Rajasthan Political Drama: प्रियंका और राहुल से सचिन पायलट की मुलाकात

Share

Rajasthan Political Drama: 32 दिनों से चला आ रहा घमासान थमने का संकेत

Rajasthan Political Drama
फाइल चित्र में बाएं से प्रथम सचिन पायलट, मध्य में प्रियंका गांधी वाड्रा और आखिर में राहुल गांधी

जयपुर। राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान (Rajasthan Political Drama) के बीच सोमवार को एक नया मोड़ आया है। यहां मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत (CM Ashok Gehlot) की कुर्सी 32 दिनों की खींचतान में उलझी हुई है। राजनीतिक उठापठक के बाद सोमवार को पहली बार सचिन पायलट (Sachin Piolet) की राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका वाड्रा (Priyanka Vadra) से मिले। दोनों नेताओं के बीच करीब दो घंटे बातचीत हुई। माना जा रहा है कि इस मुलाकात की पहल आलाकमान की तरफ से हुई थी। इससे सचिन पायलट का पार्टी में वापसी का रास्ता साफ हो सकता है। इस रास्ते के साथ ही राजस्थान का सियासी ड्रामा (Rajasthan Political Drama) थमने के पूरे आसार है।

सत्र से पहले मुलाकात

राजस्थान में 14 अगस्त से विधानसभा सत्र शुरु होने जा रहा है। इसलिए आलाकमान सचिन पायलट गुट को मनाने की कोशिश में लगा हुआ था। सचिन पायलट गुट के विधायक लगातार कह रहे हैं कि उनका विरोध पार्टी से नहीं है। विरोध मुख्यमंत्री गहलोत से है। कुछ कांग्रेस नेताओं ने न्यूज एजेंसियों को बताया कि सचिन पायलट लगातार आलाकमान के संपर्क में हैं। आलकमान ने कहा है कि राजस्थान समस्या का जल्द ही निपटारा हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: राजस्थान के संकट से मध्य प्रदेश में कैसे बिछने लगा था राजनीतिक समी​करण

कार्रवाई चाहता है गहलोत गुट

जैसलमेर मे रविवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई थी। जिसमें गहलोत गुट के कुछ विधायक बागी विधायकों पर कार्रवाई की मांग कर रहे थे। उन्होंने कहा कि ऐसे विधायकों पर आलाकमान को एक्शन लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें:   Bikaner Road Mishap: बीमारी मौत का बहाना बनकर आई

सुलह की यह तीन वजह

सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच हो रही सुलह की यह तीन वजह प्रमुख मानी जा रही है। इसमें पहली वजह विधायक-खरीद फरोख्त मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने फाइनल रिपोर्ट सौंप दी है। वहीं दूसरी वजह राष्ट्रद्रोह का मामला हटने से विधायकों को कुछ राहत मिली है। तीसरी वजह इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायक दल की बैठक में संकेत दिए थे कि आलाकमान का फैसला उन्हें मंजूर होगा।

मुख्यमंत्री ने विधायकों को लिखी भावुक चिठ्ठी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को सभी दलों के विधायकों को भावुक चिठ्ठी लिखी है। उन्होंने सभी से कहा है कि अपने अंर्तमन से पूछें, वो क्या कहता है उसके हिसाब से निर्णय लें। सरकार गिराने की साजिश का हिस्सा ना बनें। चिठ्ठी लिखने के कुछ ही देर बाद गहलोत जैसलमेर पहुंचे, वहां उनके अलग ही तेवर देखने को मिले। वे कहते है कि भाजपा विधायकों मे फूट पड़ गई है। इसलिए भाजपा अपने विधायकों को बाड़ेबंदी कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा की पोल खुल गई है वहां हार्स ट्रेडिंग कर रही है।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश, राजस्थान के बाद पंजाब में भी सांसद के बगावती सुर से आलाकमान हुआ हलाकान
खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Kerala : 5 वीं की बच्ची को सांप ने काटा, अस्पताल ले जाने की बजाए पिता का इंतजार करते रहे शिक्षक, मौत

 

Don`t copy text!