Insurance Scam Attempt: बीमा पाने के लिए दूसरे को मारकर पुलिस को दी सूचना

Share

पुलिस को शक नौकर को मारकर शव को जलाया, सस्पेंस और मर्डर मिस्ट्री की अनूठी कहानी, अभी भी कई राज जो उजागर होने बाकी हैं

 

Insurance Scam Attempt
सांकेतिक चित्र

अमृतसर। पैसों की लालच में लोग हद से ज्यादा गुजर जाते हैं। ऐसा ही एक मामला पंजाब (Punjab Crime) के अमृतसर (Amritsar Crime) से सामने आया है। यहां के तरनतारन गांव में एक व्यक्ति ने करोड़ों रुपए पाने के लिए एक खतरनाक साजिश रची। उसने बीमा (Fake Insurance Claim) की राशि पाने के लिए एक व्यक्ति को मारकर (Amritsar Murder) उसको अपनी लाश बता दिया। इस योजना में उस व्यक्ति के रिश्तेदारों ने भी सहयोग किया। लेकिन, फिल्मी तरीके (Movie Style Plan ) से बनाई गई यह कहानी पुलिस की तकनीकी जांच के सामने ज्यादा देर तक नहीं टिक सकी। पुलिस का दावा है कि अभी इस मामले में कई अन्य रहस्य उजागर होने बाकी है।

यह भी पढ़ें: देख की बड़ी सीबीआई एक बच्ची को तलाश नहीं कर पा रही, पढ़ें क्यों

पंजाब (#Punjab Crime) के अमृतसर (#Amritsar Crime) जिले के तरनतारन में हुई यह घटना किरतोवाल गांव की है। यहां गुरुवार को सड़क किनारे जली हुई लाश मिली थी। जिसकी पहचान 27 वर्षीय कारोबारी अनूप सिंह (Anoop Singh) के रूप में हुई। लेकिन, शुरूआती जांच में ही अनूप सिंह (#Anup Singh) जिंदा निकल आया। इस साजिश में उसने पिता और भाई को भी शामिल किया था। जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। वहीं अनूप फरार बताया जा रहा है। एसपी (देहात) जगजीत सिंह वालिया (SP Jagjeet Singh Waliya) ने बताया कि पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल शुरू की थी। जहां जला शव पड़ा था उसके नजदीक कार मिली थी। जिससे मामला अनूप सिंह (@Anup Singh) की तरफ घुम जाए। अनूप (#Anup Singh) के पिता ने बताया कि उनका बेटा बुधवार देर रात घर से दिल्ली जाने के लिए निकला था। उस वक्त पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी थी।

यह भी पढ़ें:   Haryana Crime: 19 की उम्र में पहली शादी, दो साल बाद दूसरी लड़की लेकर भागा

यहां से बदली पुलिस की जांच
गुरुवार सुबह जब लाश मिली थी तो पुलिस ने अनूप के पिता तरलोचन सिंह (Tarlochan Singh) को सुबह सवा सात बजे फोन पर सूचना दी। तरलोचन सिंह अपने दूसरे बेटे करणबीर सिंह के साथ लगभग चार घंटे बाद सवा 11 बजे घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस को पहला शक यही से हुआ। क्योंकि घर से अमृतसर की उस जगह जहां लाश मिली थी वहां पहुंचने में मात्र 45 मिनट का समय लगता है। लाश देखने के बाद तरलोचन सिंह और करणबीर (Karanveer Singh) के चेहरे पर कोई दुख का भाव नहीं दिखा तो पुलिस को शक होने लगा। पुलिस ने अनूप सिंह के मोबाइल फोन को ट्रेस किया तो उसकी लोकेशन हरियाणा में मिली। पुलिस ने शक के आधार पर तरलोचन सिंह और करणबीर सिंह को हिरासत में लेकर सख्ती दिखाई। इस सख्ती का असर हुआ और पूरा राज उजागर हो गया।

नौकर की है पुलिस को तलाश
अनूप सिंह के बीमा की राशि ( Cheating Insurance Claim) के लिए अपनी मां मनप्रीत कौर (Manpreet Kour) को नॉमिनी बनाया था। इस राशि के लिए ही यह सब साजिश रची गई।पुलिस अनूप सिंह की गिरफ्तारी के लिए छापे मारी रही है। इसमें परिवार का कौन-कौन सदस्य शामिल था और अनूप सिंह ने किसको जिंदा जलाया है इसकी जांच हो रही है। अनूप के परिवार के पास एक युवक काम करता था। उसका कोई संबंधी भी नहीं है। पुलिस सूत्रों के अनुसार अनूप ने उसी नौकर को मारकर अपनी लाश बताने का तानाबाना बुना था। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि होना अभी बाकी है।

Don`t copy text!