रहे है, वो अस्तपाल में ड्यूटी कैसे कर रहा है। ड्यूटी के साथ-साथ कार्रवाई कैसे कर रहा है।

यह भी पढ़ेंः आधी रात को सीएमएचओ की गाड़ी में क्या कर रही थी नर्स

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!