INX Media Case : पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम की गिरफ्तारी का विरोध, सीबीआई दफ्तर का घेराव

Share

प्रदेश सचिव सूरज तिवारी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन, सीबीआई को बताया केंद्र सरकार की कठपुतली

भोपाल में सीबीआई दफ्तर के सामने प्रदर्शन

भोपाल। पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी (INX Media Case) के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए है। केंद्र सरकार पर बदले की कार्रवाई करने का आरोप लगाते हुए भोपाल में कार्यकर्ताओं ने विरोध जताया। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव सूरज तिवारी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने सीबीआई दफ्तर का घेराव किया।

सूरज तिवारी ने कहा कि सीबीआई. द्वारा जिस प्रकार से वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम को गिरफ्तार किया गया है उससे स्पष्ट होता है कि सीबीआई निष्पक्षता की बजाए राजनैतिक विद्वेष की भावना से प्रेरित होकर काम कर रही है। केंद्र सरकार की कठपुतली बनी हुई है।

तिवारी ने कहा कि चिदंबरम को जिस तरह गिरफ्तार किया गया वो गलत है। मामले में सुप्रीम कोर्ट 23 अगस्त को सुनवाई करेगा। ऐसे में चिदंबरम न तो भूमिगत हुए और न ही वे विदेश भागे। वह पूरी तरह जांच प्रक्रिया में सहयोग कर रहे है। इसके बावजूद सीबीआई का रवैया ठीक नहीं है। वे सीबीआई की तानाशाही का विरोध कर रहे है।

भोपाल स्थित सीबीआई के दफ्तर के घेराव में रोहित राजौरिया, जिला अध्यक्ष युवक कांग्रेस (ग्रामीण), विरेन्द्र मिश्रा-प्रदेश महासचिव एन.एस.यू.आई., गोपिल कोटवाल-अध्यक्ष एन.एस.यू.आई. (टेक्निकल), पंकज शर्मा, अभिमन्यु तिवारी (रवि) प्रदेश सचिव एन.एस.यू.आई,राजकमल शर्मा,नरेन्द्र बघेल,शामिल हुए।

बता दें कि केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) ने 15 मई, 2017 को एक एफआईआर दर्ज की थी। जिसमें आरोप था कि आईएनएक्स को फायदा पहुंचाने के लिए विदेशी निवेश को स्वीकृति देने वाले विभाग फॉरेन इनवेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) ने कई तरह की गड़बड़ियां की थीं। जिस वक्त कंपनी को निवेश की स्वीकृति दी गई थी, उस समय पी चिदंबरम वित्त मंत्री हुआ करते थे।

यह भी पढ़ें:   Contract Killer : गिरफ्तार आरोपी ने कबूली 11 हत्याएं, 80 लाख में ली थी नेता की सुपारी

वहीं इस मामले में कांग्रेस के तमाम नेताओं और चिदंबरम के बेटे कार्ति का कहना है कि देश अन्य मामलों से ध्यान हटाने के लिए ये सब किया जा रहा है। धारा 370 हटाए जाने से बिगड़े हालातों से ध्यान हटाया जा रहा है। वहीं देश की चौखट पर खड़ी मंदी पर कोई सवाल न पूछ ले इसलिए पूर्व वित्त मंत्री को झूठे केस में फंसाया जा रहा है।

Don`t copy text!