Human Story: महिला की मौत के बाद गर्भ में जीवन पाने नवजात का संघर्ष

Share

ट्रक ने मारी थी टक्कर, ऑपरेशन के बावजूद नहीं बच सकी नवजात की जान

Haryana Road Accident
सांकेतिक तस्वीर

हरियाणा। मेडिकल साइंस (Medical Science) को चुनौती देने वाला एक मामला सामने आया है। मामला सड़क दुर्घटना (Haryana Road Mishap) में हुई एक महिला की मौत (Accidental Death) से जुड़ा था। उसके गर्भ (Pregnancy) में नवजात जीवित (Newborn Alive) था। उसको सकुशल जन्म दिलाने के लिए चिकित्सकों ने काफी संघर्ष किया। लेकिन, 7 घंटे बाद नवजात ने दुनिया में आकर अपनी अंतिम सांसे ली। यह मार्मिक (Human Story) घटना हरियाणा राज्य की है।

जानकारी के अनुसार यह घटना सुबह 10.45 बजे अमरावती गेट (Amravati Gate) स्थित सूरजपुर के यू-टर्न पर हुई थी। यहां एक ट्रक ने बाइक को पीछे से टक्कर मार दी थी। बाइक पर दंपत्ती सवार थे जो टक्कर के बाद गिर गए थे। दुर्घटना (Road Accident) के बाद ट्रक चालक मौके से भाग गया था। जिसका पीछा करने के बाद उसको पकड़ा गया। हालांकि ट्रक से ड्राइवर कूदकर भाग गया। दुर्घटना में जख्मी तरसेम गांव अलीपुर टाउन (Alipur Town) थाना चंडी मंदिर निवासी सोनिया (Soniya) की मौके पर ही मौत हो गई थी। वह गर्भवती (Pregnant) थी जिसके गर्भ में नवजात जीवित था। लोगों की मदद से उसको अस्पताल पहुंचाया गया।

यहां चिकित्सकों को पति ने बताया कि उसे 25 नवंबर को डिलीवरी होनी थी। सोनिया को पति चंडीकोटला से अमरावती स्थित अस्पताल में आखिरी चेकअप कराने के लिए ले गया था। पत्नी के चैकअप में पता चला कि गर्भ में शिशु सुरक्षित है। उसकी डिलीवरी कराई गई। डिलीवरी में शिशु का सकुशल जन्म हुआ। जन्म के बाद परिवार में मातम था। दरअसल, उस वक्त परिवार सोनिया के शव को पोस्टमार्टम कराने के बाद उसको ले रहा था। चिकित्सकों ने नवजात को बचाने का काफी प्रयास भी किया। लेकिन, सात घंटे बाद उसने भी सांस छोड़ दी। पुलिस ने दुर्घटना के इस मामले में ट्रक जब्त कर लिया है। लेकिन, चालक फरार हो गया है।

यह भी पढ़ें:   Haryana Double Murder: मां—बेटी की निर्मम तरीके से हत्या
Don`t copy text!