केशुभाई पटेल : जनसंघ से शुरु की पारी, 2012 में छोड़ दी थी भाजपा

Share

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन, लंबे समय से थें बीमार, 92 की उम्र में ली अंतिम सांस

Keshubhai Patel
केशुभाई पटेल, पूर्व मुख्यमंत्री, फाइल फोटो

अहमदाबाद। गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का 92 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। पटेल लंबे समय से बीमार चल रहे थे। हाल ही में वे कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे। हालांकि उन्होंने कोरोना को हरा दिया था। लेकिन गुरुवार सुबह अचानक उनकी तबियत बिगड़ गई। केशुभाई पटेल को अस्पताल ले जाया गया। जहां उन्होंने अंतिम सांस ली।

6 बार विधायक रहे

Keshubhai Patel
केशुभाई पटेल, पूर्व मुख्यमंत्री, फाइल फोटो

केशुभाई पटेल 1995 में गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे। 1998 से 2001 तक भी वे मुख्यमंत्री रहे थे। वें 6 बार विधायक रहे। 2012 में पटेल ने भाजपा छोड़कर गुजरात परिवर्तन पार्टी बना ली थी। लेकिन 2012 के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी। लिहाजा उन्होंने 2014 में अपनी पार्टी का भाजपा में विलय कर दिया।

कोरोना को हरा दिया था

पटेल का जन्म जूनागढ़ जिले के विसावदर कस्बे में 1928 को हुआ था। केशुभाई ने 1945 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सदस्यता ली। आरएसएस में वें प्रचारक बनाए गए थे। उन्होंने अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत जनसंघ से की थी। उनके बेटे भरत पटेल ने मीडिया को बताया कि हाल ही में केशुभाई ने कोरोना को हरा दिया था। लेकिन कोविड-19 का गहरा असर उनके शरीर पर हुआ था। जिससे वो उभर नहीं पाए। गुरुवार को तबियत बिगड़ने पर उन्हें अस्पताल ले जाया गया था। डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बाद भी उन्हें बचाया नहीं जा सका।

राष्ट्रपति ने दी श्रृद्धांजलि

केशुभाई पटेल श्री सोमनाथ ट्रस्ट के चेयरमैन भी थें। ये ट्रस्ट सौराष्ट्र के मशहूर सोमनाथ मंदिर को मैनेज करता है।पटेल के निधन पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने दुख जताया है। उन्होंने कहा कि पटेल का निधन से गुजरात को अपूर्णनीय क्षति हुई है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी ट्वीट कर श्रृद्धांजलि अर्पित की। प्रधानमंत्री मोदी ने भी दुख जताया।

यह भी पढ़ें:   Delhi Crime Video : टैम्पो चालक की पिटाई का विरोध कर रहे लोगों ने एसीपी को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा

यह भी पढ़ेंः कुत्ते की जंजीर से घोंट दिया गर्भवती पत्नी का गला

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!