Gujrat Crime: सेठ कहता था सेठानी से प्यार करो, ऐसा किया तो नौकरी से निकाला

Share

आत्महत्या के एक मामले की जांच में हुआ खुलासा, सेठ के खिलाफ दर्ज हुआ मामला

 

Gujrat Crime
सांकेतिक चित्र

अहमदाबाद। गुजरात (#Gujrat Crime) में पांच महीने पहले हुई खुदकुशी (Gujrat Suicide) के एक मामले में चौंका देने वाला खुलासा हुआ है। खुदकुशी करने वाला एक व्यक्ति था जो मंडप डेकोरेशन (#Mandap Decoration) करने वाले सेठ के यहां नौकरी करता था। सेठ ने उससे पहले अपनी पत्नी से प्रेम प्रसंग के लिए कहा। जब उसने ऐसा किया तो शारीरिक संबंध भी बन गए। यह सारी बातें उसने सेठ को बताई लेकिन, सेठ ने उसको यह बताने पर नौकरी से निकाल दिया था। इसी कारण उसने आत्महत्या का कदम उठाया था। पुलिस की लंबी जांच के बाद यह खुलासा होने पर पुलिस ने सेठ के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कर लिया है।

घटना कुछ इस प्रकार है कि गोमतीपुर अबु कसाई की मेडावाली चाल में रहने वाला धीरज उर्फ निखिल परमार (Dheeraj @ Nikhil Permar) वासणा चंद्र नगर में स्थित महेंद्र भाई शाह के मणिभद्र सजावट नामक डेकोरेशन गोदाम में 9 हजार वेतन पर पिछले 10 महीने से नौकरी करता था। नौकरी देते समय सेठ ने कर्मचारी को पत्नी के साथ प्रेम जाल में फंसाने के लिए कहा था। पहले उसने इंकार किया लेकिन जब सेठ ने उसको नौकरी का लालच दिया तो वह तैयार हो गया। धीरज उर्फ निखिल की उम्र से दोगुनी उम्र की महिला को उसने सेठ के कहने पर फंसाया। प्रेम जाल में फंसाने के बाद सेठानी से उसके संबंध भी बने। इसके बाद सेठ ने अचानक को उसको नौकरी से निकाल दिया। धीरज ने 14 जुलाई 2019 को परिजनों को कहा था कि उसने नौकरी छोड़ दी है। परिजनो के पूछने पर धीरज ने अचानक नौकरी से निकालने पर परिजनों से झूठ बोला की सेठ उसे वेतन नहीं देता हैै।

यह भी पढ़ें:   Honey Trap Case: नेता का अश्लील वीडियो वायरल जिसमें वह दुनिया के सामने एक्सपोज हो गए

महेंद्र और सेठानी ज्योति बेन (Jyoti Ben) बिना किसी कारण उसके साथ सही से व्यवहार नहीं करते है। उसे अपशब्द कहते हैं। परिजनों ने बात सुनकर उसके यहां दोबारा काम करने से इंकार कर दिया था। परिजनों ने बताया कि दूसरे ही दिन महेंद्र का धीरज को व्यवसायिक काम के लिए राजस्थान भेजने के लिए फोन आया था। परिजनों के मना करने के बाद धीरज उसके साथ गया था। 20 जुलाई को उसने फांसी लगाकर आत्महत्या (Nikhil Suicide) कर ली। वासणा पुलिस ने मर्ग कायम करके मामले की जांच कर रही थी। मौत पर जांच की दिशा उस वक्त बदली जब परिजनों ने धीरज का मोबाइल सौंपा।

इस मोबाइल पर धीरज के परिजनों ने उसको खंगाला था। उसमें काफी चौकाने वाले मैसेज मिले थे। जिसमें धीरज ने उसके सेठ महेंद्र को मैसेज में लिखा था कि आपने जैसा कहा वैसा उसने वैसा किया। आपके कहने पर सेठानी ज्योति बेन को प्रेमजाल में फंसाया और प्रेम संबंध स्थापित किया। आपके कहने पर उसने नौकरी तक छोड़ दी थी। आपने वेतन दिए बगैर डायरी फाड़ दी। इसके बाद भी आप क्यों परेशान कर रहे है। यह सब पढ़ने के बाद धीरज के पिता अशोक भाई ने वासणा पुलिस को सूचना दी और धीरज के मोबाइल के मैसेज भी दिखाए थे। सूचना के बाद पुलिस ने महेंद्र और ज्योति बेन के खिलाफ एट्रोसिटी तथा धीरज को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कर लिया है।

Don`t copy text!