संसद में भी उमड़ा Pragya Thakur का Godse प्रेम, कांग्रेस आगबबूला, बचाव में उतरी भाजपा

Share

संसदीय कार्यमंत्री ने दी सफाई, बोले- प्रज्ञा तो स्वतंत्रता सेनानी उधम सिंह को देशभक्त बता रहीं थी

भाजपा सांसद और मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सांसद और मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी (Malegaon Bomb Blast Accused) प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) का गोडसे प्रेम (Godse Love) एक बार फिर उमड़ पड़ा। महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) को प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा में भी देशभक्त बता दिया। भोपाल (Bhopal) की सांसद प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे प्रेम की वजह से एक बार फिर कांग्रेस आगबबूला हो गई है। सोशल मीडिया पर प्रज्ञा ठाकुर के बयान की निंदा की जा रहीं है। वहीं संसद से निकलते वक्त प्रज्ञा ठाकुर मीडिया से बचती नजर आईं। उन्होंने मीडियाकर्मियों को ही सलाह दे दी कि वे पहले ठीक से सुने कि क्या कहा हैं, वे कल जवाब देंगी।

बुधवार को लोकसभा में एसपीजी संशोधन विधेयक पर चर्चा हो रही थी। उसी वक्त प्रज्ञा ने नाथूराम गोडसे का हवाला एक ‘देशभक्त’ के तौर पर दिया। सदन में जब द्रमुक सदस्य ए राजा (A Raja) ने चर्चा में भाग लेते हुए नकारात्मक मानसिकता पर गोडसे का उदाहरण दिया तो प्रज्ञा खड़ी हो गई और कहा कि ‘देशभक्तों’ का उदाहरण मत दीजिए।

यह भी पढ़ेंः प्रज्ञा ठाकुर ने कहा गोडसे देशभक्त, बीजेपी बोली हम सहमत नहीं

जिसके बाद कांग्रेस आग बबूला हो गई। कांग्रेस ने जमकर विरोध जताया। उसके सदस्य यह कहते हुए भी सुनाई दिए कि प्रज्ञा ठाकुर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संरक्षण प्राप्त है। इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी (Prahlad Joshi) प्रज्ञा ठाकुर को बैठने का इशारा करते नजर आए। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने कांग्रेस के सदस्यों को बैठने की अपील करते हुए कहा कि केवल ए राजा की बात ही रिकॉर्ड में जा रही है।

यह भी पढ़ें:   वीडियो में देखिए बदसलूकी का "वायरल" वीडियो "वॉर"

यह भी पढ़ेंः प्रज्ञा ठाकुर और सुनील जोशी हत्याकांड में क्या है कनेक्शन

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि प्रज्ञा ने विवादित बयान दिया हो। विवाद और कांडों से प्रज्ञा ठाकुर का पुराना नाता है। मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी और जमानत पर रिहा प्रज्ञा ठाकुर पहले भी नाथूराम गोडसे को महान बता चुकी है। वहीं मुंबई हमले में शहीद हुए आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे (Hemant Karkare) के बार में भी विवादित बयान दे चुकी है।

यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी कह चुके हैं कि वे दिल से कभी प्रज्ञा ठाकुर को माफ नहीं करेंगे

इस मामले में संदसीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर ने गोडसे या किसी और का नाम नहीं लिया। रिकॉर्ड पर ऐसा कुछ भी नहीं है। केवल इस तरह की खबरें फैलाना सही नहीं है। साथ ही कहा कि प्रज्ञा का माइक चालू नहीं था, उन्होंने उधम सिंह का नाम लिए जाने पर आपत्ति जताई थी। उसी वक्त उन्होंने ये बात समझाने की कोशिश भी की, साथ ही मुझे बताया भी था।

वहीं द्रमुक सांसद (DMK MP) और पूर्व केंद्रीय मंत्री ए राजा ने एक बार फिर दोहराते हुए कहा कि ‘जब मैंने कहा कि नाथूराम गोडसे ने गांधी की हत्या का क्रूर कार्य किया था, तो साध्वी प्रज्ञा ने खड़े होकर कहा कि वह देशभक्त थे’

यह भी पढ़ेंः महात्मा गांधी पर बयान देकर नप चुके ये नेता

मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता भूपेंद्र गुप्ता का बयान

महाराष्ट्र की महापराजय से ध्यान हटाने के लिये आया साध्वी का बयान- मध्यप्रदेश कांग्रेस के विचार विभाग के अध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता ने सांसद प्रज्ञा ठाकुर के संसद में गोडसे को देशभक्त बताने के बयान की निंदा की है । उन्होंने कहा कि यह प्रयास महाराष्ट्र में संविधान की जो धज्जियां उड़ाई गईं उसकी देश भर में निंदा हो रही है ।लोकनिंदा से ध्यान हटाने के लिये यह बयान दिलवाया गया प्रतीत हो रहा है।
महाराष्ट्र में सत्ता की पिपासा का जो प्रदर्शन भाजपा ने किया वह.देश भर में चर्चा का विषय बन गया है। इसी लोकनिंदा से बचने के लिये पोल शिफ्टिंग का यह रणनीतिक प्रयास है ताकि जो छुद्रता भाजपा ने प्रदर्शित की है उसकी जगह यह निंदा एक व्यक्ति पर केंद्रित हो जाये।गुप्ता ने कहा किंतु यह दुष्प्रयास सफल नहीं होगा। पूरा देश महाराष्ट्र में संविधान के चीरहरण से चिन्तित है।भाजपा नेत्री का बयान इसी चीरहरण का हिस्सा है।

यह भी पढ़ें:   '110 करोड़ के जैविक खेती घोटाले पर पीएमओ ने किया जवाब तलब'

मुख्यमंत्री कमलनाथ का ट्वीट

राष्ट्र पिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने पर भोपाल की भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर को दिल से कभी माफ़ नहीं करने की बात कहने वाले मोदी जी को अब लोकतंत्र के पवित्र मंदिर संसद में इसी बयान को दोहराने पर सांसद प्रज्ञा ठाकुर को क़तई माफ़ नहीं करना चाहिये।देश तो उन्हें इस बयान के लिये कभी भी माफ़ नहीं करेगा। भाजपा से देश अब यह जानना चाहता है कि वो गांधी जी के साथ है या गोडसे के साथ ? उन्हें अब यह स्पष्ट करना चाहिये। यदि वो गांधी जी के साथ है तो गांधी जी के हत्यारे को महिमा मंडित करने वालों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही अविलंब भाजपा को करना चाहिये।

Don`t copy text!