Bhopal Bike Snatch: एक बाइक 5 लोगों में बिकी, छठवें ने इसलिए दे दी

Share

Bhopal Bike Snatch: लूट की वारदात में आरोपी पकड़ने के बाद आया अब ऐसा पेंच

Bhopal Bike Snatch
सांकेतिक चित्र

भोपाल। पुलिस में लूट (Bhopal Bike Snatch) की वारदात को काफी संगीन माना जाता है। वारदात मारपीट के साथ हो तो सवाल गश्त पर उठने लगते हैं। यह रोचक मामला मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Crime News) का है। इसमें लुटेरे बाइक पर सवार दो व्यक्ति थे। जिसके साथ वारदात हुई वह सरकारी कर्मचारी भी था। लेकिन, उसने पुलिस की जरुर मदद कर दी। पुलिस को भी लगा कि बाइक नम्बर आ गया है तो लुटेरे (Bhopal Loot Case) हत्थे लग ही जाएंगे। पुलिस बाइक नम्बर से कड़ियां सुलझाती चली गई। जैसी ही उसके सामने परिणाम आये तो अफसरों ने माथा पीट लिया।

दिनभर डालते रहे पर्दा

घटना भोपाल के देहात क्षेत्र में स्थित ईंटखेड़ी थाना क्षेत्र के हिनोतिया जोड़ की है। शिकायत ऐशबाग स्थित अप्सरा टाकीज के पास रहने वाले धीरेंद्र प्रताप सिंह राजपूत (Dhirendra Pratap Singh Rajput) ने दर्ज कराई। वह बैरसिया तहसील कार्यालय में नौकरी करता है। इसके लिए वह भोपाल से आना जाना करता है। मंगलवार रात घर आते वक्त उसकी बाइक दो लूटेरों ने छीन ली थी। इससे पहले उसके साथ बहुत बुरी तरह से मारपीट की गई। एफआईआर (Tehsil Babu Se Loot) दर्ज होने के बावजूद पुलिस मामले का खुलासा करने से बचती रही। तह में जाकर तहकीकात की गई तो वह पुलिस के संघर्ष के रूप में सामने आया। जिसको बताने में पुलिस को पसीना आ रहा था।

इसलिए आया खुलासा करने में पसीना

पुलिस बाइक नम्बर के आधार पर सबसे पहले भोपाल के शाहजहांनाबाद पहुँची। बाइक नगर निगम कॉलोनी निवासी शाकिब खान (Shakib Khan) के नाम पर थी। उसने बताया कि वह 2014 में बाइक इटारसी में रहने वाले राहुल महाला (Rahul Mahala) को बेच चुका है। राहुल से पूछताछ हुई तो उसने बताया कि बाइक को वह भोपाल के मीनाल रेसीडेंसी निवासी धीरज कुमार सोनी (Dheeraj Kumar Soni) को बेची है। पुलिस की एक अन्य टीम धीरज के पास पहुँची। उसने कहा यह बाइक वह रोशनपुरा में रहने वाले मोहम्मद अरबाज (Mohmmed Arbaaj) को बेच चुका है। ऐसा करते पुलिस पूरी तरह से थक चुकी थी।

यह भी पढ़ें:   Honor Killing : प्रेमी जोड़ों के साथ दीवार बनकर खड़ी होगी कमलनाथ सरकार, सेफ हाउस में मिलेगी पनाह

यह भी पढ़ें: हसीन महिला के लटके झटके में ऐसे फंस गया दूल्हा

इसलिए तहसील के कर्मचारी को पीटा

रोशनपुरा में अरबाज ने बताया कि यह बाइक एक महीने पहले नीलेश पाटील (Neelesh Patil) को बेची है। नीलेश ने पूछताछ में बताया कि मंगलवार शाम बाइक उससे छोला इलाके में रहने वाला दोस्त अमन सेन (Aman Sen) ले गया था। अमन को हिरासत में लिया गया तो लूट में इस्तेमाल बाइक उसके कब्जे से मिली। उसने बताया कि उसके साथ बाल अपचारी था। उससे लूटी हुई बाइक मिली। दोनों में बताया कि उनका धीरेंद्र प्रताप सिंह राजपूत से उनका विवाद हुआ था। इस कारण उससे मारपीट के बाद बाइक छीनी गई थी।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!